पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX48690.8-0.96 %
  • NIFTY14696.5-1.04 %
  • GOLD(MCX 10 GM)475690 %
  • SILVER(MCX 1 KG)698750 %
  • Business News
  • Citi Bank, Credit Card Business, State Bank Of India, SBI, HDFC Bank, RBL Bank, IDFC First Bank

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रिटेल बैंकिंग से बाहर निकलेगा सिटी बैंक:22 हजार करोड़ के क्रेडिट कार्ड कारोबार को खरीदने की कतार में SBI समेत कई प्राइवेट बैंक

नई दिल्ली25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भारत के रिटेल कारोबार से बाहर निकलने के फैसले से पहले सिटी बैंक ने ब्रांच कारोबार में कमी लानी शुरू कर दी थी। इसके अलावा क्रेडिट कार्ड अधिग्रहण और टाई-अप्स में भी कमी कर दी थी।
  • कभी क्रेडिट कार्ड खर्च में टॉप पर था सिटी बैंक
  • अब कार्ड मार्केट में सिटी बैंक की 2.7% हिस्सेदारी

अमेरिका के सिटी बैंक ने भारत के इंटरनेशनल कंज्यूमर बैंकिंग मार्केट से बाहर निकलने का फैसला किया है। देश में क्रेडिट कार्ड कारोबार को बढ़ाने की राह देख रहे प्राइवेट बैंकों के लिए यह एक सुनहरा अवसर है। पेंमेंट इंडस्ट्री से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) की कार्ड सब्सिडियरी SBI कार्ड समेत कई प्राइवेट बैंक सिटी बैंक के क्रेडिट कार्ड कारोबार को खरीदने की कतार में शामिल हैं। इस खबर के सामने आने के बाद शुक्रवार को बीएसई में SBI कार्ड के शेयर 7.5% का उछाल देख गया।

HDFC बैंक को नहीं मिलेगा लाभ

पेमेंट इंडस्ट्री से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, देश में क्रेडिट कार्ड कारोबार से HDFC बैंक की सबसे बड़ी हिस्सेदारी है। लेकिन भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की ओर से लगाए गए नए ग्राहक जोड़ने संबंधी प्रतिबंधों के कारण HDFC बैंक सिटी ग्रुप के क्रेडिट कार्ड कारोबार को खरीदने की दौड़ में शामिल नहीं हो पाएगा। मैक्वायर कैपिटल रिसर्च के एनालिस्ट सुरेश गणपति के मुताबिक, सिटी बैंक अपने सभी कारोबारी सेगमेंट को अलग अलग बेच सकता है। कई बैंक कार्ड बिजनेस की खरीदने के इच्छुक हैं। गणपति के मुताबिक, RBL, IDFC फर्स्ट बैंक जैसे छोटे बैंक सिटी बैंक के क्रेडिट कार्ड कारोबार को लेकर ज्यादा आक्रामक हो सकते हैं।

कभी क्रेडिट कार्ड खर्च में टॉप पर था सिटी बैंक

क्रेडिट कार्ड खर्च में सिटी बैंक कभी टॉप पर था। लेकिन पिछले कुछ सालों में बैंक ने अपनी मार्केट हिस्सेदारी खो दी है। भारत के रिटेल कारोबार से बाहर निकलने के फैसले से पहले सिटी बैंक ने ब्रांच कारोबार में कमी लानी शुरू कर दी थी। इसके अलावा क्रेडिट कार्ड अधिग्रहण और टाई-अप्स में भी कमी कर दी थी। हालांकि, बैंकर्स का कहना है कि सिटी बैंक का क्रेडिट कार्ड पोर्टफोलियो अच्छी क्वालिटी का है। बैंक के पास हाई नेट वर्थ वाले ग्राहकों की अच्छी संख्या है। यही कारण है कि सिटी बैंक का औसत कार्ड खर्च इंडस्ट्री के औसत से ज्यादा है। बैंकर्स का अनुमान है सिटी बैंक के क्रेडिट कार्ड का पोर्टफोलियो करीब 22 हजार करोड़ रुपए का है।

क्रेडिट कार्ड मार्केट में किसकी कितनी हिस्सेदारी?

ग्रुपहिस्सेदारी
HDFC15.3%
SBI कार्ड11.6%
ICICI बैंक10.2%
एक्सिस बैंक6.9%
RBL2.9%
सिटी बैंक2.7%
कोटक2.4%
अमेक्स1.6%

भारत में सिटीबैंक के 25 लाख ग्राहक

देश में सिटी बैंक की करीब 35 ब्रांच हैं। इनमें लखनऊ, अहमदाबाद, औरंगाबाद, बेंगलुरु, चंडीगढ़, फरीदाबाद, गुरुग्राम, जयपुर, कोच्चि, कोलकाता, मुंबई, नागपुर, नासिक, नई दिल्ली, पुणे, हैदराबाद और सूरत जैसे शहरों की ब्रांच शामिल हैं। कंज्यूमर बिजनेस बैंकिंग में इसके करीब 4 हजार लोग काम करते हैं। देश में बैंक के करीब 25 लाख ग्राहक हैं। हालांकि, सिटीग्रुप ग्लोबल कंज्यूमर बैंकिंग बिजनेस में सिंगापुर, हॉन्गकॉन्ग, लंदन और UAE मार्केट में कारोबार जारी रखेगा। जबकि चीन, इंडिया और 11 दूसरे रिटेल मार्केट कारोबार समेटेगा।

1902 में भारत आया था सिटी बैंक

भारत में सिटी ग्रुप की एंट्री 1902 में हुई थी और इसने कंज्यूमर बैंकिंग कारोबार 1985 में शुरू किया था। अब सिटी बैंक ने 13 इंटरनेशनल मार्केट से बाहर निकलने की योजना बनाई है। सिटी ग्रुप अब वेल्थ मैनेजमेंट कारोबार पर फोकस करने की तैयारी में है। सिटी बैंक जिन एशियाई बाजारों से निकल रहा है, वहां से 2020 में ग्लोबल कंज्यूमर बैंकिंग बिजनेस से कंपनी को 6.5 अरब डॉलर की इनकम हुई थी। 2020 के अंत तक ग्रुप की 224 रिटेल ब्रांच और 123.9 अरब डॉलर का डिपॉजिट रहा था।