पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Sensex Opened At 53070 With A Fall Of 1138 Points, Nifty Slipped 323 Points, Shares Of Tech Mahindra And Infosys Fell

शेयर मार्केट:सेंसेक्स 1416 पॉइंट की गिरावट के साथ 52792 पर बंद, निफ्टी 430 अंक फिसला; ITC तीन साल के हाई लेवल पर पहुंचा

मुंबई7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सेंसेक्स और निफ्टी हफ्ते के चौथे कारोबारी दिन गुरुवार को भारी गिरावट देखी गई। आज सेंसेक्स 1416 पॉइंट की गिरावट के साथ 52,792 पर और निफ्टी 430 अंक फिसलकर 15,809 पर बंद हुआ। आज सबसे ज्यादा गिरावट मेटल और IT के शेयर्स में रही। सेंसेक्स में टेक महिंद्रा, इंफोसिस, बजाज फाइनेंस और विप्रो में गिरावट है। वहीं ITC आज 3 साल के हाई लेवल पर पहुंचा। इसके शेयर BSE पर 8.9 रुपए या 3.73% बढ़कर 276.45 पर पहुंच गए।

सेंसेक्स 1,138 पॉइंट की गिरावट के साथ 53,070 पर खुला था जबकि निफ्टी 323 अंक फिसलकर 15,917 पर खुला था। इसने 53,356 का ऊपरी और 52,669 का निचला स्तर बनाया।

सेंसेक्स के 30 शेयर्स में से 2 में बढ़त और 28 में गिरावट रही।
सेंसेक्स के 30 शेयर्स में से 2 में बढ़त और 28 में गिरावट रही।

BSE के मिडकैप और स्मॉलकैप में भी गिरावट रही

BSE का मिडकैप 602 पॉइंट की गिरावट के साथ 22,069 पर बंद हुआ। ​​​​​​

BSE के मिडकैप में 12 शेयर्स में बढ़त जबकि 18 में गिरावट है।
BSE के मिडकैप में 12 शेयर्स में बढ़त जबकि 18 में गिरावट है।

BSE का स्मॉलकैप 603 पॉइंट की बढ़त के साथ 25,801 पर बंद हुआ। ​​​​​

BSE के स्मॉलकैप में 20 शेयर्स में बढ़त जबकि 10 में गिरावट है।
BSE के स्मॉलकैप में 20 शेयर्स में बढ़त जबकि 10 में गिरावट है।

सभी 11 सेक्टोरल इंडेक्स में गिरावट
निफ्टी के सभी 11 सेक्टोरल इंडेक्स में गिरावट रही। आज सबसे ज्यादा गिरावट 5.74% की IT इंडेक्स में रही। इसके बाद 4.08% से की गिरावट मेटल में रही। मीडिया में 3.74% की गिरावट रही। वहीं 2% से ज्यादा गिरावट वाले इंडेक्स में PSU बैंक, बैंक, ऑटो, फाइनेंशिल सर्विस, FMCG , फार्मा, प्राइवेट बैंक और रियल्टी में रही।

रुपया भी हुआ कमजोर
शेयर बाजार के अलावा आज डॉलर के मुकाबले रुपए में भी बड़ी गिरावट देखने को मिली है। डॉलर के मुकाबले रुपया 10 पैसे टूटकर 77.72 पर बंद हुआ।

इन्वेस्टर FMCG और फार्मा जैसे सेक्टर में कर सकते हैं फोकस
जियोजीत फाइनेंशियल के रिसर्च हेड विनोद नायर का कहना है कि महंगाई बढ़ने से अमेरिकी बाजार में गिरावट देखने को मिली। विदेशी इन्वेस्टर के लगातार बिकवाली से भारतीय बाजार पर जबरदस्त प्रभाव पड़ा। तेजी से उतार- चढ़ाव वाले मार्केट में इन्वेस्टर FMCG और फार्मा जैसे सेक्टर में फोकस कर सकते हैं। लॉन्ग टर्म बेसिस पर इनके वैल्युएशन मॉडरेट और रिजनेबल हैं।