पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Mukesh Ambani Changpeng Zhao Net Woth; McDonald Ex Worker Richer Than Reliance Chairman

क्रिप्टोकरेंसी का कमाल:मैकडॉनल्ड्स का पूर्व कर्मचारी मुकेश अंबानी से धनी, 96 अरब डॉलर है संपत्ति

मुंबई6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मैकडॉनल्ड्स के पूर्व कर्मचारी चांगपेंग झाओ एशिया के सबसे अमीर बिजनेसमैन मुकेश अंबानी से धनी हैं। उनकी संपत्ति 96 अरब डॉलर आंकी गई है। जबकि अंबानी की नेटवर्थ 92 अरब डॉलर है।

पिछले महीने सामने आया नाम

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले महीने एक अप्रत्याशित धन कुबेर का नाम सामने आया है। यह अमीर पहले मैकडॉनल्ड्स का बर्गर-फ्लिपर और सॉफ्टवेयर डेवलपर हुआ करता था। यह शख्स रातों-रात दुनिया के सबसे धनी लोगों के क्लब में प्रवेश कर गया। झाओ क्रिप्टोकरेंसी के बादशाह हैं।

उन्हें सी जेड के नाम से जाना जाता है

क्रिप्टोफाइल्स दुनिया में उन्हें सी जेड के नाम से जाना जाता है। वह संयुक्त अरब अमीरात में तेजी से एक किवदंती बनते जा रहे हैं। वे अबू धाबी में रॉयल फॅमिली के साथ बैठक कर रहे हैं। झाओ अपना बिनांस एक्सचेंज लाने के लिए उत्सुक हैं। उन्होंने दुबई में एक अपार्टमेंट खरीदा है और दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा के पास और शहर के पाम जुमराह द्वीप पर डिनर की मेजबानी की है।

44 साल के हैं झाओ

ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के अनुसार 44 वर्षीय झाओ की कुल संपत्ति 96 बिलियन डॉलर है। यह पहली बार है जब ब्लूमबर्ग ने उनकी दौलत का अनुमान लगाया है। वे एशिया के सबसे अमीर बिजनेसमैन मुकेश अंबानी, मार्क जुकरबर्ग और गूगल के संस्थापक लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन से ज्यादा अमीर हैं।

ज्यादा हो सकती है झाओ की संपत्ति

दरअसल, झाओ की संपत्ति इससे भी ज्यादा हो सकती है। इसमें उनकी व्यक्तिगत क्रिप्टो होल्डिंग्स को ध्यान में नहीं रखा गया है। इसमें बिटकॉइन और उनकी फर्म का अपना टोकन भी शामिल है। बिनांस कॉइन पिछले साल लगभग 1,300% बढ़ी है। इसकी सफलता ने हाल ही में कइयों को धन कुबेर बनाया है।

मनी लॉन्ड्रिंग की हो रही है जांच

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस एंड इंटरनल रेवेन्यू सर्विस इस बात की जांच कर रही है कि क्या झाओ की कंपनी मनी लॉन्ड्रिंग और टैक्स में चोरी भी करती है। पिछले साल बिनांस ने कम से कम 20 बिलियन डॉलर का रेवेन्यू अर्जित किया।

कनाडा के नागरिक झाओ का जन्म चीन के जिआंगसु राज्य में हुआ था। उनके पिता यूनिर्वसिटी में प्रोफेसर थे। उनको सांस्कृतिक क्रांति के दौरान ग्रामीण इलाकों में निर्वासित कर दिया गया था और तब उनकी उम्र महज 12 साल की थी। तब उनके परिवार को वैंकूवर ले जाया गया।

कम उम्र में टेक्नोलॉजी के संपर्क में आने के बाद झाओ ने बाद में कंप्यूटर साइंस से पढ़ाई की। बाद में ब्लूमबर्ग एलपी में चार साल के कार्यकाल सहित टोकियो और न्यूयॉर्क में फाइनेंस कंपनियों में काम किया।

2013 में शुरू हुआ पैसा बनाने का रास्ता

क्रिप्टो से पैसा बनाने का झाओ का रास्ता शंघाई में 2013 में बीटीसी चीन के तत्कालीन सीईओ बॉबी ली और निवेशक रॉन काओ के साथ एक दोस्ताना पोकर गेम के दौरान शुरू हुआ। उन्होंने दोनों को अपने नेटवर्थ का 10% बिटकॉइन में डालने के लिए प्रोत्साहित किया। कुछ समय इसका अध्ययन करने के बाद उन्होंने इसका फायदा उठाया और बिटकॉइन के लिए अपना अपार्टमेंट बेच दिया।

2017 में बिनांस की स्थापना की

2017 में उन्होंने बिनांस की स्थापना की और यह जल्द ही एक क्रिप्टो पावर हाउस में तब्दील हो गया। झाओ ने अपनी बांह पर कंपनी के लोगो का टैटू भी बनवाया था। झाओ ने नवंबर में कहा था कि अब बिनांस एक लोकेशन ढूंढ रहा है और इसके मुख्यालय के बारे में एक घोषणा जल्द की जाएगी। अपने लीगल फाइलिंग में फर्म में कहा है कि यह केमैन आइलैंड में शामिल है जो एक ऑफशोर और टैक्स बचाने के लिए प्रसिद्ध है।

फर्म का नेटवर्थ 300 अरब डॉलर हो सकता है

नवंबर में वॉल स्ट्रीट जर्नल ने कहा था कि इस पूर्व एग्जिक्यूटिव के फर्म का नेटवर्थ 300 अरब डॉलर हो सकता है। इसका मतलब यह हुआ कि कंपनी टेस्ला के एलन मस्क और अमेजन के जेफ बेजोस से आगे निकल सकती है। मस्क 282 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ दुनिया में पहले नंबर पर हैं। बेजोस 192 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ दूसरे नंबर पर हैं।

खबरें और भी हैं...