पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52344.450.04 %
  • NIFTY15683.35-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47122-0.57 %
  • SILVER(MCX 1 KG)68675-1.23 %
  • Business News
  • Petrol Price Today ; Petrol Diesel Price ; Petrol Reached Rs 103 In Rajasthan, Petrol Diesel Has Started Becoming Expensive Again After The Election Ends

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महंगाई से राहत नहीं:राजस्थान में 103 रुपए पर पहुंचा पेट्रोल, चुनाव खत्म होने के बाद फिर महंगे होने लगे हैं पेट्रोल-डीजल

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पेट्रोल-डीजल के दामों में लगी आग थमने का नाम ही नहीं ले रही है। सरकारी तेल कंपनियों ने आज फिर पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाए हैं। मंगलवार को दिल्ली में पेट्रोल 27 पैसे महंगा होकर 91.80 और डीजल 30 पैसे महंगा होकर 82.36 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया है। राजस्थान में पेट्रोल 103 रुपए प्रति लीटर के करीब है जो अब जक का सबसे महंगा है।

छह दिनों में ही पेट्रोल 1.47 और डीजल 1.63 रुपए महंगा हुआ

पिछले दो महीने से देश के 5 राज्यों में विधानसभा के चुनाव होने के कारण इनके दामों में बढ़ोतरी नहीं की गई लेकिन 2 मई को चुनाव परिणाम आने के बाद से ही इनके दाम फिर बढ़ने लगे हैं। चुनाव के बाद 6 दिनों में ही दिन में पेट्रोल 1.47 और डीजल 1.63 रुपए महंगा हुआ है। 4 मई से लेकर अब तक पेट्रोल-डीजल के दाम 6 बार बढ़े हैं।

इस साल में अब तक 32 बार बढ़े और 4 बार कम हुए दाम
इस साल पेट्रोल-डीजल के दाम जनवरी में 10 बार और फरवरी में 16 बार बढ़े। वहीं मार्च महीने में 3 बार और अप्रैल में 1 बार पेट्रोल-डीजल के दाम में कमी आई है। इस महीने अब तक 6 बार पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़े हैं।

टैक्स के बाद 3 गुना महंगा हो जाता है पेट्रोल-डीजल

पेट्रोल-डीजल का बेस प्राइज पर जो अभी 32 रुपए के करीब है, इस पर केंद्र सरकार 33 रुपए एक्साइज ड्यूटी वसूल रही है। इसके बाद राज्य सरकारें इस पर अपने हिसाब से वैट और सेस वसूलती हैं, जिसके बाद इनका दाम बेस प्राइज से 3 गुना तक बढ़ गया है। ऐसे में बिना टैक्स में राहत दिए पेट्रोल के दाम कम कर पाना मुमकिन नहीं है।

मोदी सरकार ने बीते 7 सालों में नहीं दिया सस्ते कच्चे तेल का फायदा
आपको तो पता ही होगा कि पेट्रोल-डीजल कच्चे तेल से बनता है। और कच्चे तेल के दामों का असर पेट्रोल-डीजल कीमतों पर सीधे तौर पर पड़ता है। मई 2014 में जब मोदी पहली बार प्रधानमंत्री बने, तब कच्चे तेल की कीमत 106.85 डॉलर प्रति बैरल थी। वहीं अभी कच्चे तेल की कीमत 67 डॉलर प्रति बैरल पर है। इसके बावजूद भी पेट्रोल के दाम घटने के बजाए बढ़कर 103 रुपए प्रति लीटर के पार पहुंच गए हैं।

मोदी सरकार ने पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी 3 गुना और डीजल पर 7 गुना बढ़ी

केंद्र सरकार एक्साइज ड्यूटी के जरिए टैक्स लेती है। मई 2014 में जब मोदी सरकार आई थी, तब केंद्र सरकार एक लीटर पेट्रोल पर 10.38 रुपए और डीजल पर 4.52 रुपए टैक्स वसूलती थी। ये टैक्स एक्साइज ड्यूटी के रूप में लिया जाता है।

मोदी सरकार में 13 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई गई है, लेकिन घटी सिर्फ तीन बार। आखिरी बार मई 2020 में एक्साइज ड्यूटी बढ़ी थी। इस वक्त एक लीटर पेट्रोल पर 32.90 रुपए और डीजल पर 31.80 रुपए एक्साइज ड्यूटी लगती है। मोदी के आने के बाद केंद्र सरकार पेट्रोल पर तीन गुना और डीजल पर 7 गुना टैक्स बढ़ा चुकी है।

दुनिया में पेट्रोल का औसत भाव 84.83 रुपए/लीटर
भारतीय रुपए के हिसाब से दुनिया में पेट्रोल की प्रति लीटर औसत कीमत 84.83 रुपए है। भारत में सबसे सस्ता पेट्रोल 85.23 रुपए लीटर अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर में हैं। दिल्ली में इसकी कीमत 91.80 रुपए लीटर है, यानी भारत में दुनिया के औसत भाव से भी पेट्रोल महंगा है।