पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52344.450.04 %
  • NIFTY15683.35-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47122-0.57 %
  • SILVER(MCX 1 KG)68675-1.23 %
  • Business News
  • Foxconn IPhone India Output Drops 50 Percent Amid COVID Surge

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोविड की दूसरी लहर का असर:फॉक्सकॉन की फैक्ट्री में आईफोन का उत्पादन 50% से ज्यादा घटा, तमिलनाडु में होती है मैन्युफैक्चरिंग

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • फॉक्सकॉन के 100 से ज्यादा कर्मचारी कोविड पॉजिटिव मिले
  • कंपनी ने फैक्ट्री में एंट्री पर पूरी तरह से बैन लगाया

कोविड-19 की दूसरी लहर का एपल के स्मार्टफोन आईफोन की मैन्युफैक्चरिंग पर भी असर पड़ रहा है। भारत में आईफोन-12 की मैन्युफैक्चरिंग में 50% से ज्यादा कमी हो गई है। भारत में आईफोन बनाने वाली एपल की कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर फॉक्सकॉन के कर्मचारियों के कोविड संक्रमित होने के कारण उत्पादन में कमी आई है। फॉक्सकॉन की तमिलनाडु में आईफोन मैन्युफैक्चरिंग यूनिट है। इस यूनिट में खासतौर पर भारत में बेचे जाने वाले आईफोन का उत्पादन होता है।

कोरोना से बुरी तरह प्रभावित है तमिलनाडु

भारत में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप जारी है। तमिलनाडु भी कोरोना से बुरी तरह प्रभावित राज्यों में शामिल है। सोमवार से राज्य में कंप्लीट लॉकडाउन चल रहा है। कोरोना को रोकने के लिए राज्य में पब्लिक ट्रांसपोर्ट और दुकानों को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। एक सूत्र के मुताबिक, फॉक्सकॉन के 100 से ज्यादा कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इस कारण कंपनी ने मई के अंत तक फैक्ट्री में एंट्री पर बैन लगा दिया है। सूत्र के मुताबिक, अब केवल कर्मचारियों को बाहर जाने की अनुमति है लेकिन एंट्री पूरी तरह से बंद कर दी गई है। अब कम मात्रा में उत्पादन हो रहा है।

प्लांट की 50% से ज्यादा उत्पादन क्षमता में कटौती

नाम ना बताने की शर्त पर दो सूत्रों ने बताया कि प्लांट की 50% से ज्यादा उत्पादन क्षमता में कटौती कर दी गई है। हालांकि, सूत्रों ने प्लांट की उत्पादन क्षमता की जानकारी नहीं दी है। यह भी स्पष्ट नहीं हो पाया है कि प्लांट में कितने कर्मचारी काम करते हैं और कितने कर्मचारियों को डॉरमैट्री सुविधा दी जा रही है। ताईपे की कंपनी फॉक्सकॉन दुनिया की सबसे बड़ी कॉन्ट्रैक्ट इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरर है और एपल की सबसे बड़ी सप्लायर है। फॉक्सकॉन का कहना है कि कंपनी की भारतीय यूनिट में कुछ कर्मचारी कोविड पॉजिटिव मिले हैं। इन कर्मचारियों को मेडिकल समेत सभी प्रकार की मदद दी जा रही है।

कर्मचारियों की सुरक्षा प्राथमिकता में

फॉक्सकॉन का कहना है कि कंपनी के लिए कर्मचारियों का स्वास्थ्य और सुरक्षा प्राथमिकता में है। इसी कारण हम कोविड संकट से निपटने के लिए स्थानीय सरकार और हेल्थ अथॉरिटीज के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। हालांकि, कंपनी ने फैक्ट्री उत्पादन और स्टाफ की एंट्री बैन को लेकर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर के कारण एपल ने चीन से बाहर उत्पादन करने का फैसला किया था। एपल के इस फैसले से भारत को इसका बड़ा लाभ मिला था। एपल ने मार्च में घोषणा की थी कि भारत में आईफोन 12 का उत्पादन शुरू हो गया है।

जनवरी में शुरू हुआ था एपल का ऑनलाइन स्टोर

एपल ने इसी साल जनवरी में भारत में एक्सक्लूसिल ऑनलाइन स्टोर लॉन्च किया था। इस स्टोर की लॉन्चिंग के समय एपल के सीईओ टिम कुक ने कहा था कि दिसंबर 2020 तिमाही में भारत में कंपनी का कारोबार एक साल पहले की समान तिमाही के मुकाबले दोगुना रहा है। फॉक्सकॉन ने भी कहा था कि वर्क फ्रॉम होम बढ़ने के कारण भारत में स्मार्टफोन की बिक्री उम्मीद से बेहतर रही है। भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्मार्टफोन बाजार है। हालांकि, भारत में बजट स्मार्टफोन की बड़ी हिस्सेदारी है। इसमें एपल की हिस्सेदारी काफी कम है।

पहली तिमाही में ग्रोथ बढ़ी

मार्केट रिसर्च फर्म कैनेलिस का कहना है कि भारत में पहली तिमाही में एपल की ग्रोथ में बढ़ोतरी रही है। इस तिमाही में एपल ने 1 मिलियन से ज्यादा आईफोन की शिपिंग की है। स्थानीय असेंबली और आकर्षक फाइनेंस ऑफर्स के कारण आईफोन-12 की मांग में भी मदद मिली है। हालांकि, भारत में कोरोना के केस बढ़ने के कारण आउटलुक थोड़ा खराब है।

अन्य कंपनियों का उत्पादन भी प्रभावित हुआ

कोविड के कारण भारत में फॉक्सकॉन के अलावा अन्य कंपनियों का उत्पादन भी प्रभावित हुआ है। इसमं नोकिया और चीनी स्मार्टफोन कंपनी ओप्पो भी शामिल है। ओप्पो ने पिछले साल कर्मचारियों के कोविड पॉजिटिव होने के बाद उत्पादन बंद कर दिया था। ताइपे की रिसर्च फर्म ट्रेंडफोर्स ने सोमवार को ग्लोबल स्मार्टफोन उत्पादन ग्रोथ 8.5% रहने का अनुमान जताया था। ट्रेंडफोर्स ने कहा था कि भारत के मुख्य स्मार्टफोन मेकर कोरोनावायरस से प्रभावित हुए हैं। इसमें सैमसंग और एपल जैसे नामी ब्रांड भी शामिल हैं।