पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %
  • Business News
  • Gold Silver Price 15th November Update; Sona Chandi Ka Rate Per Gram Kya Hai In India Mumbai Delhi

गोल्ड-सिल्वर अपडेट:हफ्ते के पहले कारोबारी दिन बढ़ी सोने-चांदी की चमक, सर्राफा बाजार में 49,163 रुपए पर पहुंचा सोना

नई दिल्ली13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हफ्ते के पहले कारोबारी दिन यानी सोमवार को सर्राफा बाजार में सोने-चांदी की चमक बढ़ी है। इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन (IBJA) की वेबसाइट के अनुसार आज सर्राफा बाजार में सोना 160 रुपए महंगा होकर 49,163 रुपए पर पहुंच गया है। वहीं चांदी की बात करें तो ये 203 रुपए महंगी होकर 66,488 रुपए प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई है।

वायदा बाजार में लुढके सोने-चांदी
वायदा बाजार की बात करें तो यहां सोने में गिरावट देखने को मिल रही है। दोपहर 4 बजे MCX पर सोना 184 रुपए की गिरावट के साथ 49,130 रुपए पर ट्रेड कर रहा है। वहीं चांदी की बात करें तो ये 427 रुपए की गिरावट के साथ 66,717 रुपए पर ट्रेड कर रही है।

साल के आखिर तक 52 हजार तक जा सकता है सोना
IIFL सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटी एंड करेंसी) अनुज गुप्ता कहते हैं कि फेस्टिवल सीजन में सोने की डिमांड में तेजी आई है। इसके अलावा शादियों के सीजन में इसकी डिमांड और बढ़ेगी। इनके चलते साल के आखिर तक सोने के दाम 50 हजार रुपए पर पहुंच सकते हैं।

क्यों बढ़ रहे सोने के दाम?
अमेरिका में महंगाई ने कई दशकों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। वहां की आर्थिक विकास दर भी निचले स्तर पर आ गई है। दूसरी तरफ रूस, जर्मनी और चीन के कई इलाकों में कोविड महामारी की तीसरी लहर के चलते लॉकडाउन लगाने की नौबत आ गई है। ये हाल की घटनाएं हैं।

इनके चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था की रिकवरी पटरी से उतरने की आशंका गहरा गई है। ऐसे में लोग एहतियातन सोने में निवेश बढ़ा देते हैं क्योंकि पता नहीं होता कि निकट भविष्य में अर्थव्यस्था किस दिशा में जाएगी।

ये भी हैं दाम बढ़ने की वजह

  • फेड ने बॉन्ड बायिंग प्रोग्राम में कटौती का ऐलान किया है।
  • बॉन्ड यील्ड और डॉलर इंडेक्स में कोई बड़ी तेजी नहीं बनी है।
  • चीन और भारत में फिजिकल गोल्ड की डिमांड बेहतर हुई है।
  • एसेट क्लास के लिहाज से सोना अभी इक्विटी के मुकाबले ज्यादा आकर्षक हो गया है।
  • अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने इकोनॉमिक रिकवरी की रफ्तार बहुत धीमी बताई है।
  • भारतीय रिजर्व बैंक समेत तमाम देशों के केंद्रीय बैंकों ने ब्याज दरें निचले स्तर पर रखी हैं।