पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61871.580.92 %
  • NIFTY18513.050.95 %
  • GOLD(MCX 10 GM)478990 %
  • SILVER(MCX 1 KG)629570 %
  • Business News
  • Sugar Production Will Decrease In The Next Season, More Ethanol Will Be Made For Fuel

किसानों का सिर्फ 9,000 करोड़ का बकाया:अगले शुगर सीजन में घटेगा चीनी का उत्पादन, बनाया जाएगा ज्यादा एथनॉल

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अगले शुगर सीजन में 3.05 करोड़ टन रह सकता है उत्पादन, इस सीजन में 3.1 करोड़ टन तक रहने का अनुमान

शुगर सीजन 2021-22 में चीनी का उत्पादन मामूली गिरावट के साथ 3.05 करोड़ टन रह सकता है। दरअसल अगले शुगर सीजन में एथनॉल उत्पादन के लिए ज्यादा गन्ने का इस्तेमाल होने की संभावना है। यह बात खाद्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव सुबोध कुमार सिंह ने कही है। उनके मुताबिक, मौजूदा शुगर सीजन यानी 2020-21 में चीनी का उत्पादन 3.1 करोड़ टन तक जा सकता है।

गन्ना किसानों को मिला 83,000 करोड़ का बकाया

सिंह के मुताबिक, इस शुगर सीजन में गन्ना किसानों को 91,000 करोड़ रुपए का भुगतान किया जाना था। इसमें से लगभग 83,000 करोड़ रुपए का बकाया अदा किया जा चुका है, जबकि 9,000 करोड़ रुपए का बकाया रह गया है। इसमें से कुछ रकम का भुगतान अगले एक महीने में हो सकता है। शुगर सीजन अक्टूबर से सितंबर तक चलता है।

अगले सीजन में 3.05 करोड़ टन उत्पादन का अनुमान

सिंह ने कहा, 'गन्ने की फसल इस साल कुल-मिलाकर अच्छी रही है। अगले शुगर सीजन में एथनॉल बनाने में ज्यादा गन्ना इस्तेमाल हो सकता है। इसके चलते शुगर सीजन 2022-21 में चीनी का उत्पादन थोड़ी गिरावट के साथ 3.05 करोड़ टन रह सकता है।' गौरतलब है कि ब्राजील के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा चीनी उत्पादक देश है।

2021-22 में एथनॉल बनाने में लगेगा डबल गन्ना

इस सीजन में 20 लाख टन जबकि अगले सीजन में 35 लाख टन चीनी उत्पादन लायक गन्ना एथनॉल बनाने में लगाया जाएगा। सिंह ने कहा कि लेकिन चीनी का उत्पादन घरेलू खपत की जरूरत पूरी करने के लिए काफी होगा। चीनी की घरेलू खपत अगले सीजन में तीन-चार लाख टन बढ़कर 2.63 से 2.65 करोड़ टन रह सकती है। इस सीजन में इसके 2.6 करोड़ टन रहने का अनुमान है।

अगले सीजन में हो सकता है 70 लाख टन का निर्यात

सिंह का कहना है कि इस सीजन की 90-95 लाख टन चीनी बचने और अगले सीजन में 3.05 करोड़ टन का उत्पादन होने के अनुमान को देखते हुए 2021-22 में कुल उपलब्धता 3.95 करोड़ टन से 4 करोड़ टन के बीच रह सकती है। अगले सीजन में घरेलू खपत 2.65 करोड़ टन रहने और 70 लाख टन का निर्यात होने का अनुमान है जिससे सीजन के अंत में 60-65 लाख टन चीनी बची रह सकती है।

खबरें और भी हैं...