पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Gautam Adani Stocks Case; RBI Nirmala Sitharaman | India Banking System

FPO पहले भी वापस हुए, इससे देश की छवि बेअसर:अडाणी मामले पर वित्त मंत्री ने कहा- सेबी स्वतंत्र रूप से जांच कर रही

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वित्त मंत्री ने कहा कि बैंकों और LIC ने RBI को अडाणी समूह को लेकर अपने एक्सपोजर के बारे में बताया है

गौतम अडाणी मामले पर आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि नियामक अपना काम कर रहे हैं। सेबी को सरकार ने स्वतंत्र छोड़ दिया है, ताकि वो इस मामले की सही से जांच कर सके। वित्त मंत्री ने कहा कि बैंकों और LIC ने RBI को अडाणी समूह को लेकर अपने एक्सपोजर के बारे में बताया है। आज हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों को उन्होंने ये जानकारी दी।

अडाणी के FPO वापस लेने के सवाल पर उन्होंने कहा कि FPO आते हैं और बाहर निकल जाते हैं। देश में कई बार FPO वापस लिए गए हैं, और इससे भारत की छवि पर कोई फर्क नहीं पड़ा। उतार-चढ़ाव हर बाजार में होते हैं।

दो दिन में 8 बिलियन डॉलर विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ा
उन्होंने आगे कहा कि तथ्य यह है कि पिछले 2 दिनों में हमारे पास विदेशी मुद्रा भंडार 8 बिलियन डॉलर आया है। यह साबित करता है कि भारत और इसकी ताकत के बारे में धारणा बरकरार है।

ग्रुप के शेयरों में अनयूजुअल प्राइस मूवमेंट देखा गया: सेबी
इस बीच अडाणी विवाद पर सेबी का कहना है कि वह बाजार की इंटीग्रिटी और इसकी स्ट्रक्चरल स्ट्रेंथ सुनिश्चित करने के लिए कमिटेड है। यह सुनिश्चित करने के लिए भी प्रतिबद्ध है कि शेयर बाजार निर्बाध, पारदर्शी, कुशल तरीके से काम करता है, जैसा कि अब तक होता रहा है। पिछले सप्ताह के दौरान, एक बिजनेस ग्रुप के शेयरों में अनयूजुअल प्राइस मूवमेंट देखा गया।

स्टॉक्स में अस्थिरता से निपटने के लिए सभी निगरानी उपाय किए गए हैं
सेबी ने कहा कि बाजार के व्यवस्थित और कुशल कामकाज के लिए स्पेसिफिक स्टॉक्स में अत्यधिक अस्थिरता से को दूर करने के लिए सभी निगरानी उपाय किए गए हैं। सभी विशिष्ट मामलों में, सेबी उसके संज्ञान में आने वाले सभी मामलों की जांच और उचित कार्रवाई करता है।

देश का बैंकिंग सिस्टम मजबूत और स्थिर
इससे पहले RBI ने शुक्रवार को कहा था कि देश का बैंकिंग सिस्टम मजबूत और स्थिर है। RBI ने कहा कि वह लगातार बैंकिंग सिस्टम की निगरानी कर रहा है। RBI ने कहा कि उसके पास बड़े कर्जों से संबंधित सूचनाओं का केंद्रीय संग्रह (CRILC) डेटाबेस प्रणाली है, जहां बैंक अपने 5 करोड़ और इससे अधिक के कर्ज की जानकारी देते हैं। इस जानकारी का इस्तेमाल निगरानी के लिए किया जाता है। हालांकि, RBI ने अपने बयान में अडाणी ग्रुप का नाम नहीं लिया।

RBI ने शुक्रवार को कहा था कि देश का बैंकिंग सिस्टम मजबूत और स्थिर है। वह लगातार बैंकिंग सिस्टम की निगरानी कर रहा है।
RBI ने शुक्रवार को कहा था कि देश का बैंकिंग सिस्टम मजबूत और स्थिर है। वह लगातार बैंकिंग सिस्टम की निगरानी कर रहा है।

