पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52573.93-0.38 %
  • NIFTY15789.9-0.5 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48349-0.2 %
  • SILVER(MCX 1 KG)715020.37 %
  • Business News
  • EPFO ; EPF ; PF ; Tomorrow EPFO May Announce Interest Rate For 2020 21, This Year May Further Reduce Interest

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

EPF पर ब्याज:कल EPFO कर सकता है 2020-21 के लिए ब्याज दर की घोषणा, इस साल इसमें आ सकती है गिरावट

नई दिल्ली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) कल यानी 4 मार्च को वित्त वर्ष 2020-21 के लिए एम्प्लॉई प्रोविडेंट फंड (EPF) पर ब्याज दर की घोषणा कर सकता है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) का फैसला लेने वाला निकाय सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज (CBT) की अगली बैठक 4 मार्च को श्रीनगर में होनी है। इस बैठक में ब्याज दर की घोषणा हो सकती है।

कम हो सकती हैं ब्याज दरें
अनुमान जताया जा रहा है कि वित्त वर्ष 2020-21 के लिए प्रोविडेंट फंड डिपॉजिट्स पर ब्याज दरें कम हो सकती हैं, जो 2019-20 के लिए 8.5% थी। क्योंकि COVID-19 के चलते अर्थव्यवस्था में गिरावट आई है। आपको बता दें कि 2019-20 के लिए PF पर मिलने वाली ब्याज दर 2012-13 के बाद का यह सबसे निचला स्तर है। सरकार ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 8.5% ब्याज देना का फैसला किया था, जो सात सालों में सबसे कम था। वित्त वर्ष 2018-19 में EPF या PF पर 8.65% ब्याज दिया गया था। किस साल कितना ब्याज मिला...

  • वित्त वर्ष 2013-14 और 2014-15 में 8.75% रहा था।
  • वित्त वर्ष 2015-16 के लिए यह 8.80% था।
  • वित्त वर्ष 2016-17 के लिए ब्याज दर 8.65% था।
  • वित्त वर्ष 2017-18 के लिए 8.55% रहा था।
  • वित्त वर्ष 2018-19 के लिए 8.65% रहा था।

जमा पर मिलता है सालाना ब्याज
नियमों के मुताबिक, सैलरी पाने वाले लोगों को अपने वेतन और महंगाई भत्ते की 12% रकम PF खाते में योगदान करना अनिवार्य होता है। नियोक्ता भी कर्मचारी के PF अकाउंट में इतना ही योगदान देता है। हालांकि, कंपनी का हिस्सा दो हिस्सों में बांटा जाता है। इसमें से 8.33% पेंशन स्कीम में जाता है। वहीं, बाकी हिस्सा PF खाते में जाता है। PF अकाउंट में योगदान किए गए अंश पर कम्पाउंडिंग के आधार पर सालाना ब्याज मिलता है।

अब ब्याज पर देना होगा टैक्स
बजट 2021-20 में EPF से मिलने वाले ब्याज पर टैक्स की घोषणा की गई थी। बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि एक वित्त वर्ष में 2.5 लाख तक EPF में निवेश टैक्स फ्री होगा। उससे ज्यादा निवेश करने पर अडिशनल अमाउंट पर इंट्रेस्ट से होने वाली कमाई पर टैक्स लगेगा। मतलब अगर आपने 3 लाख रुपए सालाना जमा किया है तो 50 हजार पर ब्याज से जो कमाई होगी उस पर आपकी टैक्स स्लैब की दर से टैक्स लगेगा। अभी तक इंट्रेस्ट इनकम पूरी तरह टैक्स फ्री था।