पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX49792.120.8 %
  • NIFTY14644.70.85 %
  • GOLD(MCX 10 GM)490860.22 %
  • SILVER(MCX 1 KG)659170.23 %
  • Business News
  • India CPI Inflation Rate And IIP Data December 2020; Retail Inflation Rate At 4.59 Percent Compared To 6.93 % In November

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सस्ती सब्जियों का सपोर्ट:दिसंबर में घटकर 4.59% पर आई महंगाई दर, लेकिन औद्योगिक उत्पादन भी 1.9% नीचे आया

नई दिल्ली8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

महंगाई के मोर्चे पर एक अच्छी खबर आई है। दिसंबर में खुदरा महंगाई घटकर 4.59% रह गई।इसकी वजह सब्जियों के दाम में आई तेज गिरावट रही। खुदरा मूल्य सूचकांक (CPI) आधारित महंगाई दर नवंबर में 6.93% रही थी जो पिछले दिसंबर में 7.35% थी। हालांकि औद्योगिक उत्पादन के मोर्चे पर अच्छी खबर नहीं है, जिसमें नवंबर में 1.9% की गिरावट आई। जानकारों के मुताबिक, इस पर फेस्टिव सीजन डिमांड की समाप्ति और कंपनियों की इनवेंटरी में बढ़ोतरी का असर दिखा। औद्योगिक उत्पादन दो महीने बाद गिरा है। नवंबर में यह 2.1% बढ़ा था।

मार्च 2020 के बाद पहली बार RBI के कंफर्ट रेंज में महंगाई

महंगाई मार्च 2020 के बाद पहली बार RBI की तरफ से तय 4% और उसके 2% ऊपर और नीचे की टारगेट रेंज में आ गई है। दिसंबर में खाने-पीने के सामान के दाम में बढ़ोतरी की दर घटकर 16 महीनों के निचले लेवल 3.87% पर आ गई। फूड इनफ्लेशन नवंबर में 8.76% रहा था। दिसंबर में सब्जियों के दाम में सालाना आधार पर 10.41% की तेज गिरावट आई। नवंबर में सब्जियां 15.63% महंंगी हो गई थीं।

महंगाई दर जनवरी 2021 में भी घट सकती है: इकरा

रेटिंग एजेंसी इकरा की प्रिंसिपल इकनॉमिस्ट अदिति नायर के मुताबिक, महंगाई जनवरी 2021 में भी घट सकती है। जनवरी के शुरुआती आंकड़ों के मुताबिक, सब्जियों के दाम में गिरावट जारी रह सकती है। लेकिन इस दौरान खास तौर पर रसोई में इस्तेमाल होने वाले तेलों का दाम बढ़ सकता है। क्रूड ऑयल के दाम में आ रही तेजी का थोड़ा बहुत असर घरेलू बाजार में फ्यूल की कीमत पर पड़ेगा। इससे महंगाई में बढ़ोतरी की चिंता बढ़ेगी।

IIP घटने की वजह माइनिंग, मैन्यूफैक्चरिंग प्रॉडक्शन में कमी

नवंबर में औद्योगिक उत्पादन में गिरावट की वजह माइनिंग और मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर के उत्पादन में आई कमी रही। छह महीने तक शून्य से नीचे रहने के बाद अक्टूबर में लगातार दूसरे महीने इसमें बढ़ोतरी की दर पॉजिटिव रही थी। उस महीने (अक्टूबर में) औद्योगिक उत्पादन दर 3.6% रही थी जबकि नवंबर 2019 में 2.1% थी।

मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर के उत्पादन में 1.7% की गिरावट आई

नवंबर में मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर के उत्पादन में 1.7% की गिरावट आई। साल भर पहले उसमें 3% की बढ़ोतरी हुई थी। माइनिंग सेक्टर का प्रॉडक्शन नवंबर 2020 में 7.3% घटा। साल भर पहले इसमें 1.9% की बढ़ोतरी हुई थी। इन सबके बीच बिजली का उत्पादन इस साल नवंबर में 3.5% बढ़ा।

Open Money Bhaskar in...
  • Money Bhaskar App
  • BrowserBrowser