पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52344.450.04 %
  • NIFTY15683.35-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47122-0.57 %
  • SILVER(MCX 1 KG)68675-1.23 %
  • Business News
  • Moody's Said GDP Growth Likely To Be 9.3% In 2021 22, Economy 'W' Shape Recovery Expected

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इकोनॉमी में ग्रोथ पर अनुमान:मूडीज ने कहा- 2021-22 में GDP ग्रोथ 9.3% रहने की संभावना, इकोनॉमी में 'W' शेप वाली रिकवरी की उम्मीद

मुंबई19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना महामारी से बुरी तरह प्रभावित इकोनॉमी में सुधार को लेकर कई अनुमान जारी किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में मूडीज ने भी अपना अनुमान जारी कर दिया है। रेटिंग एजेंसी के मुताबिक अगले दो फाइनेंशियल इयर में GDP में पॉजिटिव ग्रोथ रहने की संभावना है। रिपोर्ट के मुताबिक भारत की GDP मार्च 2022 को समाप्त फाइनेंशियल इयर में 9.3% बढ़ेगा। उसके अगले फाइनेंशियल इयर 2022-23 में GDP ग्रोथ 7.9% रहने का अनुमान है।

महामारी से नई मुश्किलें आईं
मूडीज को उम्मीद है कि चालू तिमाही यानी अप्रैल-जून के दौरान आर्थिक गतिविधियों की रफ्तार धीमी रह सकती है, जो आगे चलकर सुधरेगी। साथ ही महंगाई भी काबू में रहने की संभावना है। इससे फाइनेंशियल इयर में GDP ग्रोथ 9.3% रह सकती है। हालांकि 2020-21 में यह 7.3% गिर गया। महामारी से नई आर्थिक मुश्किलें उभरकर आई हैं। ऐसे में रियल GDP ग्रोथ औसतन करीब 6% रह सकती है।

GDP पर दिए गए पहले वाले अनुमान को घटाया
SBI के इकोनॉमिस्ट ने भी मंगलवार को GDP ग्रोथ पर अनुमान जारी किया है। इसके तहत 2021-22 में ग्रोथ दर 7.9% रहने का अनुमान है। इससे पहले इसी फाइनेंशियल इयर के लिए GDP ग्रोथ 10.4% रहने का अनुमान दिया गया था।

वैक्सीनेशन पर रहेगी नजर
देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक का मानना है कि कोरोना की दूसरी लहर से संक्रमण दर तेजी से बढ़ा, जिससे इकोनॉमी पर बुरा असर पड़ा है। अब आगे देश में वैक्सीनेशन के स्थिति से ग्रोथ की चाल पर असर पड़ेगा।

इकोनॉमी में 'W' शेप रिकवरी
साथ ही इंटरनेशनल मार्केट में कमोडिटीज प्राइसेस बढ़ने से भी GDP ग्रोथ की रफ्तार धीमी पड़ सकती है। ऐसे में इकोनॉमी में'W' शेप की रिकवरी देखने को मिल सकती है।

कोरोना से प्रमुख शहरों के हालात बिगड़े
अर्थशास्त्रियों के मुताबिक टीयर-2 शहरों के हालात ज्यादा बिगड़े, जिसमें गुजरात, हरियाणा, झारखंड, केरल, राजस्थान और उत्तराखंड शामिल हैं। ये राज्य देश की कुल GDP में बढ़ी हिस्सेदारी रखते हैं।