पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %
  • Business News
  • Petrol Diesel Prices May Come Down As Crude Oil Prices Fall

राहत की उम्मीद:कच्‍चे तेल की कीमतों में गिरावट, आने वाले दिनों में कम हो सकती हैं पेट्रोल-डीजल की कीमतें

नई दिल्ली10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

इंटरनेशनल मार्केट में कच्‍चे तेल की कीमतों में गिरावट देखने को मिल रही है। कच्चा तेल (ब्रेंट क्रूड) इस समय 80 डॉलर के नीचे आ गया है। इससे पहले ये अक्टूबर महीने की शुरुआत में 80 डॉलर के नीचे था। जिसके बाद इसमें तेजी देखी गई और ये अक्टूबर महीने के आखिर में 86 डॉलर के करीब पहुंच गया था। कच्चे तेल के दाम कम होने से पेट्रोल-डीजल के दामों में कमी आ सकती है।

राजधानी दिल्ली सहित देश में ज्यादातर जगह पेट्रोल 100 रुपए से महंगा

शहरपेट्रोल (रुपए/लीटर)
मुंबई110.17
भोपाल107.23
जयपुर107.06
कोलकाता104.67
दिल्ली103.97
रायपुर101.88
चेन्नई101.40

75 डॉलर पर आ सकता है कच्चा तेल
केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया कहते हैं कि ओपेक प्लस देशों ने हाल ही में दिसंबर से कच्चे तेल का उत्पादन बढ़ाने की बात कही है। अगस्त से ओपेक प्लस देश मिलकर हर महीने रोजाना आधार पर 4 लाख बैरल प्रोडक्शन बढ़ाना शुरू कर दिया था।

इसके तहत दिसंबर में 20 लाख बैरल प्रोडक्शन रोजाना आधार पर ज्यादा होगा। ओपेक प्लस देशों ने इस बढ़ोतरी को आगे भी जारी रखने का फैसला किया है। इससे कच्चे तेल के दाम आने वाले दिनों में 75 डॉलर तक जा सकते हैं।

2 से 3 रुपए तक कम हो सकते हैं पेट्रोल डीजल के दाम
अजय केडिया कहते हैं कि अगर कच्चे तेल की घटती कीमतों का फायदा पेट्रोलियम कंपनियां आम जनता को देती हैं तो पेट्रोल-डीजल की कीमतों में प्रति लीटर 2 से 3 रुपए तक की कमी हो सकती है। हालांकि अगर आने वाले दिनों में डॉलर के मुकाबले रुपए कमजोर होता है तो पेट्रोल-डीजल का सस्ता होना मुश्किल हो सकता है।

4 बातों पर निर्भर करते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम
पेट्रोल या डीजल की कीमतें मुख्य रूप से 4 कारकों पर निर्भर करती हैं....

  1. कच्चे तेल की कीमत
  2. रुपए के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की कीमत
  3. केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा वसूला जाने वाला टैक्स
  4. देश में फ्यूल मांग

भारत अपनी जरूरत का 85% कच्चा तेल करता है आयात
हम अपनी जरूरत का 85% से ज्यादा कच्चा तेल बाहर से खरीदते हैं। इसकी कीमत हमें डॉलर में चुकानी होती है। ऐसे में कच्चे तेल की कीमत बढ़ने और डॉलर के मजबूत होने से पेट्रोल-डीजल महंगे होने लगते हैं। कच्चा तेल बैरल में आता है। एक बैरल यानी 159 लीटर कच्चा तेल होता है।

केंद्र व राज्य सरकारों की थी टैक्स में कटौती
पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से लोगों को राहत देने के लिए केंद्र सरकार ने 3 नवंबर को पेट्रोल पर 5 रुपए और डीजल पर 10 रुपए एक्साइज ड्यूटी घटाई थी। इसके बाद कर्नाटक, पुडुचेरी, मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, नगालैंड, त्रिपुरा, असम, सिक्किम, बिहार, मध्य प्रदेश, गोवा, गुजरात, दादरा एवं नागर हवेली, दमन एवं दीव, चंडीगढ़, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और लद्दाख इस पर वैट में कटौती कर चुके हैं। इससे आम आदमी को थोड़ी राहत मिली है।

2021 में अब तक पेट्रोल 20 और डीजल 12.55 रुपए महंगा हुआ
1 जनवरी को दिल्ली में पेट्रोल 83.97 और डीजल 74.12 रुपए प्रति लीटर था। अब ये 103.97 और 86.67 रुपए प्रति लीटर पर है। यानी 11 महीने से भी कम समय में पेट्रोल 20 और डीजल 12.55 रुपए तक महंगा हुआ है।