पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61849.630.89 %
  • NIFTY18540.751.1 %
  • GOLD(MCX 10 GM)478990 %
  • SILVER(MCX 1 KG)629570 %
  • Business News
  • Edelweiss ETF; Edelweiss Mutual Fund Didn't Get A Good Response From Investors

निवेशकों की दिलचस्पी नहीं:एडलवाइस म्यूचुअल फंड के ETF में निवेशकों ने नहीं दिखाया दम, कंपनी इसे अब इंडेक्स फंड में बदलेगी

मुंबईएक महीने पहलेलेखक: अजीत सिंह
  • कॉपी लिंक

एडलवाइस म्यूचुअल फंड के एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) को निवेशकों का बहुत ही खराब रिस्पांस मिला है। इसकी वजह से कंपनी अपने ETF फंड को अब इंडेक्स फंड में बदल रही है। कंपनी ने दो ETF को इंडेक्स फंड में बदलने का फैसला किया है। म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में यह पहली बार हो रहा है जब किसी ETF को इंडेक्स फंड में बदला जा रहा है।

निफ्टी 30 ETF में केवल 550 निवेशक

कंपनी ने कहा कि उसके पास निफ्टी 30 ETF में केवल 550 निवेशक हैं। जबकि इसका असेट अंडर मैनेजमेंट यानी AUM केवल 11.1 करोड़ रुपए है। इसे मई 2016 में लॉन्च किया गया था। दूसरा ETF निफ्टी 50 ETF है। इसमें केवल 150 निवेशक हैं। जबकि इसका AUM महज 2.6 करोड़ रुपए है। इसे मई 2015 में लॉन्च किया गया था। निवेशकों का रिस्पांस न मिलने से कंपनी अब इसे इंडेक्स फंड में बदलेगी।

निवेशकों के लिए इसमें कोई सेटबैक नहीं

एडलवाइस म्यूचुअल फंड के प्रोडक्ट, मार्केटिंग और डिजिटल बिजनेस हेड निरंजन अवस्थी ने कहा कि निवेशकों के लिए इसमें कोई सेटबैक नहीं है। उनको निकलने का अवसर इसमें दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सेबी के तय नियम के मुताबिक, एक्जिट ऑप्शन बंद होने के दो दिन पहले यह स्कीम स्टॉक एक्सचेंज से डिलिस्ट हो जाएगी।

कोई एक्जिट लोड नहीं लगेगा

निवेशक इस स्कीम से निकलेंगे तो उस पर कोई एक्जिट लोड नहीं लगेगा। निवेशक 6 सितंबर से 5 अक्टूबर तक इस स्कीम से निकल सकते हैं। अवस्थी ने कहा कि निवेशकों को ETF एक्सचेंज से खरीदना होता है। जबकि इंडेक्स फंड में वे म्यूचुअल फंड की तरह खरीदी बिक्री कर सकते हैं।

ETF में एक्सचेंज पर अच्छी लिक्विडिटी नहीं होती

उन्होंने कहा कि भारत में ETF में एक्सचेंज पर अच्छी लिक्विडिटी नहीं होती है। इसलिए ऐसा फैसला लिया गया है। जानकारों के मुताबिक, ETF में ग्राहक कभी अच्छा कमा सकता है और पैसा गंवा भी सकता है। छोटे फंड हाउस की दिक्कत यह होती है कि उनके पास ज्यादा ग्राहक नहीं होते हैं। ETF को इंडेक्स फंड में बदलने से ग्राहक म्यूचुअल फंड कंपनी से यूनिट खरीद सकते हैं और बेच सकते हैं।

ETF को इंडेक्स फंड में बदलने का आइडिया सही नहीं

कुछ जानकार कहते हैं कि ETF को इंडेक्स फंड में बदलने का आइडिया सही नहीं है। क्योंकि जो ग्राहक ETF समझ कर आए थे, उनके साथ यह सही नहीं है। अगर उनको इंडेक्स फंड ही लेना है तो वे कहीं से भी ले सकते थे। साथ ही उनका पांच साल का समय भी बच जाता था।

देश में कुल 32 इंडेक्स फंड

मार्च 2020 तक देश में कुल 32 इंडेक्स फंड थे। इनका AUM 8,090 करोड़ रुपए था। जबकि ETF की संख्या 76 थी। इनका AUM 1.46 लाख करोड़ रुपए था। जून 2021 में इंडेक्स फंड की संख्या बढ़ कर 50 हो गई और AUM 24,920 करोड़ रुपए था। जबकि ETF की संख्या बढ़ कर 108 हो गई। इसका AUM 3.22 लाख करोड़ रुपए हो गया।

जून तिमाही में कुल AUM 54,406 करोड़ रुपए

एडलवाइस म्यूचु्अल फंड का जून तिमाही में कुल AUM 54,406 करोड़ रुपए था। पिछले साल इस कंपनी को सरकार के भारत बॉन्ड ETF को मैनेज करने का जिम्मा मिला था। इन दो भारत बॉन्ड ETF की मैच्योरिटी अप्रैल 2025 और अप्रैल 2031 में है।