पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Oyo IPO DRHP, Oyo Initial Public Offer, Oyo Share Price , Ritesh Agarwal, Oyo Listing

ओयो की तैयारी:IPO के लिए कंपनी ने सेबी के पास दी अर्जी, 8,430 करोड़ रुपए जुटाने की योजना

मुंबई9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

होटल बुकिंग ऐप ओयो होटल्स एंड होम्स ने मार्केट रेगुलेटर सेबी के पास IPO के लिए अर्जी दे दी है। कंपनी इस IPO के जरिए 8,430 करोड़ रुपए जुटाएगी। ओयो यूनिकॉर्न की लिस्ट में है। यूनिकॉर्न मतलब 1 अरब डॉलर से ज्यादा का वैल्यूएशन वाली कंपनी। ओयो ब्रांड चलाने वाली ओरावेल एक्सचेंज पर लिस्ट होगी।

पिछले हफ्ते मर्चेंट बैंकर्स की नियुक्ति
ओयो ने पिछले हफ्ते ही मर्चेंट बैंकर्स की नियुक्ति की थी। मर्चेंट बैंकर्स में कोटक महिंद्रा कैपिटल, सिटीग्रुप, ICICI सिक्योरिटीज, नोमुरा और बैंक ऑफ अमेरिका शामिल हैं। कंपनी नए शेयर्स के जरिए 7 हजार करोड़ रुपए जुटाएगी। बाकी का पैसा सेकेंडरी शेयर्स के जरिए या फिर वर्तमान शेयरधारकों द्वारा शेयर बेचकर जुटाया जाएगा। ओयो का वैल्यूएशन 9 अरब डॉलर यानी करीब 67 हजार करोड़ रुपए आंका जा रहा है। यह भारत का तीसरा सबसे ज्यादा वैल्यूएशन वाला स्टार्टअप है।

तीन प्रमुख शेयर होल्डर्स हैं
इसके संस्थापक रितेश अग्रवाल हैं। इसमें तीन प्रमुख शेयरधारकों में आर.ए. हॉस्पिटल, सॉफ्टबैंक विजन और खुद रितेश अग्रवाल हैं। सॉफ्टबैंक के पास 46% हिस्सेदारी है। रितेश अग्रवाल और उनकी कंपनी आर.ए. हॉस्पिटल के पास 33% शेयर्स हैं। कंपनी के शेयर्स स्टॉक एक्सचेंज पर नवंबर के अंत तक या दिसंबर के शुरू में लिस्ट हो सकते हैं। यानी IPO इसी दौरान आ सकता है।

मंजूरी में दो महीने का समय लग सकता है
सेबी किसी भी IPO के लिए 2 महीने का समय लेता है। किसी-किसी मामले में एक महीने में भी मंजूरी मिल जाती है। रितेश अग्रवाल ने ओयो को 2013 में शुरू किया था। कॉलेज ड्रॉपआउट रितेश अग्रवाल इस समय 27 साल के हैं। 2019 में रितेश अग्रवाल ने 2 अरब डॉलर का निवेश किया था। यह पैसा उन्होंने उधार लिया था। इस वजह से ओयो में उनकी हिस्सेदारी तीन गुना बढ़ गई।

ओयो के कारोबार में भारत, मलेशिया, इंडोनेशिया और यूरोप का योगदान 90% से ज्यादा है। ओयो के ऐप को 10 करोड़ बार डाउनलोड किया गया है। इसके पास 90 लाख से ज्यादा ग्राहक हैं।

68% मार्केट शेयर के साथ भारत की सबसे बड़ी होटल चेन
OYO रूम्स फिलहाल 68% मार्केट शेयर के साथ भारत की सबसे बड़ी होटल चेन है। इसके कंपटीटर्स में एयर बीएनबी, यात्रा, फैब होटल्स, क्लियर ट्रिप, बुकिंग डॉट कॉम, ट्रीबो और मेक माय ट्रिप शामिल हैं। भविष्य के लिए OYO ने मल्टी बिजनेस विस्तार किया है। जैसे- ओयो टाउनहॉल, ओयो वेडिंग्स, ओयो वर्कस्पेस। रितेश अग्रवाल का मानना है कि ये सभी हॉस्पिटैलिटी से जुड़े बिजनेस हैं।

ओयो का 43% रेवेन्यू भारत और दक्षिण पूर्व एशिया से आता है
इस समय ओयो का 43% रेवेन्यू भारत और दक्षिण पूर्व एशिया से आता है। 28% रेवेन्यू यूरोप से आता है। बाकी का रेवेन्यू अन्य देशों से आता है। कोरोना की वजह से इसने चीन और अमेरिका में अपने ऑपरेशन में काफी कटौती की थी। ओयो ने 80 देशों में 43 हजार होटल्स के साथ टाईअप किया है। इसके अलावा 1.50 लाख वैकेशन होम्स हैं। इसमें भारत, चीन, मलेशिया, थाईलैंड, इंडोनेशिया और नेपाल जैसे देश हैं। इस साल अब तक IPO से कंपनियों ने 78 हजार करोड़ रुपए जुटाए हैं।

लगातार घाटा देनेवाली कंपनी

कंपनी को 31 मार्च 2021 को समाप्त वित्त वर्ष में 3,943 करोड रुपए का घाटा हुआ था। एक साल पहले 13,122 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। कंपनी ने कोरोना के समय 542 करोड़ रुपए मार्केटिंग और प्रमोशन पर खर्च किया था। कंपनी ने कहा कि वह जब से शुरू हुई है, आज तक घाटे में ही हर साल रही है।