पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52344.450.04 %
  • NIFTY15683.35-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47122-0.57 %
  • SILVER(MCX 1 KG)68675-1.23 %
  • Business News
  • India Received 83 Billion Dollar In Remittances In 2020: World Bank Report

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बेअसर रहा कोरोना:2020 में प्रवासी भारतीयों ने 6.10 लाख करोड़ रुपए भारत भेजे, 2019 के मुकाबले इसमें 0.2% की गिरावट रही

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दूसरे देशों में काम करने वाले प्रवासियों की ओर से बैंक, पोस्ट ऑफिस या ऑनलाइन ट्रांसफर के जरिए अपने मूल देश को भेजे जाने वाले पैसे को रेमिटेंस कहा जाता है। - Money Bhaskar
दूसरे देशों में काम करने वाले प्रवासियों की ओर से बैंक, पोस्ट ऑफिस या ऑनलाइन ट्रांसफर के जरिए अपने मूल देश को भेजे जाने वाले पैसे को रेमिटेंस कहा जाता है।
  • 2020 में भारत को सबसे ज्यादा रेमिटेंस मिला
  • अमेरिका से सबसे ज्यादा रेमिटेंस भेजा गया

2020 में प्रवासी भारतीयों ने 83 बिलियन डॉलर करीब 6.10 लाख करोड़ रुपए (रेमिटेंस) अपने देश भेजे हैं। वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं के कोरोना से प्रभावित रहने के बावजूद 2019 के मुकाबले इसमें 0.2% की मामूली गिरावट रही है। 2019 में भारत को रेमिटेंस के रूप में 83.3 बिलियन डॉलर करीब 6.13 लाख करोड़ रुपए की राशि मिली थी। वर्ल्ड बैंक की ताजा रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।

चीन को रेमिटेंस के रूप में 59.5 बिलियन डॉलर भेजे गए

वर्ल्ड बैंक की ओर से जारी डाटा के मुताबिक, 2020 में चीन को रेमिटेंस के रूप में 59.5 बिलियन डॉलर करीब 4.37 लाख करोड़ रुपए की राशि मिली है। जबकि 2019 में 68.3 बिलियन डॉलर करीब 5 लाख करोड़ रुपए की राशि रेमिटेंस में मिली थी। 2020 रेमिटेंस प्राप्त करने में भारत पहले और चीन दूसरे स्थान पर रहा है।

यूएई से आने वाली रेमिटेंस में 17% की गिरावट

रिपोर्ट के मुताबिक, यूनाइटेड अरब अमीरात यानी से भारत को आने वाली रेमिटेंस में 2020 में 17% की गिरावट रही है। भारत और चीन के बाद रेमिटेंस के रूप में मैक्सिको को 42.8 बिलियन डॉलर, फिलीपींस को 34.9 बिलियन डॉलर, मिस्र को 29.6 बिलियन डॉलर, पाकिस्तान को 26 बिलियन डॉलर, फ्रांस को 24.4 बिलियन डॉलर और बांग्लादेश को 21 बिलियन डॉलर की राशि मिली है।

पाकिस्तान के रेमिटेंस में 17% का उछाल

डाटा के मुताबिक, पड़ोसी देश पाकिस्तान के रेमिटेंस के रूप में मिलने वाली राशि में 17% का उछाल आया है। 2020 में पाकिस्तान को सऊदी अरब से सबसे ज्यादा रेमिटेंस मिला है। इसके बाद यूरोपियन यूनियन से जुड़े देशों और यूएई का नंबर आता है। बांग्लादेश को मिलने वाले रेमिटेंस में 18.4% और श्रीलंका के रेमिटेंस में 5.8% का उछाल रहा है।

नेपाल को मिलने वाले रेमिटेंस में कमी आई

2020 में नेपाल को मिलने वाले रेमिटेंस में 2% की गिरावट रही है। जबकि 2020 की पहली तिमाही में रेमिटेंस में 17% की गिरावट रही थी। वर्ल्ड बैंक की ताजा माइग्रेशन एंड डेवलपमेंट ब्रीफ में कहा गया है कि कोविड के बावजूद 2020 में रेमिटेंस में लचीलापन रहा है। अनुमान के मुकाबले इसमें मामूली गिरावट रही है।

क्या होती है रेमिटेंस?

दूसरे देशों में काम करने वाले प्रवासियों की ओर से बैंक, पोस्ट ऑफिस या ऑनलाइन ट्रांसफर के जरिए अपने मूल देश को भेजे जाने वाले पैसे को रेमिटेंस कहा जाता है।