पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Oyo Files Fresh Financial Documents With Sebi For IPO In Early 2023

2023 में आ सकता है OYO का IPO:SEBI के पास नए डॉक्यूमेंट दाखिल किए, कंपनी की सेल्स बढ़ी और घाटा कम हुआ

नई दिल्ली15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ओयो होटल्स का IPO 2023 की शुरुआत में आ सकता है। होटल-बुकिंग कंपनी ने सोमवार को SEBI के पास नए फाइनेंशियल डॉक्यूमेंट दाखिल किए हैं। OYO ने नवंबर 2021 में IPO डॉक्यूमेंट दाखिल किए थे, लेकिन कोरोना महामारी ने कंपनी को नुकसान पहुंचाया और उसे हजारों नौकरियों में कटौती करनी पड़ी, जिसके बाद इस साल की शुरुआत में IPO लिस्टिंग की योजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था।

सेल्स बढ़ी है और घाटा भी कम हुआ
OYO की तरफ से सोमवार को फाइल किए गए अडेंडम से पता चलता है कि FY23 के पहले क्वार्टर, यानी अप्रैल, मई और जून में कंपनी की सेल्स बढ़ी है और घाटा कम हुआ है। ओयो का पहली तिमाही में ऑपरेशन से रेवेन्यू 1,459.3 करोड़ रुपए रहा। फर्म ने Q1FY23 में प्रति होटल ग्रॉस बुकिंग वैल्यू में 47% की बढ़ोतरी दर्ज की है। ये 3.25 लाख रुपए रही, जो कि FY22 में 2.21 लाख रुपए थी।

एक्सपेंस में 44.4% की कमी
ओयो ने दावा किया कि FY22 में उसके जनरल और एडमिनिस्ट्रेटिव एक्सपेंस में 44.4% की कमी आई है। FY22 में ये 515.4 करोड़ हो गए, जो कि FY21 में 927 करोड़ रुपए थे। एम्प्लॉई एक्सपेंस भी 26.5% घटकर 1,117.2 करोड़ रुपए हो गए, जो FY21 में 1,520.4 करोड़ रुपए थे। ओयो ने कहा कि Q1FY23 के अंत में उसके 'स्टोरफ्रंट' 1.68 लाख हो गए, जो FY21 के अंत में करीब 1.57 लाख थे।

FY23 की चौथी तिमाही तक IPO
दूसरी तिमाही के फाइनेंशियल्स जमा करने के बाद सेबी ओयो होटल्स के IPO डॉक्यूमेंट पर विचार कर सकता है। इस स्पीड को देखते हुए ओयो होटल्स FY23 की चौथी तिमाही तक अपना IPO लॉन्च कर सकता है।

2013 में शुरू किया था ओयो
ओयो की शुरुआत 2013 में रितेश अग्रवाल ने की थी, जो तब 19 साल के थे। OYO रूम्स ने सस्ते होटल्स को टारगेट किया। ये होटल वालों के पास जाते थे और उन्हें अपने साथ जोड़ते थे। इसके बाद वो होटल की ब्रांडिंग, मार्केटिंग, टेक्नोलॉजी सपोर्ट, कस्टमर मैनेजमेंट और उसके लुक एंड फील पर काम करते थे। इससे होटल का बिजनेस 2 गुना तक बढ़ जाता था। धीरे-धीरे कॉन्सेप्ट पॉपुलर होने लगा और फंडिंग की झड़ी लग गई।

भारत, मलेशिया, इंडोनेशिया और यूरोप पर फोकस
सॉफ्टबैंक और लाइटस्पीड वेंचर पार्टनर्स जैसे हाई-प्रोफाइल निवेशकों के सपोर्ट के साथ, इसने दक्षिण पूर्व एशिया, चीन, यूरोप और अमेरिका में तेजी से विस्तार किया। हालांकि, स्टार्टअप अब चार मुख्य क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित कर रहा है: भारत, मलेशिया, इंडोनेशिया और यूरोप। उसने अमेरिका और चीन जैसे मार्केट में ऑपरेशन्स कट डाउन कर दिए हैं। यहां अब इसके कर्मचारियों की संख्या सिंगल डिजिट में हैं।