पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57684.791.09 %
  • NIFTY17166.91.08 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47590-0.92 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61821-0.24 %
  • Business News
  • IRCTC Train Ticket Booking; Railways Reservation System Will Shut Down For Six Hours

रेल यात्री ध्यान दें:अगले 7 दिन तक रात 11.30 से सुबह 5.30 के बीच टिकट बुक नहीं कर सकेंगे, सिस्टम अपग्रेड कर रहा रेलवे

नई दिल्ली16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

रेलवे अपने पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम (PRS) को अपग्रेड कर रहा है। 14 नवंबर की रात से 21 नवंबर की सुबह तक ये अपग्रेडेशन होगा। इस दौरान रात 11.30 से सुबह 5.30 तक रेलवे टिकट बुक नहीं किए जा सकेंगे। यह कदम नई ट्रेन संख्या और अन्य डेटा के अपग्रेडेशन के लिए है।

रेलवे ने कहा कि चूंकि सभी ट्रेनों में बड़ी मात्रा में पुरानी ट्रेन संख्या और वर्तमान यात्री बुकिंग डेटा को अपडेट किया जाना है, इसलिए इसे श्रृंखलाबद्ध चरणों में करने की योजना बनाई है। इसके चलते टिकटिंग सेवाओं पर पड़ने वाले प्रभाव को कम करने के लिए ये काम रात को किया जाएगा।

रात में 6 घंटे बंद रहेगा PRS
रेलवे के अनुसार अपग्रेडेशन 14 और 15 नवंबर रात से शुरू होकर 20 और 21 नवंबर की रात तक चलेगा। इसके चलते रात साढ़े 11 बजे से सुबह साढ़े 5 बजे तक PRS काम नहीं करेगा। इसके चलते इन 6 घंटों के दौरान टिकट रिजर्वेशन, करंट बुकिंग, कैंसिलेशन और पूछताछ सेवाओं जैसी कोई PRS सेवाएं उपलब्ध नहीं होंगी।

रेलवे ने कोरोना के दौरान चलाई गई स्पेशल ट्रेनों के नंबर वापस सामान्य करने का फैसला किया है।
रेलवे ने कोरोना के दौरान चलाई गई स्पेशल ट्रेनों के नंबर वापस सामान्य करने का फैसला किया है।

रेलवे ने कहा कि इसके अलावा रेल कर्मी प्रभावित समय के दौरान ट्रेनों को शुरू करने के लिए अग्रिम चार्टिंग सुनिश्चित करेंगे। रेल मंत्रालय ने कहा कि PRS सेवाओं को छोड़कर, डायल 139 सेवाएं सहित अन्य सभी पूछताछ सेवाएं मिलती रहेंगी।

स्पेशल ट्रेनों को रूटीन ट्रेनों के रूप में चलाया जाएगा
कोरोना काल के दौरान स्पेशल का टैग लगने से बढ़े हुए किराये के साथ चल रहीं सभी ट्रेन अब पुराने नाम व नंबर के साथ हीं चलेंगी। रेल मंत्रालय ने यात्रियों को बड़ी राहत देने वाली घोषणा की है। मंत्रालय ने कहा है कि कोरोना काल में स्पेशल ट्रेन में बदल गईं सभी रेलगाड़ियां अब पहले की तरह सामान्य रूप से संचालित की जाएंगी। इससे इन ट्रेनों में वसूला जा रहा स्पेशल चार्ज घट जाएगा, जिससे किराए में करीब 30 फीसदी तक कमी आएगी।