• Home
  • Milkbasket denied reports of being in talks for selling out the business to Paytm Mall and Reliance Industries

योजना /मिल्कबास्केट ने रिलायंस-पेटीएम मॉल के साथ सौदे की बात नकारी, अगले साल आईपीओ लाएगा ग्रॉसरी प्लेटफॉर्म

इस समय मिल्कबास्केट का एवरेज रेवेन्यू रन रेट 100 मिलियन डॉलर के करीब है। इस समय मिल्कबास्केट का एवरेज रेवेन्यू रन रेट 100 मिलियन डॉलर के करीब है।

  • कोरोना में बेहतर कारोबार के कारण समय से पहले आईपीओ लाने की योजना
  • दिल्ली-एनसीआर समेत पांच शहरों में ग्रॉसरी की डिलिवरी करती है मिल्कबास्केट

मनी भास्कर

Aug 28,2020 02:56:39 PM IST

नई दिल्ली. ग्रॉसरी डिलिवरी प्लेटफॉर्म मिल्कबास्केट ने अपना कारोबार रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) या पेटीएम मॉल को बेचने संबंधी रिपोर्ट्स नकार दी हैं। कंपनी अगले साल की दूसरी छमाही में इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (आईपीओ) लाने की योजना बना रही है। मिल्कबास्केट के को-फाउंडर और सीईओ अनंत गोयल का कहना है कि कोरोना महामारी के कारण उपभोक्ताओं ने घरों में ग्रॉसरी की डिलिवरी को तेजी से अपनाया है। इससे कंपनी को अपना आईपीओ एक साल के भीतर लाने के लिए प्रोत्साहन मिला है।

पहले 2023 में आईपीओ लाने की योजना थी

अनंत गोयल का कहना है कि 2015 में स्थापना के बाद पहली बार मिल्कबास्केट अपने ग्रोथ टार्गेट को आसानी से पूरा करने के करीब पहुंच गई है। गोयल के मुताबिक, कंपनी की योजना 2023 में आईपीओ लाने की थी, लेकिन अब ग्रोथ को देखते हुए कंपनी एक साल के भीतर आईपीओ लाने की योजना बना रही है। मिल्कबास्केट सब्जी, डेरी, बेकरी और एफएमसीजी से जुड़े 9 हजार उत्पादों की डिलिवरी करती है। कंपनी इस समय गुरुग्राम, नोएडा, द्वारका, गाजियाबाद, हैदराबाद और बेंगलुरु में सेवाएं दे रही है। इस समय कंपनी का एवरेज रेवेन्यू रन रेट 100 मिलियन डॉलर के करीब है।

अभी प्रारंभिक चरण में आईपीओ की प्रक्रिया

गोयल ने कहा कि हम आईपीओ की प्रक्रिया पर काम कर रहे हैं। इस प्रक्रिया में समय लगता है और हम अभी प्रारंभिक स्तर में हैं। लेकिन हम अगले साल की दूसरी छमाही में लॉन्चिंग की संभावना देख रहे हैं। अनंत का कहना है कि हम अभी भारत में लिस्टिंग की प्रक्रिया के बारे में सोच रहे हैं। हम एक भारतीय कंपनी हैं और हमें भारत में अच्छी पहचान मिली है।

कारोबार बेचने की बात नकारी

गोयल ने मिल्कबास्केट का कारोबार रिलायंस या पेटीएम मॉल को बेचने के लिए बातचीत संबंधी रिपोर्ट्स को नकार दिया है। गोयल ने कहा कि मैंने भी ऐसी रिपोर्ट्स पढ़ी हैं। हम अन्य स्टार्टअप्स की तरह अपना कारोबार बेचने के बारे में विचार नहीं कर रहे हैं। हमने निवेश के लिए इस स्टार्टअप की शुरुआत की है लेकिन हम कारोबार बेचने नहीं जा रहे हैं। हम मजबूत ग्रोथ देख रहे हैं। हमारा एबिटा पहले से ही सकारात्मक है। ऐसे में यदि हमें फंड नहीं मिलता है तो भी आईपीओ की योजना जारी रहेगी। अभी हम करीब 700 करोड़ रुपए के टर्नओवर वाली कंपनी हैं और अगली दो-तीन तिमाही में यह 1000 करोड़ हो जाना चाहिए।

ग्रोफर्स भी बना रहा है आईपीओ लाने की योजना

वहीं, ग्रॉसरी डिलिवरी प्लेटफॉर्म ग्रोफर्स भी आईपीओ लाने की योजना बना रहा है। सॉफ्टबैंक के निवेश वाला ग्रोफर्स अगले साल के अंत तक आईपीओ लॉन्च कर सकता है। लॉकडाउन अवधि में अच्छे कारोबार की बदौलत ग्रोफर्स मुनाफे की ओर बढ़ा है। ग्रोफर्स के को-फाउंडर और सीईओ अलबिंदर ढींढ़सा का कहना है कि कंपनी का ऑपरेशन जनवरी में मुनाफे में आ गया था। अब हम इस साल के अंत तक कैश पॉजिटिव कंपनी बनने की उम्मीद कर रहे हैं।

X
इस समय मिल्कबास्केट का एवरेज रेवेन्यू रन रेट 100 मिलियन डॉलर के करीब है।इस समय मिल्कबास्केट का एवरेज रेवेन्यू रन रेट 100 मिलियन डॉलर के करीब है।

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.