पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX50405.32-0.87 %
  • NIFTY14938.1-0.95 %
  • GOLD(MCX 10 GM)44310-0.78 %
  • SILVER(MCX 1 KG)64964-1.48 %
  • Business News
  • Gold Cheaper By Rs 10000 In Six Month; Latest Update Mumbai Delhi Sarafa Bazar Sona Chandi Ka Bhav

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

6 महीने में सोना 9 हजार 400 रुपए घटा:गोल्ड की चमक पड़ रही है फीकी, 46 दिनों में ही 3500 रुपए सस्ता हुआ

नई दिल्ली20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्‍ली सर्राफा बाजार में सोने की कीमत 46,826 रुपए प्रति 10 ग्राम पर आ गई है। वहीं अगर चांदी की बात करें तो इसका भाव 67,894 रुपए प्रति किलोग्राम है। कोरोना संकट के बीच सोना और चांदी की कीमतें अगस्‍त 2020 में रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई थीं। तब सोना 56,200 रुपए पर पहुंच गया था। ऐसे में सिर्फ 6 महीनों में ही सोना 9 हजार 400 रुपए सस्ता हो गया है।

2021 में ही 2500 रुपए सस्ता हुआ सोना
इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन की वेबसाइट के मुताबिक 1 जनवरी 2021 को सोना 50298 रुपए पर था जो अभी 46,826 रुपए प्रति 10 ग्राम पर बिक रहा है। ऐसे में सिर्फ 46 दिनों में ही सोना 3500 रुपए प्रति 10 ग्राम से भी ज्यादा सस्ता हुआ है।

बजट में 5% इंपोर्ट ड्यूटी घटने से कम हा रहे दाम
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्‍त वर्ष 2021-22 के लिए पेश किए बजट में सोने और चांदी पर आयात शुल्क में भारी कटौती की है। सोने और चांदी पर आयात शुल्क में 5% की कटौती की है। सोने और चांदी पर लगने वाले आयात शुल्क को 12.5% से घटाकर 7.5% किया गया है। इससे सोने-चांदी की कीमतों में गिरावट देखने को मिल रही है।

कोरोना के कारण बढ़े थे दाम
अगस्त 2020 में सोना 56,200 रुपए प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया था। कोरोना महामारी के कारण निवेशकों में डर का माहौल बना हुआ था। हमेशा देखा गया है कि जब भी शेयर बाजार में नुकसान की आशंका हो, डॉलर की तुलना में अन्य मुद्रा कमजोर पड़ने की नौबत हो तो सोने के भाव में उछाल देखा जाता है।

अर्थशास्त्री डॉ. गणेश कावड़िया (स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स,देवी अहिल्या विवि इंदौर के पूर्व विभागाध्यक्ष) के अनुसार निवेशक हमेशा ज्यादा और सुरक्षित मुनाफा चाहते हैं और यह मुनाफ़ा उन्हें स्टॉक मार्केट, फ़िक्स्ड डिपॉज़िट, विभिन्न प्रकार के बॉन्ड या सोने में पैसा लगाने से मिलता है। हालात जब सामान्य होते हैं तो यह मुनाफा स्टॉक मार्केट, बॉन्ड आदि से मिलता है लेकिन जब दुनिया की अर्थव्यवस्था में अनिश्चितता की स्थिति बन जाती है जैसी कि कोरोना के कारण लगाए गए लॉकडाएन में हुआ था, तो निवेशक सोने में निवेश बढ़ा देते हैं। उनको लगता है कि सोने से उन्हें सुरक्षा मिलेगी और उसकी क़ीमत नहीं घटेगी। इसकी वजह से निवेशकों में उस सोने की मांग बढ़ गई थी।

बजट में 5% इंपोर्ट ड्यूटी घटने से कम हो रहे दाम
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्‍त वर्ष 2021-22 के लिए पेश किए बजट में सोने और चांदी पर आयात शुल्क में भारी कटौती की है। सोने और चांदी पर आयात शुल्क में 5% की कटौती की है। सोने और चांदी पर लगने वाले आयात शुल्क को 12.5% से घटाकर 7.5% किया गया है। इससे सोने-चांदी की कीमतों में गिरावट देखने को मिल रही है।