पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX48832.030.06 %
  • NIFTY14617.850.25 %
  • GOLD(MCX 10 GM)470210.83 %
  • SILVER(MCX 1 KG)689701.52 %
  • Business News
  • Maharashtra Lockdown News; Hotel, Trade And Transport Sector Suffer Losses Upto 40 Thousand Crores

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लॉकडाउन से 40 हजार करोड़ का नुकसान:महाराष्ट्र में नए लॉकडाउन से बड़ा असर होगा, होटल, ट्रेड और ट्रांसपोर्ट सेक्टर को भारी घाटा

मुंबई11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना मरीजों की संख्या में महाराष्ट्र का अकेले का योगदान 60% से ज्यादा है
  • कम गतिविधियों के कारण देश भर में पावर सेक्टर को भी नुकसान होगा

महाराष्ट्र में लॉकडाउन से देश को 40 हजार करोड़ रुपए का घाटा हो सकता है। इसका सबसे ज्यादा असर ट्रेड, होटल और ट्रांसपोर्ट सेक्टर को होगा। यह अनुमान केयर रेटिंग एजेंसी ने जताया है।

इकोनॉमिक एक्टिविटी में 0.32 पर्सेंट की गिरावट

रेटिंग एजेंसी केयर ने कहा है कि इकोनॉमिक एक्टिविटी में 0.32% की गिरावट आ सकती है। एक हफ्ते पहले इस एजेंसी ने सकल घरेलू उत्पाद यानी GDP ग्रोथ का अनुमान भी घटाकर 10.7 से 10.9% के बीच कर दिया है। पहले यह 11 से 12% की ग्रोथ का अनुमान था। देश के कुल कोरोना मरीजों की संख्या में महाराष्ट्र का अकेले का योगदान 60% से ज्यादा है। यहां पर सोमवार को 57 हजार से ज्यादा मरीजों की संख्या पाई गई थी।

लॉकडाउन की घोषणा की गई है

राज्य में कोरोना के बढ़ते असर के कारण राज्य सरकार ने लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। इसके तहत रोजाना रात में और शुक्रवार की रात से सोमवार सुबह तक पूरा बंदी रहेगी। इसके तहत कुछ सीमित गतिविधियों को ही मंजूरी दी गई है। यह पाबंदी इस महीने के अंत तक रहेगी। चालू वित्त वर्ष में महाराष्ट्र का यह लॉकडाउन अकेले नहीं है। इसके पहले भी कई राज्यों ने आंशिक लॉकडाउन किया है। इसमें मध्य प्रदेश, गुजरात सहित कई राज्य हैं। एजेंसी का मानना है कि इससे प्रोडक्शन और खपत पर असर होगा।

महाराष्ट्र का योगदान 20.7 लाख करोड़ रुपए

पूरे राष्ट्रीय स्तर पर ग्रॉस वैल्यू अडेड का अनुमान इस वित्त वर्ष में 137.8 लाख करोड़ रुपए का है। इसमें महाराष्ट्र का योगदान 20.7 लाख करोड़ रुपए का है। लॉकडाउन से महाराष्ट्र को करीबन 2% का नुकसान हो सकता है। यह घाटा महाराष्ट्र के विभिन्न सेक्टर्स में होगा। एक महीने के लॉकडाउन से इस पर बड़ा असर दिखेगा। सेक्टर के नजरिए से देखें तो इसमें ट्रेड, होटल और ट्रांसपोर्ट ज्यादा घाटे में होंगे। इनको करीबन 15,722 करोड़ रुपए का घाटा होगा।

फाइनेंशियल और रियल इस्टेट सेक्टर पर भी होगा असर

इसी तरह फाइनेंशियल सर्विसेस, रियल इस्टेट और पेशेवर सेवाओं पर असर होगा। इन सभी को 9,885 करोड़ रुपए का नुकसान होगा। पब्लिक प्रशासन को 8,192 करोड़ रुपए का घाटा होने का अंदाजा है। एजेंसी ने कहा है कि देश की जीडीपी में महाराष्ट्र सबसे ज्यादा योगदान देने वाले राज्यों में से है। इसके बाद तमिलनाडु, गुजरात, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक हैं।

ग्राहकों की ओर से आने वाली मांग घटेगी

एजेंसी के मुताबिक, इस लॉकडाउन से ग्राहकों की ओर से आने वाली मांग में गिरावट आएगी। साथ ही मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में भी इसका असर दिखेगा। कम गतिविधियों के कारण पावर सेक्टर को भी नुकसान होगा। इससे ओवरऑल इलेक्ट्रिसिटी प्रोडक्शन पर असर होगा। कंस्ट्रक्शन और नए प्रोजेक्ट पर भी इसका बुरा असर दिखेगा। एजेंसी ने कहा है कि गैर जरूरी वाली दुकानों पर जिस तरह का प्रतिबंध लगाया गया है, उससे रिटेल सेगमेंट, ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म थोड़ा बहुत फायदा पा सकते हैं।

खबरें और भी हैं...