पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Financial Planning; Simple Money Management Tips Amid Coronavirus Crisis

काम की बात:नए साल में मंथली निवेश और हेल्थ इंश्योरेंस जैसी बातों का रखें ध्यान, मुसीबत में पैसों के लिए नहीं होंगे परेशान

नई दिल्ली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नए साल 2022 शुरू हो चुका है लेकिन इस साल भी कोरोना ने लोगों को पीछा नहीं छोड़ा है। पिछले 2 सालों में कोरोना के कारण कई लोगों को वित्तीय संकट का सामना करना पड़ा है। इसीलिए यह बहुत जरूरी है कि नए साल में वित्तीय संकट से बचने के लिए इस साल कुछ अच्छी आदतें अपनाई जाएं। आज हम आपको ऐसी ही 6 बातों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप इस साल वित्तीय संकट से बच सकते हैं।

बजट तैयार करके उसका पालन करें
किसी भी तरह की वित्तीय समस्या से निपटने के लिए वित्तीय अनुशासन बहुत जरूरी है। वित्तीय अनुशासन के लिए आपको अपने मासिक खर्चों के लिए एक बजट तैयार करना चाहिए और महीने के अंत में वास्तविक खर्चों के साथ बजट की तुलना करनी चाहिए। यह तुलना आपको एहसास कराएगी कि आपने उस महीने में क्या फिजूल खर्च किया है। इससे आप अपने फिजूल खर्चों को कंट्रोल कर सकेंगे।

क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने से बचें
इमरजेंसी को छोड़कर क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने से बचें। यह आपको अपनी सीमा के भीतर खर्च करने और किसी भी ऋण के जाल में गिरने से बचने में मदद करेगा। कोरोना काल में कई लोग अपने क्रेडिट कार्ड का बिल नहीं भर सके। इससे क्रेडिट स्कोर भी खराब होता है और ब्याज भी बढ़ता है।

इमरजेंसी फंड बनाएं
अगर किसी वजह से आप आर्थिक संकट के शिकार बन जाते हैं तो इस स्थिति से निपटने के लिए आपको अपने घर खर्च के लिए कम से कम 3 महीने के लिए जरूरी रकम एक इमरजेंसी फंड में रखना चाहिए। यह फंड आप बैंक के सेविंग अकाउंट या म्यूचुअल फंड के लिक्विड फंड में बना सकते हैं। इस फंड का इस्तेमाल सिर्फ इमरजेंसी में ही करें।

मेडिकल इंश्योरेंस है जरूरी
कोरोना काल ने लोगों को मेडिकल इंश्योरेंस की अहमियत समझा दी है। मेडिकल इंश्योरेंस आपको समय पर पर्याप्त मदद मुहैया कराता है। आर्थिक संकट के दौर में अगर आप या आपके परिजनों के सामने कोई मेडिकल इमरजेंसी की स्थिति आती है तो आप हेल्थ पॉलिसी के दम पर इसे आसानी से पार कर पाएंगे। अगर आपके पास हेल्थ पॉलिसी नहीं होगी तो आप परेशानी में फस सकते हैं। कोरोना के लिए आप अलग से 'कोरोना कवच' पॉलिसी ले सकते हैं।

मंथली निवेश जरूरी
नए साल ने या भविष्य में पैसों को लेकर आपको ज़्यादा परेशानी का सामना न करना पड़े इसके लिए निवेश के सही विकल्प चुनें और अगर पहले से निवेश कर रहे हैं तो उसे बंद न करें। मंथली निवेश या सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) बहुत जरूरी है। इसके जरिए आप आसानी से भविष्य की जरूरतों को लेकर फंड तैयार कर सकेंगे।

एक ही जगह न लगाएं पूरा पैसा
कभी भी अपना पूरा पैसा एक ही जगह निवेश नहीं करना चाहिए। आपको अपने पोर्टफोलियो में विविधता रखनी चाहिए, क्योंकि जरूरी नहीं कि आपने जहां पैसा लगाया है वो आपको रिटर्न दे ही।
मान लीजिए आप दो जगह 100-100 रुपए निवेश करते हैं। पहले से आपको 10% का रिटर्न मिला और दूसरी जगह से 5% का नुकसान हुआ। तो ऐसे में भी आप फायदे में ही रहेंगे। वहीं अगर पहले से आपको 10% का नुकसान और दूसरी जगह से 5 फीसदी का फायदा हुआ। तो ऐसे में भी दूसरी जगह से हुआ फायदा आपके नुकसान को कम कर देगा।