पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52807.620.49 %
  • NIFTY15883.10.45 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48134-1.51 %
  • SILVER(MCX 1 KG)71385-1.31 %
  • Business News
  • Passive Funds Options: Mutual Fund ; Low Risk Investments For High Return In India 2021

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आपके फायदे की बात:कम रिस्क के साथ चाहिए बेहतर रिटर्न तो पैसिव फंड्स में कर सकते हैं निवेश, इसने बीते 1 साल में दिया 58% तक का रिटर्न

नई दिल्ली7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

निवेश से जुड़े फैसले लेने से पहले निवेशकों के मन में अक्सर यह सवाल उठता है कि म्यूचुअल फंड में निवेश की रणनीति क्या हो? क्या पैसिव फंड्स में निवेश करना चाहिए या फिर एक्टिव तरीके से मैनेज होने वाले फंड पर भरोसा करना चाहिए? पैसिव फंड्स ने बीते कुछ समय में शानदार रिटर्न दिया है। आप भी इसमें निवेश कर फायदा कमा सकते हैं।

क्या हैं पैसिव फंड?
यह म्यूचुअल फंड का ही एक प्रकार है। इसमें एक ऐसे पोर्टफोलियो में निवेश किया जाता है, जो निफ्टी और सेंसेक्स आदि जैसे मार्केट इंडेक्स की नकल करता है। पोर्टफोलियो में उनके अनुपात के साथ-साथ सभी सिक्योरिटीज भी उसी तरह की होंगी जैसे इंडेक्स फंड ट्रैक कर रहा होता है। पैसिव फंडों में, फंड मैनेजर सक्रिय रूप से यह नहीं चुनता है कि स्टॉक क्या फंड बनाएंगे। यह एक कारण है कि पैसिव फंड में एक्टिव फंडों की तुलना में निवेश करना आसान है।

निवेशक पैसिव फंड तब खरीदते हैं जब वे चाहते हैं कि उनका रिटर्न बाजार के अनुरूप हो। ये फंड कम लागत वाले फंड हैं क्योंकि स्टॉक का चयन करने और शोध में कोई लागत शामिल नहीं है। पैसिव फंड में गोल्ड फंड और इंडेक्स फंड सहित कई अन्य फंड आते हैं।

पैसिव फंड्स में फंड मैनेजर की भूमिका सीमित होती है
रूंगटा सिक्‍योरिटीज में CFP और पर्सनल फाइनेंस एक्सपर्ट हर्षवर्धन रूंगटा बताते हैं कि एक्टिव फंड्स में फंड मैनेजर फैसला करता है कि पैसा किन-किन सेक्टर के किन-किन शेयरों में लगाया जाए। वहीं, पैसिव फंड्स इंडेक्सों (सूचकांकों), मसलन सेंसेक्स की 30 कंपनियों या निफ्टी की 50 कंपनियों में उनके वेटेज के अनुपात में निवेश करते हैं। ऐसे में पैसिव फंड्स में फंड मैनेजर की भूमिका बहुत सीमित हो जाती है। इसलिए इनकी मैनेजमेंट फीस भी कम होती है।

इसमें किन्हें करना चाहिए निवेश?
हर्षवर्धन रूंगटा कहते हैं कि अगर आप पहली बार म्यूचुअल फंड में निवेश कर रहे हैं तो इस कैटेगरी में निवेश कर सकते हैं। इंडेक्‍स फंड उन लोगों के लिए बेहतर माना जाता है, जिनके पास मार्केट को अच्‍छे से ट्रैक करने का समय नहीं होता है। इसके लिए ज्‍यादा रिसर्च की भी जरूरत नहीं होती है।

इसमें अपने पोर्टफोलियो का कितना हिस्सा निवेश कर सकते हैं?
केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया कहते हैं कि पैसिव फंड्स में अपने पोर्टफोलियो का कितना हिस्सा निवेश करना चाहिए ये आपकी उम्र और रिस्क लेने की क्षमता पर निर्भर करता है। अगर आप युवा हैं तो इसका हिस्सा आपके पोर्टफोलियो 5 से 10% तक रहना चाहिए। वहीं अगर आपकी उम्र 50 साल से ज्यादा है तो आप इसमें 20% तक निवेश कर सकते हैं।

बीते सालों में इन फंड्स ने दिया अच्छा रिटर्न

फंड का नामबीते 1 साल में रिटर्न (% में)बीते 3 साल में औसत सालाना रिटर्न (% में)बीते 5 साल में औसत सालाना रिटर्न (% में)
UTI निफ्टी इंडेक्स फंड57.614.814.8
ICICI प्रूडेंशियल निफ्टी इंडेक्स फंड56.814.314.2
फ्रेंकलिन इंडिया इंडेक्स फंड निफ्टी प्लान56.213.813.7
निप्पॉन इंडिया इंडेक्स फंड53.914.414.5
LIC MF इंडेक्स फंड53.014.214.1