पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58490.93-0.89 %
  • NIFTY17396.9-1.07 %
  • GOLD(MCX 10 GM)46149-0.06 %
  • SILVER(MCX 1 KG)59920-1.88 %
  • Business News
  • Mid And Small Cap Shares Can Give More Returns Than Benchmark Index, Ipca Lab, Emami, Shobha On Jefferies Favorite List

जारी रहेगा आउटपरफॉर्मेंस:मिड और स्मॉल कैप शेयर इस साल दे सकते हैं ज्यादा रिटर्न; ओबेरॉय रियल्टी, इप्का, इमामी पर लगाया जा सकता है दाव

नई दिल्ली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्मॉल और मिड कैप इंडेक्स के बेहतर परफॉर्मेंस का ट्रेंड 2009, 2016 और 2017 में दिखा
  • कैलेंडर ईयर 2020 में दोनों इंडेक्स में शुरू हुआ आउटपरफॉर्मेंस का हालिया दौर जारी है

शेयर मार्केट से पिछले 10 साल में मिले रिटर्न के पैटर्न को देखेंगे तो पाएंगे कि निफ्टी के मिड कैप इंडेक्स ने निफ्टी स्मॉल कैप और बेंचमार्क निफ्टी दोनों से ज्यादा रिटर्न दिया है। ब्रोकरेज फर्म जेफरीज के मुताबिक इस दौरान शेयर बाजार में जिस-जिस साल उथल-पुथल मची, उसके अगले साल स्मॉल कैप और मिड कैप शेयरों का रिटर्न बेहतर रहा है। इस पैटर्न के हिसाब से इस साल स्मॉल और मिड कैप दोनों तरह की कंपनियों के शेयरों में आउटपरफॉर्मेंस जारी रह सकता है।

उथल पुथल वाले साल के बाद दोनों इंडेक्स ने दिया बेंचमार्क इंडेक्स से बेहतर रिटर्न

बेंचमार्क इंडेक्स के मुकाबले दोनों इंडेक्स के बेहतर परफॉर्मेंस का ट्रेंड 2009, 2016 और 2017 में दिखा और उनमें कैलेंडर ईयर 2020 में शुरू हुआ आउटपरफॉर्मेंस का हालिया दौर अब तक जारी है। लॉकडाउन हटने के बाद बिजनेस एक्टिविटी बढ़ने से 1 जून 2020 के बाद से बेंचमार्क निफ्टी 53% ऊपर आ चुका है।

एक दशक के हाई P/E पर ट्रेड कर रहे निफ्टी में 5 साल के औसत से 24% ऊपर और 10 साल के एवरेज से 37% ऊपर ट्रेड हो रहा है। निफ्टी फिलहाल 22 के P/E पर ट्रेड कर रहा है जो मार्च 2020 में कोविड-19 पर रोकथाम के लिए लॉकडाउन लगाए जाने के वक्त 12 P/E के निचले लेवल पर था।

टॉप 25% परफॉर्मर्स में प्रॉपर्टी, बिल्डिंग मैटीरियल, चुनिंदा इंडस्ट्रियल कंपनियां

1 जून 2020 के बाद से निफ्टी मिडकैप इंडेक्स 70% से ज्यादा ऊपर आ चुका है। अभी इसमें अगले 12 महीनों के 24 गुना P/E पर ट्रेड हो रहा है जो 5 साल के एवरेज P/E से 29% और 10 साल के औसत से 53% ज्यादा है। कोविड-19 से पहले निफ्टी मिडकैप इंडेक्स में 26 गुना पर ट्रेड कर रहा था।

1 जून 2020 के बाद से सबसे ज्यादा 104% का उछाल स्मॉल कैप इंडेक्स में आया है लेकिन अब भी इसका P/E निफ्टी से 10% और मिड कैप से 20% नीचे है। जून 2020 के बाद टॉप 25% परफॉर्मर्स में प्रॉपर्टी, बिल्डिंग मैटीरियल, इंडस्ट्रियल सेक्टर की चुनिंदा कंपनियां शामिल रही हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, इस दौरान हेल्थकेयर शेयरों का परफॉर्मेंस बेंचमार्क इंडेक्स से कमजोर रहा है।

ब्रोकरेज की पसंद

ऐसे में जेफरीज ने खरीदारी के लिए कुछ स्मॉल कैप और मिड कैप शेयर सुझाए हैं।

क्रॉम्पटन ग्रीव्ज कंज्यूमर इलेक्ट्रिकल्स

FMCG बाजार में ग्रोथ का फायदा पाने के लिए इस पर दाव लगाया जा सकता है। इसके पास कई तरह के प्रॉडट हैं और अच्छा मार्केट शेयर भी है। यह पंखे, बिजली-बत्ती, घरों में इस्तेमाल होने वाले पानी के पंप, गीजर बनाती है। पंखे के बाजार में इसकी 25% हिस्सेदारी है। इसको ब्रोकरेज फर्म ने 490 रुपए के टारगेट के साथ खरीदने की सलाह दी है जो बाजार भाव से लगभग 25% ज्यादा है।

KEI इंडस्ट्रीज

कंपनी के मैनेजमेंट का फोकस हाई मार्जिन वाले रिटेल बिजनेस पर है, जो उसके लिए पॉजिटिव है। कंपनी को एक्स्ट्रा हाई वोल्टेज केबल बाजार के अनऑर्गनाइज्ड से ऑर्गनाइज्ड सेक्टर की तरफ शिफ्ट होने और आत्मनिर्भर थीम का फायदा मिलेगा। जेफरीज ने इसके शेयरों को 650 रुपए के टारगेट प्राइस के साथ खरीदने की सलाह दी है जो बाजार भाव से 17% ज्यादा है। यह वित्त वर्ष 2023 के अनुमानित ईपीएस के 16 गुना है जो 9 के हिस्टोरिकल एवरेज से काफी ज्यादा है।

ओबेरॉय रियल्टी

जेफरीज ने कंपनी के शेयरों के 16% बढ़कर 668 रुपए तक जाने का अनुमान दिया है। यह जेफरीज के फेवरेट मिड कैप शेयरों में एक है। कंपनी को मुंबई में स्टांप ड्यूटी में कटौती का फायदा मिला है।

शोभा

ब्रोकरेज फर्म ने इस रियल्टी कंपनी के लिए 579 रुपए का टारगेट प्राइस तय किया है जो इसके इबिट्डा का 9 गुना है। इस हिसाब से कंपनी के शेयरों का दाम 30% बढ़ सकता है। हाउसिंग सेक्टर में मांग बढ़ने से कंपनी को फायदा हो रहा है। दिसंबर तिमाही में कंपनी की बिक्री रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच गई थी।

इमामी

जेफरीज के मुताबिक वित्त वर्ष 2022 के ईपीएस के 30 गुना पर ट्रेड हो रहा है जो उसके कॉम्पिटिटर से 30% कम है लेकिन बाजार भाव से 30% ज्यादा है। ब्रोकरेज का कहना है कि आने वाले समय में डिस्काउंट घट सकता है इसलिए उसने 620 रुपए के टारगेट के साथ खरीदने की सलाह दी है।

इप्का लैब

ब्रोकरेज फर्म ने कंपनी के शेयरों के लिए 2,292 रुपए का टारगेट तय किया है जो मौजूदा भाव से लगभग 20% ऊपर है। इप्का अपने इंडियन ब्रांडेड बिजनेस के लिए काफी क्लिनिकल डेटा जेनरेट कर रही है जिससे कंपनी को जीरोडोल जैसे ब्रांड बनाने में मदद मिली है।

खबरें और भी हैं...