पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Pradhan Mantri Surakshit Matritva Abhiyan; All About PMSMA Scheme For Pregnant Ladies

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान:इससे अब तक जुड़ चुकी हैं 3 करोड़ से ज्यादा महिलाएं, इसमें गर्भवती औरतों को मिलता है समय पर और सही इलाज

नई दिल्ली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हर महीने आयोजित किया जाने वाला प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान (PMSMA) दिवस इस बार 9 के स्थान पर 10 जनवरी को मनाया जाएगा। इस दिवस के लिए हर महीने 9 तारीख ही तय है, लेकिन इस बार 9 जनवरी 2022 को रविवार था। लिहाजा तारीख 9 के बजाय 10 जनवरी की गई है। इस अभियान की शुरुआत 2016 में गर्भावस्था/प्रसव के दौरान मां और शिशु की मृत्यु रोकने, उन्हें समय पर उचित इलाज मुहैया कराने के लिए की गई थी। इस अभियान के तहत कोई भी गर्भवती महिला इसका लाभ ले सकती है।

इस बार इस दिन बैंकों के माध्यम से गर्भवती महिलाओं के जीरो बैलेंस पर अकाउंट्स खोले जाएंगे। इससे प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना और जननी सुरक्षा योजना के तहत मिलने वाली आर्थिक सहायता के लिए महिलाओं को परेशान नहीं होना पड़ेगा। यह अकाउंट्स उन महिलाओं के होंगे, जिनका पहले से कोई बैंक खाता नहीं है। यह जन-धन खाते होंगे।

सबसे पहले समझें PMSMA क्या है
गर्भावस्था/प्रसव के दौरान मां और शिशु की मृत्यु रोकने, उन्हें समय पर उचित इलाज मुहैया कराने के लिए PMSMA जून 2016 से शुरू किया गया था। इसका लाभ किसी भी समुदाय की महिला उठा सकती है। जिन्हें 3 से 6 माह का गर्भ है, वे महिलाएं नजदीकी सरकारी अस्पताल में अपना रजिस्ट्रेशन कराती हैं तो उन्हें परामर्श, सभी जरूरी जांच तथा दवाई सब कुछ मुफ्त में मिलता है।

रजिस्ट्रेशन के बाद जब आपका कार्ड बन जाता है, तो उसे लेकर आप किसी भी सरकारी अस्पताल या प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में जाकर जांच व डिलीवरी करा सकती हैं। गर्भवती महिलाओं की सुविधा के लिए हर महीने की 9 तारीख को देशभर के स्वास्थ्य केंद्रों, सरकारी अस्पतालों में कैंप लगाए जाते हैं। संबंधित महिलाएं अपना कार्ड दिखाकर इन कैंपों में जांच आदि करा सकती हैं।

शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में मिल रही सुविधा
सरकार ने इन सेवाओं को शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में निर्धारित स्वास्थ्य केंद्रों पर उपलब्ध कराया है। खासकर आर्थिक तौर पर कमजोर महिलाओं को गर्भधारण के बाद पोषक तत्व नहीं मिलते, समय पर उचित इलाज नहीं होता। ऐसी महिलाओं के बच्चे किसी न किसी विकृति के साथ जन्म लेकर कुपोषण का शिकार हो जाते हैं। यह सब रोकना ही इस योजना का मुख्य उद्देश्य है। इस योजना की और अधिक जानकारी चाहते हैं तो अपने नजदीकी सरकारी अस्पताल या स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर पता कर सकते हैं।

जांच के बाद मिलते हैं अलग-अलग रंग के स्टीकर
जांच के बाद गर्भवती महिलाओं को मातृ एवं बाल संरक्षण कार्ड तथा सुरक्षित मातृत्व पुस्तिकाएं दी जाती हैं। इसके अलावा उसकी स्थिति की पूरी जानकारी देने वाला अलग-अलग रंग का स्टीकर भी दिया जाता है। इन स्टीकर का अलग-अलग मतलब होता है।

  • हरा स्टीकर- सामान्य गर्भावस्था वाली महिला होने पर।
  • लाल स्टीकर- उच्च जोखिम वाली महिला होने पर।

टोल फ्री नंबर पर कर सकते हैं शिकायत
किसी भी प्रकार की शिकायत करने, नजदीकी स्वास्थ्य केंन्द्र खोजने या किसी अन्य सहायता और योजना के बारे में अधिक जानकारी लेने के लिए इसकी वेबसाइट pmsma.nhp.gov.in पर जा सकते हैं। इसके अलावा टोल फ्री नंबर- 18001801104 पर कॉल करके भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

इसमें खोले जा रहे जीरो बैलेंस अकाउंट
अब इस अभियान के तहत इस दिन बैंकों के माध्यम से गर्भवती महिलाओ के जीरो बैलेंस पर अकाउंट्स खोले जाएंगे। ताकि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना और जननी सुरक्षा योजना के तहत मिलने वाली आर्थिक सहायता अकाउंट में मिल सके। यह अकाउंट्स उन महिलाओं के होंगे, जिनका पहले से कोई बैंक खाता नहीं है।

कोई भी खुलवा सकता है अकाउंट
प्रधानमंत्री जन-धन योजना (PMJDY) के तहत कोई भी व्यक्ति इस स्कीम में अकाउंट खुलवा सकता है। इस योजना के तहत खाता खुलवाने पर आपको रुपे एटीएम कार्ड, 2 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा कवर, 30 हजार रुपए का लाइफ कवर और जमा राशि पर ब्याज मिलता है। इस अकाउंट को किसी भी बैंक में खोला जा सकता है। इसमें आपको मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करना होता है। इस योजना के तहत 44 करोड़ से ज्यादा अकाउंट खोले जा चुके हैं। इसमें से करीब 55% अकाउंट महिलाओं के हैं। अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें