पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • High end, Organized Retail To Boost Opportunities In Thriving Marketplaces

छोटे शहरों में भी शॉपिंग मॉल:ऑर्गेनाइज्ड रिटेल की मांग बढ़ी, देश में इस साल 12 और अगले साल 16 शॉपिंग मॉल्स खुलेंगे

मुंबई15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

उपभोक्ताओं का खरीदारी और सोशलाइजिंग का रुझान सामान्य स्तर पर लौटने से देश के शॉपिंग मॉल में भीड़-भाड़ वाला माहौल फिर आबाद होने लगा है। इसके चलते रिटेल रियल एस्टेट सेक्टर फिर से मजबूत वापसी कर रहा है। मॉल में ऑर्गनाइज्ड रिटेल स्पेस की डिमांड भी तेजी से बढ़ रही है। इसे पूरा करने टियर-1 के अलावा टियर-2 और टियर-3 शहरों में भी नए मॉल खुलने जा रहे हैं। इस साल देश के 12 शहरों में 15 नए मॉल खुलेंगे। चेन्नई में सबसे ज्यादा 4 मॉल खुलेंगे।

साल 2022 में मॉल्स में स्पेस की सप्लाई दोगुनी
प्रॉपर्टी कंसल्टेंट एनारॉक की सोमवार को जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2022 में मॉल्स में स्पेस की सप्लाई दोगुनी होकर 1 करोड़ 50 हजार वर्गफीट की होगी। इसमें टियर-1 शहरों में 76 लाख 50 हजार वर्गफीट एरिया का विस्तार होगा, जबकि टियर-2 और 3 शहरों में यह आंकड़ा 25 लाख वर्गफीट होगा। यानी इस साल नए मॉल में 75 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी टियर-1 शहरों की होगी।

बीते साल 57 लाख 60 हजार वर्गफीट मॉल एरिया बढ़ा था, जिसमें टियर-1 और टियर-2,3 शहरों की हिस्सेदारी क्रमशः 70% और 30% थी। वहीं अगले साल 16 नए मॉल खुलने की उम्मीद है। इनका एरिया 75 लाख वर्गफीट से अधिक होगा। खास बात यह है कि इसमें छोटे शहरों यानी टियर 2 और 3 की हिस्सेदारी बढ़कर 33% हो जाएगी।

इंदौर, भोपाल और उदयपुर जैसे छोटे शहरों में भी खुलेंगे नए मॉल

  • 2022 टियर-1: अहमदाबाद, चेन्नई, बैंगलुरू, हैदराबाद, मुंबई और पुणे।
  • टियर- 2-3: शहर- बड़ौदा, बदायूं, इंदौर, नागपुर, उदयपुर।
  • 2023 टियर-1: बैंगलुरू, गुरूग्राम, चेन्नई, अहमदाबाद, हैदराबाद, मुंबई, पुणे और गाजियाबाद।
  • टियर-2-3: भोपाल, कटक, कोच्चि, लखनऊ, विशाखापट्टनम।

एनारॉक रिटेल के सीओओ पंकज रेनझेन के मुताबिक एनारॉक रिटेल टियर-2 और 3 शहरों में भी मॉल की संख्या बढ़ रही है। सालाना आधार पर इस साल इन शहरों में मॉल आपूर्ति में 91% की बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। महामारी के बावजूद मॉल की संख्या और एरिया में बढ़ोतरी से साफ पता चलता है कि फिजिकल रिटेल का प्रभुत्व भारत में अभी भी कायम है।