पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX44618.04-0.08 %
  • NIFTY13113.750.04 %
  • GOLD(MCX 10 GM)489731.36 %
  • SILVER(MCX 1 KG)629993.96 %
  • Business News
  • RBI Imposed A Penalty Of Rs 10 Lakh On Muthoot Finance And Rs 5 Lakh On Manappuram Finance

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कार्रवाई:RBI ने मुथूट फाइनेंस पर 10 लाख रुपए और मनप्पुरम फाइनेंस पर 5 लाख रुपए की पेनाल्टी लगाई

नई दिल्ली13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
RBI ने स्पष्ट किया कि रेगुलेटरी कंप्लायंस में कमी रहने के कारण ये कार्रवाई की गई है, कंपनी और ग्राहक के बीच हुए किसी भी लेन-देन या समझौते की वैधता से इस कार्रवाई का कोई संबंध नहीं है
  • मुथूट फाइनेंस ने गोल्ड लोन में लोन टू वैल्यू रेश्यो मेंटेन करने और 5 लाख रुपए से ज्यादा गोल्ड लोन को मंजूरी देने में ग्राहक के पैन कार्ड की कॉपी लेने के निर्देशों का पालन नहीं किया
  • मनप्पुरम फाइनेंस पर इसलिए जुर्माना लगा, क्योंकि उसने गोल्ड ज्वेलरी की ओनरशिप के वैरीफिकेशन से जुड़े निर्देश का पालन नहीं किया

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने गुरुवार को कहा कि उसने मुथूट फाइनेंस, एर्नाकुलम पर 10 लाख रुपए और मनप्पुरम फाइनेंस, थ्रिसुर पर 5 लाख रुपए की पेनाल्टी लगाई है। RBI ने एक बयान में कहा कि मुथूट फाइनेंस पर गोल्ड लोन में लोन टू वैल्यू रेश्यो को मेंटेन करने और 5 लाख रुपए से ज्यादा गोल्ड लोन को मंजूरी देने में ग्राहक के पैन कार्ड की कॉपी लेने के निर्देशों का पालन नहीं करने के कारण जुर्माना लगाया गया है। RBI ने एक दूसरे बयान में कहा कि मनप्पुरम फाइनेंस पर इसलिए जुर्माना लगाया गया, क्योंकि उसने गोल्ड ज्वेलरी की ओनरशिप के वैरीफिकेशन से जुड़े निर्देश का पालन नहीं किया।

RBI ने हालांकि दोनों ही मामलों में स्पष्ट किया कि रेगुलेटरी कंप्लायंस में कमी रहने के कारण कार्रवाई की गई है। कंपनी और ग्राहक के बीच हुए किसी भी लेन-देन या समझौते की वैधता से इस कार्रवाई का कोई संबंध नहीं है। मुथूट फाइनेंस और मनप्पुरम फाइनेंस दोनों गोल्ड लोन का कारोबार करती हैं।

31 मार्च 2018 और 31 मार्च 2019 को मुथूट की वित्तीय स्थिति के निरीक्षण के दौरान नॉन कंप्लायंस का पता चला

मुथूट फाइनेंस के बारे में RBI ने कहा कि 31 मार्च 2018 और 31 मार्च 2019 को कंपनी की वित्तीय स्थिति का निरीक्षण किया गया था, जिसमें नॉन-कंप्लायंस का पता चला। RBI ने कंपनी को नोटिस भेजकर पूछा था कि नॉन-कंप्लायंस के लिए उस पर जुर्माना क्यों न लगाया जाए। इसके बाद कंपनी की ओर से दिए गए नोटिस का जवाब, मौखिक जवाब और अतिरिक्त जवाबों का विश्लेषण करने के बाद कंपनी पर जुर्माना लगाया गया।

31 मार्च 2019 को मनप्पुरम की वित्तीय स्थिति के निरीक्षण के दौरान नॉन कंप्लायंस का पता चला

मनप्पुरम फाइनेंस के मामले में भी RBI ने 31 मार्च 2019 को कंपनी की वित्तीय स्थिति का निरीक्षण किया था। इसी दौरान निर्देशों के नॉन-कंप्लायंस का पता चला। इस मामले में भी कंपनी को नोटिस जारी किया गया और नोटिस का जवाब, मौखिक जवाब व अतिरिक्त जवाबों का विश्लेषण करने के बाद कंपनी पर जुर्माना लगाया गया।