पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX44618.04-0.08 %
  • NIFTY13113.750.04 %
  • GOLD(MCX 10 GM)489731.36 %
  • SILVER(MCX 1 KG)629993.96 %
  • Business News
  • LIC Premium | Life Insurance Corporation Of India Collection Amid Novel Coronavirus Outbreak; Here's All You Need To Know

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पॉलिसी धारकों को मिला 62 हजार करोड़ का क्लेम:6 महीनों में LIC का 2.03 लाख करोड़ का प्रीमियम, मार्केट शेयर 70.57 % हुआ

मुंबईएक महीने पहलेलेखक: अजीत सिंह
  • कॉपी लिंक
  • LIC का डिजिटल कलेक्शन पिछले साल 28 पर्सेंट था, जो इस साल बढ़कर 42 % हो गया है
  • लॉक डाउन में इसने एक लाख एजेंट जोड़ा है। इसके साथ कुल एजेंट्स की संख्या 12.40 लाख हो गई

देश की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) ने लॉकडाउन में जबरदस्त सफलता हासिल की है। अप्रैल से अक्टूबर के दौरान इसने कुल 2.03 लाख करोड़ रुपए का प्रीमियम हासिल किया है। पिछले साल की समान अवधि की तुलना में इसमें 9 पर्सेंट की ग्रोथ रही है। इसी दौरान इसकी पॉलिसी में बाजार हिस्सेदारी 67.82 पर्सेंट तथा प्रीमियम में 70.57 पर्सेंट हो गई है।

फर्स्ट ईयर प्रीमियम 31,366 करोड़ रुपए रहा

आंकड़ों के मुताबिक एलआईसी के कुल 2.03 लाख करोड़ रुपए के प्रीमियम में फर्स्ट ईयर प्रीमियम 31 हजार 366 करोड़ रुपए रहा है। एक साल पहले समान अवधि में 26 हजार 629 करोड़ की तुलना में इसमें 17.79 पर्सेंट की बढ़त रही है। ग्रुप इंश्योरेंस में कंपनी को 66 हजार करोड़ रुपए मिले हैं। जबकि रिन्यूअल में इसे एक लाख 5 हजार 833 करोड़ का प्रीमियम मिला है। पिछले साल यह 93 हजार 591 करोड़ रुपए था। यानी इसमें 13 पर्सेंट की ग्रोथ रही है।

इस तरह से कुल प्रीमियम पिछले साल के एक लाख 87 हजार 720 करोड़ से 9 पर्सेंट बढ़कर 2.03 लाख करोड़ रुपए हो गया है।

लॉकडाउन से डिजिटल पर बढ़ा जोर

पिछले साल LIC का डिजिटल कलेक्शन 28 पर्सेंट था जो इस साल बढ़कर 42 पर्सेंट हो गया है। 30 सितंबर तक प्रीमियम में डिजिटल की बढ़त 86 पर्सेंट रही है। कंपनी की अच्छी बात यह रही कि उसने लॉकडाउन में एक लाख एजेंट जोड़ा है। इससे उसके कुल एजेंटों की संख्या 12.40 लाख हो गई है। पूरी बीमा इंडस्ट्री में आधा एजेंट अकेले एलआईसी के पास हैं।

पॉलिसीधारकों के दावों को निपटाने में तेजी

कंपनी ने लोगों के दावों को निपटाने के लिए तेजी से अभियान चलाया है। मैच्योरिटी में इसने 95 लाख मामलों में 54 हजार करोड़ रुपए का पेमेंट दिया है। डेथ क्लेम के 4.22 लाख मामलों में 8,313 करोड़ का पेमेंट किया गया है। कुल 28 प्रोडक्ट कंपनी के पास हैं। दरअसल लॉकडाउन में जहां पूरी अर्थव्यवस्था निगेटिव रही है, वहीं एलआईसी ने इससे अलग सभी सेगमेंट में बढ़त हासिल की है। प्रीमियम से लेकर पॉलिसी, एजेंट और दावों के भुगतान में इसने बेहतर प्रदर्शन किया है।

32 लाख करोड़ से ज्यादा की असेट्स

बता दें कि 32 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की परिसंपत्तियों वाली LIC इस समय यूलिप पर फोकस कर रही है। उसके तीन प्रोडक्ट यूलिप के हैं। इसमें सिप (एसआईआईपी), निवेश प्लस और एंडोमेंट प्लस है। कुछ समय पहले तक कंपनी ने यूलिप पर फोकस कम कर दिया था। पर अब यह आने वाले समय में यूलिप पर खास फोकस करनेवाली है।