पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59015.89-0.21 %
  • NIFTY17585.15-0.25 %
  • GOLD(MCX 10 GM)46178-0.54 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61067-1.56 %
  • Business News
  • IPO And FPO: Companies May Raise Rs 1 Lakh Crore By Initial Public Offer And Follow on Public Offer

पैसा जुटाने में तेजी:2021 में IPO से बनेगा रिकॉर्ड, कंपनियां दिसंबर तक 1 लाख करोड़ रुपए जुटा सकती हैं

मुंबई2 महीने पहलेलेखक: अजीत सिंह
  • कॉपी लिंक
  • इस साल में अभी तक 42 हजार करोड़ रुपए कंपनियों ने जुटाया है
  • 16 अगस्त तक 9 कंपनियां 16 हजार करोड़ जुटाने की तैयारी में हैं

कोरोना के समय में घरेलू कंपनियां पैसा जुटाने का रिकॉर्ड बना सकती हैं। कंपनियां साल के अंत तक IPO और FPO (फॉलोऑन पब्लिक ऑफर) के माध्यम से 1 लाख करोड़ रुपए जुटा सकती हैं। ये जुलाई तक 42 हजार करोड़ रुपए जुटा चुकी हैं। जबकि 16 अगस्त तक कुल 9 कंपनियां 16 हजार करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी में हैं। इसमें केवल 4 अगस्त को ही 3 IPO खुलेंगे।

नोवोको जुटाएगी 5 हजार करोड़ रुपए
अभी जो बड़े IPO अगले 15 दिनों में आने वाले हैं उसमें निरमा की सीमेंट कंपनी नोवोको 5 हजार करोड़ रुपए जुटाएगी। कारट्रेड 2 हजार करोड़ रुपए, जबकि अप्टस वैल्यू 3 हजार करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी में है। इसके अलावा इसी हफ्ते नायका सेबी के पास IPO के पास मसौदा भर सकती है। यह 5 हजार करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी में है। पॉलिसी बाजार डॉट कॉम अगले हफ्ते 6 हजार करोड़ रुपए के DRHP फाइल करेगी।

2017 में बना था रिकॉर्ड
भारतीय बाजार में इससे पहले 2017 में सबसे ज्यादा रकम जुटाई गई है। तब एक साल में 38 कंपनियों ने कुल 75 हजार करोड़ रुपए जुटाया था। सेबी के पास कंपनियों ने जितना ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रोसपेक्टस (DRHP) फाइल किया है और जितने कंपनियों को सेबी की मंजूरी मिली है, उससे यह संभावना बन रही है कि इस साल में रिकॉर्ड टूटेगा। IPO के लिए DRHP फाइल करना जरूरी होता है।

दर्जनों कंपनियों को सेबी की मंजूरी मिली है
जानकारों का मानना है कि जितनी कंपनियों को सेबी की मंजूरी मिली है, अगर केवल वही कंपनियां बाजार में आती हैं, तब भी जुटाई गई रकम का आंकड़ा 1 लाख करोड़ रुपए को पार कर जाएगी। सेबी के आंकड़े बताते हैं कि इस महीने में कुल 12 कंपनियों ने सेबी के पास DRHP जमा कराया है। जून में 6 कंपनियों ने जबकि मई में 12 और अप्रैल में 9 कंपनियों ने जमा कराया है।

सभी इश्यू को जबरदस्त रिस्पांस
पिछले साल से इस साल तक करीबन सभी IPO को जबरदस्त रिस्पांस निवेशकों का मिला है। साथ ही ये 200 गुना तक भरे हैं और निवेशकों को इसी अनुपात में जमकर फायदा भी दिए हैं। परंपरागत कंपनियों के अलावा जोमैटो, पेटीएम, नायका, फोन पे, मोबिक्विक, पॉलिसी बाजार जैसी कंपनियां भी इसी बाजार में आ रही हैं।

34 कंपनियों ने DRHP फाइल किया है
सेबी के आंकड़े बताते हैं कि 34 कंपनियों ने हाल के समय में सेबी के पास DRHP फाइल किया है। ये सभी मिलकर 75 हजार करोड़ रुपए जुटाने की योजना बना रही हैं। इसके अलावा 50 कंपनियों ने IPO बाजार में उतरने की घोषणा की है। इसमें से 21 कंपनियां 70 करोड़ रुपए जुटा सकती हैं। हालांकि LIC सबसे बड़ा IPO है, पर वह अगले साल में आ सकता है। अगर वह दिसंबर तक आता है तो फिर यह रकम 1.80 लाख करोड़ रुपए हो जाएगी।

पेंशन फंड का भी पैसा लगेगा
IPO बाजार के लिए एक और इस साल अच्छी बात है कि पेंशन फंड का पैसा भी अब IPO में लगाया जा सकता है। इस पैसे को अभी तक IPO में लगाने की मंजूरी नहीं मिली थी। जोमैटो के बाद अगली नजर पेटीएम पर निवेशकों की है। यह 16,600 करोड़ रुपए जुटाने की योजना में है। यह IPO दिवाली तक आ सकता है। इसकी पैरेंट कंपनी वन97 स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्ट होगी।

जोमैटो ने जुटाया 9,375 करोड़ रुपए
पिछले 3-4 सालों में बड़े IPO की बात करें तो इस साल में जोमैटो ने 9,375 करोड़ रुपए, पावर ग्रिड ने 7,734 करोड़ रुपए, इंडियन रेलवे फाइनेंस कॉर्पोरेशन ने 4,633 करो़ड़ रुपए जुटाए थे। पिछले साल ग्लैंड फार्मा ने 6,479 करोड़ रुपए, SBI कार्डस ने 10,354 और स्टर्लिंग एंड विल्सन ने 2019 में 3,145 करोड़ रुपए जुटाया था। 2018 में ICICI सिक्योरिटीज ने 4,016 करोड़ रुपए, हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स ने 4,144 करोड़, बंधन बैंक ने ,4473 करोड़ रुपए जुटाए थे।

2017 में तीन बीमा कंपनियों ने अच्छी रकम जुटाई थी
​​​​​​​2017 में तीन बीमा कंपनियों ने अच्छी रकम जुटाई थी। HDFC लाइफ ने 8,695 करोड़ रुपए, न्यू इंडिया इंश्योरेंस ने 9,600 करोड़ और जनरल इंश्योरेंस ने 11,176 करोड़ रुपए की रकम जुटाई थी। साल के आधार पर देखें तो इस साल 42 हजार करोड़ रुपए जुटाया गया है तो पिछले साल 26,628 करोड़ रुपए कंपनियों ने जुटाया था। 2019 में 12,687 और 2018 में 31 हजार करोड़ रुपए जुटाया गया था।