पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX48753.510.13 %
  • NIFTY14707.050.07 %
  • GOLD(MCX 10 GM)475690 %
  • SILVER(MCX 1 KG)698750 %
  • Business News
  • IDBI Bank Profit Rs 1,359 Crore, Home First Gains Up 25.9%

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

5 साल में पहली बार सालाना मुनाफा कमाया:IDBI बैंक को 1,359 करोड़ रुपए का फायदा, होम फर्स्ट का 25.9% लाभ बढ़ा

मुंबई11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आईडीबीआई बैंक की शुद्ध ब्याज आय 38% बढ़कर सालाना आधार पर 3,240 करोड़ रुपए रही है। इसी साल मार्च में यह रिजर्व बैंक के पीसीए के फ्रेमवर्क से बाहर आया था। पीसीए का मतलब एक तय नियम के तहत अगर बैंक का घाटा है तो पीसीए में आ जाता है - Money Bhaskar
आईडीबीआई बैंक की शुद्ध ब्याज आय 38% बढ़कर सालाना आधार पर 3,240 करोड़ रुपए रही है। इसी साल मार्च में यह रिजर्व बैंक के पीसीए के फ्रेमवर्क से बाहर आया था। पीसीए का मतलब एक तय नियम के तहत अगर बैंक का घाटा है तो पीसीए में आ जाता है
  • 2019-20 में IDBI बैंक ने 12,887 करोड़ रुपए का घाटा दिखाया था

एलआईसी के मालिकाना हक वाले IDBI बैंक ने 5 साल में पहली बार सालाना मुनाफा कमाया है। इसने वित्त वर्ष 2020-21 में 1,359 करोड़ रुपए का लाभ कमाया है। 2019-20 में इसने सालाना 12,887 करोड़ रुपए का घाटा दिखाया था। उधर दूसरी ओर होम फर्स्ट फाइनेंस के फायदे में 25.9% की बढ़त हुई है।

चौथी तिमाही में फायदा 4 गुना बढ़ा

IDBI बैंक ने बताया कि जनवरी-मार्च की चौथी तिमाही में बैंक के फायदे में करीबन 4 गुना की बढ़त हुई है और यह 512 करोड़ रुपए रहा है। यह फायदा इसलिए बढ़ा क्योंकि बैंक ने टैक्स रिफंड और शुद्ध ब्याज में ज्यादा कमाई की है। एक साल पहले इसी तिमाही में बैंक का लाभ 135 करोड़ रुपए था। बैंक को टैक्स रिफंड के रूप में 2,305 करोड़ रुपए मिला है। इसमें से 1,300 करोड़ रुपए ब्याज है। इससे बैंक ने कोविड में 500 करोड़ रुपए का प्रोविजन किया था। जबकि 800 करोड़ रुपए का प्रोविजन अन्य के रूप में किया था।

शुद्ध ब्याज आय 38 पर्सेंट बढ़ी

इसकी शुद्ध ब्याज आय 38% बढ़कर सालाना आधार पर 3,240 करोड़ रुपए रही है। इसी साल मार्च में यह रिजर्व बैंक के पीसीए के फ्रेमवर्क से बाहर आया था। पीसीए का मतलब एक तय नियम के तहत अगर बैंक का घाटा है तो पीसीए में आ जाता है। इसकी वजह से बैंक न तो नई शाखा खोल पाता है और न ही लोन बांट पाता है। बैंक के एमडी राकेश शर्मा ने कहा कि पहले हमारा फोकस रिटेल पर था। मिड कॉर्पोरेट और लॉर्ज कॉर्पोरेट में हमने 8 से 10% की ग्रोथ देखा है।

10 पर्सेंट की ग्रोथ का लक्ष्य

उन्होंने कहा कि हमारी उम्मीद है कि इस वित्त वर्ष में भी 10% की ग्रोथ रहेगी। बैंक का ग्रॉस एनपीए यानी बुरा फंसा कर्ज 22.37% रहा है। यह एक साल पहले इसी अवधि में 27.53% था। शुद्ध एनपीए इसी दौरान 4.19% से घट कर 1.97% पर आ गया है।

होम फर्स्ट को 100 करोड़ का लाभ

दूसरी ओर होम फर्स्ट का फायदा वित्त वर्ष 2020-21 में 100 करोड़ रुपए को पार कर गया है। यह सालाना आधार पर 25.90% बढ़ा है। बैंक ने चौथी तिमाही में कुल 452 करोड़ रुपए का लोन दिया है। इसमें 30.4% की बढ़त रही है। इसका असेट अंडर मैनेजमेंट 4,141 करोड़ रुपए का रहा है। इसमें 14.4% की ग्रोथ रही है।

सस्ते घरों को लोन देती है

होम फर्स्ट टेक्नोलॉजी के आधार पर सस्ते घरों को लोन मुहैया कराती है। यह पहली बार घर खरीदने वालों पर फोकस करती है। इसमें कम और मध्यम आय वाले लोग होते हैं। यह फरवरी 2021 में शेयर बाजार में लिस्ट हुई थी। कंपनी के एमडी एवं सीईओ मनोज विश्वनाथन ने बताया कि हमारा चौथी तिमाही का रिजल्ट हमारे अनुमान से आगे रहा है। इस साल हमने रिकॉर्ड 100 करोड़ रुपए का लाभ कमाया है। यह कंपनी के इतिहास में पहली बार हुआ है। उन्होंने कहा कि हमारा कलेक्शन 98.5% मार्च 2021 में रहा है।