पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59141.160.71 %
  • NIFTY17629.50.63 %
  • GOLD(MCX 10 GM)46430-1.35 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62034-1.58 %
  • Business News
  • Industrial Production Decreased In July Compared To June, IIP Growth In July Was 11.5%

IIP के आंकड़े जारी:जुलाई में बढ़ी औद्योगिक उत्पादन की रफ्तार; 11.5% रहा IIP ग्रोथ रेट, जून में 13.6% था

नई दिल्ली6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सरकार ने जुलाई के IIP यानी उद्योगों के उत्पादन के आंकड़े जारी कर दिए हैं। औद्योगिक उत्पादन दर उस महीने 11.5% रही, जो जून में 13.6% थी। अगर पिछले साल की बात करें तो औद्योगिक उत्पादन में तब 10.5% की गिरावट आई थी। रॉयटर्स ने 41 अर्थशास्त्रियों के सर्वे के आधार पर जुलाई में IIP 10.7% रहने का अनुमान दिया था।

कैपिटल गुड्स सेक्टर में शानदार रिकवरी

अप्रैल से जुलाई के दौरान सालाना आधार पर IIP ग्रोथ -29.3% से उछलकर 34.1% पर पहुंच गई है। कैपिटल गुड्स सेक्टर में शानदार रिकवरी देखने को मिली है, जिसकी ग्रोथ सालाना आधार पर -22.8% से बढ़कर 29.5% पर पहुंच गई है।

कोविड के चलते औद्योगिक उत्पादन में पिछले साल मार्च से गिरावट आना शुरू हो गया था। तब कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देशभर में लॉकडाउन लगा दिया गया था। इससे आर्थिक गतिविधियों में गिरावट आई और अप्रैल 2020 में औद्योगिक उत्पादन 57.3% घट गया था।

इंडेक्स ऑफ इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन (IIP) क्या है?

जैसा कि नाम से ही जाहिर है, उद्योगों के उत्पादन के आंकड़े को औद्योगिक उत्पादन कहते हैं। इसमें तीन बड़े सेक्टर शामिल किए जाते हैं। पहला है- मैन्युफैक्चरिंग, यानी उद्योगों में जो बनता है, जैसे गाड़ी, कपड़ा, स्टील, सीमेंट जैसी चीजें।

दूसरा है- खनन, जिससे मिलता है कोयला और खनिज। तीसरा है- यूटिलिटिज यानी जन सामान्य के लिए इस्तेमाल होने वाली चीजें। जैसे- सड़कें, बांध और पुल। ये सब मिलकर जितना भी प्रॉडक्शन करते हैं, उसे औद्योगिक उत्पादन कहते हैं।

इसे नापा कैसे जाता है?

IIP औद्योगिक उत्पादन को नापने की इकाई है- इंडेक्स ऑफ इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन। इसके लिए 2011-12 का आधार वर्ष तय किया गया है। यानी 2011-12 के मुकाबले अभी उद्योगों के उत्पादन में जितनी तेजी या कमी होती है, उसे IIP कहा जाता है।

इस पूरे IIP का 77.63% हिस्सा मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर से आता है। इसके अलावा बिजली, स्टील, रिफाइनरी, कच्चा तेल, कोयला, सीमेंट, प्राकृतिक गैस और फर्टिलाइजर- इन आठ बड़े उद्योगों के उत्पादन का सीधा असर IIP पर दिखता है।