पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX50405.32-0.87 %
  • NIFTY14938.1-0.95 %
  • GOLD(MCX 10 GM)44310-0.78 %
  • SILVER(MCX 1 KG)64964-1.48 %
  • Business News
  • Narendra Modi Government Will Give Subsidy Of Rs 2.97 Lakh Crore On Food

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पंजाब-हरियाणा के किसानों के लिए बड़ा फैसला:सरकार अगले सीजन से डायरेक्ट देगी MSP, इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट नहीं लागू हुआ तो रुक सकती है एमएसपी

मुंबई16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बता दें कि पंजाब और हरियाणा के किसान इस समय सरकार के तीन नियमों का विरोध कर रहे हैं। पंजाब और हरियाणा में अभी तक आढ़तियों के जरिए पेमेंट होता है - Money Bhaskar
बता दें कि पंजाब और हरियाणा के किसान इस समय सरकार के तीन नियमों का विरोध कर रहे हैं। पंजाब और हरियाणा में अभी तक आढ़तियों के जरिए पेमेंट होता है
  • अगले डेढ़ महीनों में 2.97 लाख करोड़ रुपए की सब्सिडी फूड पर देगी सरकार
  • फूड सब्सिडी बढ़ कर 4 लाख 22 हजार 618 करोड़ रुपए हो गई है

केंद्र सरकार ने पंजाब और हरियाणा के किसानों के लिए बड़ा फैसला किया है। सरकार ने कहा है कि अगले सीजन से इलेक्ट्रॉनिक तरीके से ही एमएसपी का पेमेंट होगा। अगर इसे लागू नहीं किया गया तो एमएसपी का पेमेंट रुक सकता है। इसी के साथ सरकार अगले डेढ़ महीनों में 2.97 लाख करोड़ रुपए की सब्सिडी फूड पर देगी। इस वित्त वर्ष के अंत यानी मार्च 31 तक यह सब्सिडी दी जाएगी।

सभी बकाए को खत्म करने का लक्ष्य

जानकारी के मुताबिक सरकार इस सब्सिडी के जरिए पिछले सभी बकाए को खत्म करना चाहती है। खाद्य मंत्रालय ने कहा कि इसी के साथ पंजाब और हरियाणा जैसे राज्यों को अनिवार्य रूप से इलेक्ट्रॉनिक मोड के जरिए ही फसलों की कम से कम कीमत (MSP) किसानों को देना होगा। खाद्य मंत्रालय ने कहा है कि इलेक्ट्रॉनिक तरीके से MSP को ट्रांसफर करने के पीछे यह कारण है ताकि इससे गलत खातों में पैसे न जाएं और किसानों को पैसे मिलने में देरी ना हो। नया सिस्टम फसलों के प्रोक्योरमेंट के अभी के प्रैक्टिस को खत्म नहीं करेगा। यानी मंडियां बनी रहेंगी।

नेशनल फूड सिक्योरिटी एक्ट के तहत मिलती है सब्सिडी

सरकार नेशनल फूड सिक्योरिटी एक्ट के तहत फूड पर भारी सब्सिडी देती है। यानी वह जिन अनाजों को बेचती है उसे किसानों से महंगी कीमत पर लेती है और कम कीमत पर लोगों को देती है। इस कानून के तहत केंद्र सरकार 5 किलो गेहूं और चावल हर महीने 80 करोड़ लोगों को देती है। यह अनाज 2 से 3 रुपए किलो पर दिया जाता है।

1 लाख 25 हजार करोड़ की दी गई सब्सिडी

सरकार ने इस साल में 1 लाख 25 हजार 217 करोड़ रुपए की सब्सिडी दी है। जबकि मार्च अंत तक 2 लाख 97 हजार 196 करोड़ रुपए की सब्सिडी और दी जाएगी। इसमें से 1.16 लाख करोड़ रुपए पब्लिक फाइनेंशियल मॉड्यूल सिस्टम में दिया जाएगा। यह पंजाब की ओर दिया जाएगा। जबकि 24 हजार 841 करोड़ रुपए हरियाणा की ओर दिया जाएगा।

फूड सब्सिडी बढ़ कर 4 लाख करोड़ हो गई

हाल में पेश बजट के पेपर के मुताबिक, फूड सब्सिडी बढ़ कर 4 लाख 22 हजार 618 करोड़ रुपए हो गई है। यह 2020-21 के लिए बदला गया अनुमान है। केंद्र सरकार ने गरीब प्रवासी मजदूरों को इसके अलावा मुफ्त में राशन दिया है। यह कोरोना के दौरान दिया गया था। इसी वजह से सरकार की सब्सिडी बढ़ गई। अगले वित्त वर्ष के लिए 2 लाख 42 हजार 836 करोड़ रुपए की फूड सब्सिडी देने का अनुमान है।

बिचौलियों को खत्म नहीं किया जाएगा

सरकार ने कहा है कि वह पंजाब, हरियाणा में आढ़तियों यानी बिचौलियों को खत्म करने की कोई योजना नहीं बनाई है। ना ही इस तरह का कोई आदेश मंडियों को दिया गया है। सरकार ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट से यह सुनिश्चित होगा कि किसान, आढ़तिये और मंडी अपने पेमेंट डायरेक्ट लें और साथ ही पारदर्शिता भी बनी रहे। इसके जरिए वर्तमान के APMC बाजार को बदलने की कोई मंशा नहीं है।

देश में एमएसपी के लिए इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट पहले से लागू

देश में पहले से ही MSP देने के लिए इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट का उपयोग किया जा रहा है। सरकार इसे पंजाब और हरियाणा में 2015-16 से लागू करने की कोशिश कर रही है। केंद्र सरकार लगातार इन दोनों राज्यों से बात कर रही है। पर इन दोनों राज्यों की सरकारें अभी भी डायरेक्ट ऑन लाइन पेमेंट के लिए समय मांग रही हैं। सरकार ने अब कह दिया है कि अगले सीजन से इसके समय में कोई ढील नहीं दी जाएगी।

बता दें कि पंजाब और हरियाणा के किसान इस समय सरकार के तीन नियमों का विरोध कर रहे हैं। पंजाब और हरियाणा में अभी तक आढ़तियों के जरिए पेमेंट होता है।

खबरें और भी हैं...