बैंकों और बीमाकर्ताओं का जोखिम सीमा से बाहर नहीं
नेटवर्क18 को दिए इंटरव्यू में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कहा कि बैंकों और बीमाकर्ताओं का जोखिम "तय लिमिट" के अंदर था। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को कहा कि LIC और SBI दोनों ने ही अडाणी ग्रुप के लिए कुछ स्पेशल व किसी सीमा से बाहर नहीं किया है।

उन्होंने कहा कि LIC और SBI ने अडाणी के लिए अपने जोखिम पर विस्तृत बयान जारी किया है। LIC और SBI ने स्पष्ट रूप से कहा है कि उनका जोखिम ‘तय सीमा के भीतर है’ और वे मुनाफे में ही हैं।

विपक्ष की मांग- JPC या सुप्रीम कोर्ट पैनल करे जांच
अडाणी ग्रुप में SBI और LIC का पैसा लगाने के मुद्दे पर लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन स्थगित करनी पड़ी। विपक्ष इसकी जांच जॉइंट पार्लियामेंट्री कमेटी (JPC) या सुप्रीम कोर्ट के पैनल से कराने की मांग कर रहा है। इस पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि देश का शेयर मार्केट नियमों के मुताबिक चल रहा है। अडाणी के बिजनेस विवाद की वजह से निवेशकों का भरोसा डगमगाने की आशंका नहीं है।

विपक्ष का आरोप- लोगों की मेहनत का पैसा अडाणी को दिया गया
सरकारी बैंक SBI ने अडाणी ग्रुप को 21.38 हजार करोड़ रुपए का लोन दिया है। वहीं, फाइनेंस और इंश्योरेंस कंपनी LIC ने पिछले कुछ साल में अडाणी ग्रुप में 30,127 करोड़ रुपए का इन्वेस्टमेंट किया है। हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने से पहले LIC का ग्रुप के शेयरों से प्रॉफिट 81,000 करोड़ रुपए था, जो 2 फरवरी को 43,000 करोड़ रुपए रह गया। विपक्षी नेताओं का कहना है कि शेयर बाजार का यह अमृतकाल का सबसे बड़ा महाघोटाला है।

ACE इक्विटी के पास अवेलेबल डेटा के मुताबिक, 31 दिसंबर 2022 तक LIC के पास अडाणी ग्रुप में करीब 1% ( 0.975%) हिस्सेदारी है। बीते 6 ट्रेडिंग सेशन में LIC का अडाणी ग्रुप में इन्वेस्टमेंट लगभग आधा रह गया है। विपक्ष का कहना है कि लोगों की मेहनत का पैसा बर्बाद हो रहा है। लोगों का विश्वास SBI और LIC से उठ जाएगा।

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने के बाद अडाणी के शेयर्स में गिरावट
24 जनवरी की शाम को हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने से पहले अडाणी एंटरप्राइजेज के शेयर की कीमत 3400 रुपए के करीब थी। शुक्रवार को यह करीब एक हजार रुपए तक नीचे आ गया। फिर रिकवर होकर 1,531 रुपए पर बंद हुआ।

हिंडनबर्ग ने कहा- अडाणी ग्रुप की कंपनियों पर भारी कर्ज
हिंडनबर्ग ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि अडाणी की कंपनियों का प्राइज अर्निंग रेश्यो दूसरी कंपनियों से काफी ज्यादा है। अडाणी ग्रुप ने शेयर मार्केट में हेराफेरी करके अपने शेयरों की कीमत बढ़वाई है। अडाणी ने मॉरीशस और दूसरे देश की कंपनियों में पैसे लगाए। उन कंपनियों ने बाद में अडाणी ग्रुप की कंपनी से शेयर खरीदे।

