पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX49792.120.8 %
  • NIFTY14644.70.85 %
  • GOLD(MCX 10 GM)490860.22 %
  • SILVER(MCX 1 KG)659170.23 %
  • Business News
  • Petrol In Delhi And Diesel Price In Mumbai Set A Record, One Liter Petrol Worth 84.20 Rupees

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

डीजल-पेट्रोल में रिकॉर्ड महंगाई:दिल्ली में पेट्रोल 84.20 रु. और मुंबई में डीजल 81.07 रु. लीटर, यहां ये अब तक की सबसे ज्यादा कीमतें

नई दिल्ली13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली में पेट्रोल की कीमत अब तक के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गई है। गुरुवार को यहां पेट्रोल 23 पैसे महंगा होकर 84.20 रुपए प्रति लीटर हो गया। इससे पहले 4 अक्टूबर 2018 को यहां पेट्रोल की कीमत 84 रुपए प्रति लीटर तक गई थी।

दिल्ली में डीजल भी 26 पैसे महंगा होकर 74.38 रुपए हो गया है। हालांकि यह रिकॉर्ड नहीं है। दिल्ली में डीजल की रिकॉर्ड कीमत 75.45 रुपए है। यह रिकॉर्ड भी 4 अक्टूबर 2018 को बना था। डीजल ने मुंबई में रिकॉर्ड बनाया है। वहां कीमत 26 पैसे बढ़ कर 81.07 रुपए हो गई है।

दूसरे महानगरों में भी दाम रिकॉर्ड स्तर के करीब पहुंचे

देश के दूसरे महानगरों में भी पेट्रोल महंगा हुआ है। वहां दाम रिकॉर्ड स्तर पर तो नहीं पहुंचे हैं, लेकिन उसके आसपास ही हैं। मुंबई में पेट्रोल 90.83 रुपए लीटर है। यह 91.34 रुपए के रिकॉर्ड से 51 पैसे कम है। यह रिकॉर्ड 4 अक्टूबर 2018 को बना था। चेन्नई में कीमत 86.96 रुपए है। यह 87.33 रुपए के रिकॉर्ड से 37 पैसे नीचे है।

बुधवार से पहले 29 दिन तक दाम नहीं बदले थे

एक दिन पहले, बुधवार को भी पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़े थे। लगातार 29 दिन दाम स्थिर रहने के बाद कल पेट्रोल की कीमत अलग-अलग शहरों में 24 से 26 पैसे तक बढ़ी थी। डीजल 25 से 27 पैसे तक महंगा हुआ था। इससे पहले पेट्रोल-डीजल के दाम में आखिरी बार 7 दिसंबर को बढ़ोतरी हुई थी।

अक्टूबर 2018 में सरकार ने एक्साइज ड्यूटी घटाई थी, इस बार उम्मीद कम

4 अक्टूबर 2018 को जब पेट्रोल और डीजल के दाम रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचे थे, तब सरकार ने इन पर एक्साइज ड्यूटी 1.50 रुपए प्रति लीटर घटाई थी। सरकारी तेल कंपनियों ने भी दाम एक रुपया घटाया था। लेकिन सूत्रों के अनुसार सरकार के पास फंड की कमी को देखते हुए अभी एक्साइज कम करने की संभावना कम ही है।

सरकार ने पेट्रोल पर एक्साइज 13 रुपए और डीजल पर 15 रुपए बढ़ाया था

पिछले साल जब क्रूड 20 डॉलर से नीचे गया था, तब पेट्रोल-डीजल के दाम नहीं घटे थे। मार्च और मई में दो किस्तों में सरकार ने पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी 13 रुपए और डीजल पर 15 रुपए प्रति लीटर बढ़ा दी थी। इससे सरकार को पूरे साल में 1.6 लाख करोड़ रुपए अतिरिक्त मिलने की उम्मीद थी। मई से पेट्रोल 14.54 रुपए और डीजल 12.09 रुपए महंगा हो चुका है।

पेट्रोल पर अभी 32.98 रुपए है एक्साइज, डीजल पर 31.83 रुपए

इंडियन ऑयल की वेबसाइट पर उपलब्ध 1 जनवरी 2020 की जानकारी के अनुसार पेट्रोल पर प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी 32.98 रुपए और डीजल पर 31.83 रुपए है। पेट्रोल पर दिल्ली सरकार का वैट 19.32 रुपए और डीजल पर 10.85 रुपए है। यानी पेट्रोल की कीमत का 62.5% और डीजल का 57.8% केंद्र और राज्य सरकारें वसूलती हैं।

कच्चा तेल एक हफ्ते में 5 डॉलर प्रति बैरल महंगा हुआ है

देश में पेट्रोल-डीजल के दाम ग्लोबल मार्केट से जुड़े हैं। तेल कंपनियों का कहना है कि कच्चा तेल महंगा होने के कारण उन्हें दाम बढ़ाना पड़ा है। भारत ब्रेंट क्रूड का आयात करता है। इसकी कीमत 55 डॉलर प्रति बैरल के आसपास है। एक हफ्ते में यह 5 डॉलर प्रति बैरल महंगा हो चुका है।

ओपेक ने रोजाना उत्पादन 72 लाख बैरल घटा दिया है, इससे क्रूड महंगा

तेल उत्पादन करने वाले देशों के संगठन ओपेक और रूस की मंगलवार को बैठक हुई थी। इसमें उन्होंने कच्चे तेल के उत्पादन में कटौती जारी रखने का फैसला किया है। उन्होंने दिसंबर में उत्पादन रोजाना 77 लाख बैरल कम किया था। जनवरी में रोजाना 72, फरवरी में 71 और मार्च में 70 लाख बैरल उत्पादन घटाने का प्लान है।

क्रूड के दाम घटने के बाद उत्पादन कम करने का फैसला किया था

कोरोना महामारी के कारण पिछले साल पूरी दुनिया में आर्थिक गतिविधियां लगभग बंद हो गई थीं। इससे कच्चे तेल की मांग कम हो गई और दाम 20 डॉलर से भी नीचे आ गए थे। दाम बढ़ाने के लिए ओपेक और उसके सहयोगी देशों ने उत्पादन घटाने का फैसला किया।

Open Money Bhaskar in...
  • Money Bhaskar App
  • BrowserBrowser