पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60967.050.24 %
  • NIFTY18125.40.06 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479130.65 %
  • SILVER(MCX 1 KG)654460.63 %
  • Business News
  • Gold Price ; Investment In Gold ; Gold Gives 17% Return In Last 1 Year, Gold Can Reach 52 Thousand Again

सोने में निवेश का सही समय:बीते 1 साल में सोने ने दिया 17% का रिटर्न, 55 साल में भाव 63 रुपए से 45 हजार रुपए पहुंचा

नई दिल्ली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सोने की कीमत एक बार फिर बढ़ने लगी है। सोना फिर 45 हजार रु. प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया है। एक्सपर्ट का मानना है कि कोरोना की दूसरी लहर और शादियों का सीजन शुरू होने के कारण सोने की मांग बढ़ने लगी है। इसके चलते सोना इस साल के आखिर तक एक बार फिर 52 हजार रुपए तक पहुंच सकता है।

लंबे समय के लिए निवेश के लिए सोना बेहतर विकल्प
आप लंबे समय के लिए सोने में निवेश कर सकते हैं। हमेशा देखा गया है कि सोने में लंबे समय के लिए निवेश हमेशा फायदेमंद रहता है। ऑक्‍सफोर्ड इकोनॉमिक्‍स के शोध के अनुसार, सोना डिफ्लेशन की अवधि में अच्‍छा प्रदर्शन करता है। डिफ्लेशन वह समय होता है जब ब्‍याज की दरें कम होती हैं और विकास दर भी कम रहती है। जैसा कि अभी है। देश का सबसे बड़ा बैंक SBI इस समय फिक्स्ड डिपॉजिट पर अधिकतम 5.4% सालाना ब्याज दे रहा है। इसके अलावा चालू वित्त वर्ष 2020-21 की तीसरी तिमाही में देश की GDP ग्रोथ रेट 0.4% दर्ज की गई।

क्या सोने में अभी निवेश करना सही?
IIFL सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटी एंड करेंसी) अनुज गुप्ता कहते हैं कि कोरोना के कारण अगस्त 2020 में सोना 56 हजार पर पहुंच गया था और अब एक बार फिर देश और दुनिया में कोरोना की दूसरी लहर आ गई है। इसके अलावा अब शादी को सीजन शुरू हाे चुका है इस कारण भी सोने में बढ़त देखने को मिल रही है।

इसके अलावा मई में अक्षय तृतीया भी है उससे भी सोने की मांग बढ़ेगी और सोने के दाम बढ़ सकते हैं। अनुज गुप्ता के अनुसार इसके चलते सोने के दाम एक बार फिर 52 हजार रुपए पर पहुंच सकते हैं। ऐसे में अगर कोई निवेशक गोल्ड में निवेश करना चाहता है तो ये सही समय हो सकता है।

बेटी की शादी में सोना खरीदने की अभी से करें तैयारी
अगर आपको अपनी बेटी की शादी 10 से 15 साल बाद भी करनी है तो आप उसके लिए आज से ही सोने में निवेश शुरू कर सकते हैं, क्योंकि हो सकता है कि 10 से 15 साल बाद सोना बहुत ज्यादा महंगा हो जाए और तब आपको इसे खरीदने में समस्या हो सकती है। ऐसे में आप आज से ही डिजिटल गोल्ड में निवेश शुरू कर सकते हैं। इसकी शुरुआत आप मात्र 500 रुपए से कर सकते हैं। आप जब चाहें इससे पैसा निकालकर अपनी बेटी के लिए सोना खरीद सकते हैं। इन 4 तरह से गोल्ड में कर सकते हैं निवेश...

1. गोल्ड एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड्स (Gold ETF)
सोने को शेयरों की तरह खरीदने की सुविधा को गोल्ड सईटीएफ कहते हैं। ये एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड हैं जिन्हें स्टॉक एक्सचेंजों पर खरीदा और बेचा जा सकता है। चूंकि गोल्ड ईटीएफ का बेंचमार्क स्पॉट गोल्ड की कीमतें है, आप इसे सोने की वास्तविक कीमत के करीब खरीद सकते हैं। गोल्ड ईटीएफ खरीदने के लिए आपके पास एक ट्रेडिंग डीमैट खाता होना चाहिए। इसमें सोने की खरीद यूनिट में की जाती है। इसे बेचने पर आपको सोना नहीं बल्कि उस समय के बाजार मूल्य के बराबर राशि मिलती है।

यह सोने में निवेश के सबसे सस्ते विकल्पों में से एक है। इन्हें शेयरों की तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के कैश मार्केट में खरीदा-बेचा जा सकता है। गोल्ड ईटीएफ की एक यूनिट एक ग्राम सोने के बराबर होती है, लेकिन गोल्ड ETF में कोई अपर लिमिट नहीं है। गोल्ड ETF में कोई लॉक इन पीरियड नहीं है।

2. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड
सोने में निवेश के कई विकल्प हो सकते हैं। मसलन- गहने, सोने के सिक्के, गोल्ड बुलियंस वगैरह। लेकिन इन सबमें सबसे अच्छा विकल्प माना जाता है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड। इस सरकारी स्कीम में निवेश से रिस्क बेहद कम हो जाता है और आप बेफिक्र होकर रिटर्न हासिल कर सकते हैं। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को रिजर्व बैंक जारी करता है इसलिए इसकी शुद्धता को लेकर कोई झंझट नहीं होता।

गोल्ड बॉन्ड पर आपको सालाना 2.50% ब्याज मिलता है। गोल्ड बॉन्ड के मैच्योर होने पर उस वक्त बाजार में सोने की जो कीमत होती है, उस पर आप बेच सकते हैं। इसकी खासियत ये है कि फिजिकल सोने की तरह इसके स्टोरेज की चिंता नहीं करनी पड़ती है।

3. गोल्ड म्यूचुअल फंड
गोल्ड म्यूचुअल फंड गोल्ड ETF का ही एक प्रकार है। ये ऐसी योजना है जिसके जरिए मुख्य रूप से गोल्ड ETF में ही निवेश किया जाता है। गोल्ड म्यूचुअल फंड सीधे भौतिक सोने में निवेश की योजना नहीं है। हालांकि उसी स्थिति को अप्रत्यक्ष रूप से लेते हैं। गोल्ड म्यूचुअल फंड ओपन-एंडेड निवेश प्रोडक्ट है, जो गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (Gold ETF) में निवेश करते हैं और उसका नेट एसेट वैल्यू (NAV) ETFs के प्रदर्शन से जुड़ा हुआ है।

आप मासिक SIP के माध्यम से 500 रुपए से कम के साथ गोल्ड म्यूचुअल फंड में निवेश शुरू कर सकते हैं। इसके निवेश करने के लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत नहीं होती है। आप किसी भी म्यूचुअल फंड हाउस के माध्यम से इसमें निवेश की शुरुआत कर सकते हैं।

4. पेमेंट ऐप से भी खरीद सकते हैं गोल्ड
अब आप अपने स्मार्टफोन से ही डिजिटल गोल्ड में निवेश कर सकते हैं। इसके लिए बहुत ज्यादा पैसा खर्च करने की भी जरूरत नहीं होती है। आप अपनी सुविधानुसार जितनी कीमत का चाहें, सोना खरीद सकते हैं। यहां तक कि 1 रुपए का भी। यह सुविधा अमेजन-पे, गूगल पे, पेटीएम, फोनपे और मोबिक्विक जैसे प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है।

डिजिटल गोल्ड खरीदने के कई फायदे हैं। आप 1 रुपए से भी निवेश की शुरुआत कर सकते हैं। इसके जरिए आप शुद्ध सोने में निवेश करते हैं। ज्वेलरी मेकिंग का खर्च नहीं आता है। इससे भी पैसों की बचत होती है। इसे फिजिकल गोल्ड की तरह सुरक्षित रखने के लिए परेशान नहीं होना पड़ता है।

सोने ने बीते 1 साल में दिया दिया 17% का रिटर्न
पिछले साल यानी मार्च 2020 में इस समय सोना 38,800 रुपए प्रति 10 ग्राम था जो अब 45,000 पर आ गया है। यानी सोने ने बीते 1 साल में करीब 17% का रिटर्न दिया है। वहीं बीते 5 साल की बात करें तो सोने ने 61% का रिटर्न दिया है। मार्च 2016 को सोने का दाम 28 हजार के करीब था।

सोने का दाम 1965 की तुलना में अभी 710 गुना ज्यादा
भारत में सोने का दाम 1965 की तुलना में अभी 746 गुना ज्यादा है। 1965 में सोना 63.25 रुपए प्रति 10 ग्राम के भाव से बिक रहा था जा अब 45 हजार पर था। इतना तय है कि 3 से 5 साल की अवधि के लिए सोने में निवेश अप्रत्याशित लाभ दे सकता है।

सोने में सीमित निवेश फायदेमंद
अनुज गुप्ता कहते हैं कि भले ही आपको सोने में निवेश करना पसंद हो तब भी आपको इसमें सीमित निवेश ही करना चाहिए। एक्सपर्ट के अनुसार कुल पोर्टफोलियो का सिर्फ 10 से 15% ही सोने में निवेश करना चाहिए। किसी संकट के दौर में सोने में निवेश आपके पोर्टफोलियो को स्थिरता दे सकता है, लेकिन लंबी अवधि में यह आपके पोर्टफोलियो के रिटर्न को कम कर सकता है।