रिपोर्ट में कहा गया कि अडाणी ग्रुप पर 2.20 लाख करोड़ से ज्यादा का भारी कर्ज है। कंपनियों ने अपनी हैसियत से ज्यादा कर्ज ले रखा है। अडाणी ग्रुप की कई कंपनियों ने तो अपने शेयर तक गिरवी रखकर कर्ज लिए हैं। अडाणी ने बीते दिनों ACC और अंबुजा कंपनी खरीदने के लिए भी कर्ज लिया था। ऐसे में बैंकों के पास वसूलने के लिए अडाणी के शेयर के अलावा और कुछ भी नहीं है।

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट के बाद बीते 9 दिन की बड़ी बातें...

  • 24 जनवरी: हिंडनबर्ग ने 106 पेज की रिपोर्ट जारी कर अडाणी ग्रुप पर शेयर बाजार में धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग जैसे बड़े आरोप लगाए।
  • 27 जनवरी: अडाणी एंटरप्राइजेज 20,000 करोड़ का FPO लाया। पहले दिन सिर्फ 1% सब्सक्रिप्शन मिला। इस ऑफर का प्राइस बैंड 3112 से 3276 रुपए प्रति शेयर रखा गया था।
  • 29 जनवरी: अडाणी एंटरप्राइजेज का FPO फुल सब्सक्राइब हो गया। इसी दिन अडाणी ग्रुप ने हिंडनबर्ग की रिपोर्ट को गलत बताया। कहा- यह भारत पर साजिश के तहत हमला है। ग्रुप ने 413 पन्नों में इसका जवाब दिया।
  • 1 फरवरी: अडाणी ग्रुप ने 20 हजार करोड़ रुपए के फुली सबस्क्राइब्ड FPO को रद्द कर इन्वेस्टर्स का पैसा लौटाने की बात कही।
  • 2 फरवरी: गौतम अडाणी ने FPO रद्द करने के बाद एक वीडियो मैसेज दिया। इसमें उन्होंने कहा, 'मेरे लिए निवेशकों का हित सर्वोपरि है।' इसी दिन संसद पर विपक्ष ने जमकर हंगामा किया RBI ने देश की सभी बैंकों से अडाणी ग्रुप को दिए कर्ज और निवेश का ब्योरा मांगा है। NSE ने अडाणी ग्रुप के तीन शेयरों को शॉर्ट टर्म के लिए एडिशनल सर्विलांस मेजर्स (ASM) लिस्ट में शामिल किया।
  • 3 फरवरी: हिंडनबर्ग की रिपोर्ट पर सरकार ने शुक्रवार को कहा कि बैंकों और बीमाकर्ताओं का जोखिम "अनुमत सीमा" के अंदर था।

ये खबरें भी पढ़े

अडाणी एंटरप्राइजेज ने FPO रद्द किया, इंवेस्टर्स के पैसे लौटाए जाएंगे
अडाणी एंटरप्राइजेज बीस हजार करोड़ रुपए तक के इक्विटी शेयरों के FPO को रद्द कर दिया है। इन्वेस्टर्स का पैसा वापस किया जाएगा। कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने बुधवार रात यह फैसला लिया। इस इक्विटी शेयर्स की फेस वैल्यू एक रुपए है। यह FPO फुली सबस्क्राइब हुआ था। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अडाणी ग्रुप बोला-हिंडनबर्ग रिपोर्ट भारत पर हमला, 413 पन्नों के जवाब में कहा- आरोप झूठे
गौतम अडाणी समूह ने हिंडनबर्ग की रिपोर्ट को भारत पर साजिश के तहत हमला बताया है। ग्रुप ने 413 पन्नों का जवाब जारी किया। इसमें लिखा है कि अडाणी समूह पर लगाए गए सभी आरोप झूठे हैं। ग्रुप ने यह भी कहा कि इस रिपोर्ट का असल मकसद अमेरिकी कंपनियों के आर्थिक फायदे के लिए नया बाजार तैयार करना है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक