पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Rbi repo rate reserve bank of india focus on policy, December Policy, Shaktikanta Das, Reserve Bank Of India

रिजर्व बैंक की मीटिंग शुरू:रेट को जस का तस रख सकता है RBI, देखो और इंतजार करो की रणनीति

मुंबई5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की वजह से भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) रेट को जस का तस रख सकता है। सेंट्रल बैंक देखो और इंतजार करो की रणनीति अपना सकता है। उसने इसी तरह का रवैया कोरोना के दौरान अपनाया था।

कोई बदलाव नहीं होगा दरों में

देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के मुख्य अर्थशास्त्री सौम्यकांति घोष कहते हैं कि RBI दरों में कोई बदलाव नहीं करेगा। आज से इसकी मीटिंग शुरू हुई है। अंतिम फैसला 8 दिसंबर को आएगा। इसमें दरों पर फैसला किया जाएगा। हालांकि कोरोना के बाद स्थितियां संभल रही थीं और धीरे-धीरे उन सभी उपायों को वापस लिया जा रहा था, जो पहले शुरू किए गए थे।

ओमिक्रॉन से अलर्ट पर देश

अब फिर से ओमिक्रॉन ने अलर्ट पर ला दिया है। भारत के मामले में कहें तो इसके लिए अच्छा यह है कि तकरीबन 125 करोड़ लोगों को वैक्सीन लग चुका है। ऐसे में भारत भविष्य में अच्छी तैयारी इस बीमारी से निपटने के लिए कर सकता है। घोष कहते हैं कि हमारा मानना ​​​​है कि MPC बैठक में रिवर्स रेपो दर में बढ़ोतरी की बातचीत समय से पहले हो सकती है, क्योंकि RBI मोटे तौर पर दरों में बढ़ोतरी और बाजार के शोर-शराबे के बिना अब तक मामले को संभालने में सक्षम रहा है।

2016 के संशोधित RBI एक्ट की धारा 45Z (3) में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) महंगाई के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आवश्यक पॉलिसी रेट निर्धारित करेगी। RBI केवल MPC में रिवर्स रेपो रेट पर कार्य करने के लिए बाध्य नहीं है।

रिजर्व बैंक ने संतुलन वाला काम किया है

घोष ने कहा कि हमारा मानना ​​है कि महामारी के बाद से, RBI ने संतुलनकारी कार्य किया है। हमें याद रखना होगा कि महामारी अभी खत्म नहीं हुई है। उधर, अमेरिकी फेडरल रिजर्व बैंक ने बांड टेपरिंग कार्यक्रम में तेजी लाने का संकेत दिया है। इससे यह अनुमान से पहले समाप्त हो गया है। रेट्स में बढ़ोतरी भी जल्द हो सकती है। जब तक ओमिक्रॉन, डेल्टा की तुलना में अधिक घातक साबित नहीं होता, यह बदले में डॉलर के मजबूत होने और रुपए के मूल्य में कमी के दबाव का संकेत देगा।

रेपो रेट जस का तस रह सकता है

हालांकि कोटक महिंद्रा असेट मैनेजमेंट की मुख्य निवेश अधिकारी लक्ष्मी अय्यर कहती हैं कि हमें उम्मीद है कि रिजर्व बैंक 15-20 bps यानी 0.15-0.20% की बढ़त रिवर्स रेपो में कर सकता है। बैंक रिवर्स रेपो और रेपो रेट के अंतर को कम करने की कोशिश करेगा। हालांकि रेपो रेट को जस का तस ही रखा जाएगा, क्योंकि ओमिक्रॉन का असर इस समय तेजी से दुनिया भर में दिख रहा है।

क्या है रिवर्स रेपो

रिवर्स रेपो उसे कहते हैं, जिसके तहत बैंक अपनी ज्यादा नकदी को रिजर्व बैंक के पास जमा कराते हैं। इस पर रिजर्व बैंक ब्याज देता है। इसकी दर अभी 3.35% है। रेपो रेट उसे कहते हैं जिस दर पर RBI से बैंक कर्ज लेते हैं। इसकी दर 4% है। यह दोनों मामले काफी कम समय 24 घंटे या फिर 2-3 दिन के लिए होते हैं। रिजर्व बैंक ने अंतिम बार मई 2020 में रेट में कमी की थी। उसके बाद से अभी तक रेट को जस का तस रखा गया है। अप्रैल 2001 के बाद यह सबसे कम दर है।

खबरें और भी हैं...