पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX48690.8-0.96 %
  • NIFTY14696.5-1.04 %
  • GOLD(MCX 10 GM)475690 %
  • SILVER(MCX 1 KG)698750 %
  • Business News
  • Coronavirus: Impact On The Diamond Jewellery Business; Exports May Decline By 25 Percent

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना का असर:डायमंड निर्यात में 25% तक की भारी गिरावट आने की आशंका, इस साल की गिरावट का स्तर 2008 से भी खराब

नई दिल्ली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस साल के पहले छह महीने में निर्यात 5.5 बिलियन डॉलर का रहा है।  (फोटो -ब्लूमबर्ग) - Money Bhaskar
इस साल के पहले छह महीने में निर्यात 5.5 बिलियन डॉलर का रहा है। (फोटो -ब्लूमबर्ग)
  • विदेशी बिक्री पिछले साल 18.66 बिलियन डॉलर की रही थी
  • सालाना आधार पर 2020 की पहली छमाही में डायमंड एक्सपोर्ट 37% कम हुआ है

भारत से डायमंड का निर्यात इस साल 20% से 25% घट सकता है। यह गिरावट वित्त वर्ष 2008 में आई मंदी के स्तर से भी अधिक है। निर्यात में भारी गिरावट की वजह कोविड-19 महामारी है। क्योंकि इससे डायमंड की मांग और सप्लाई चेन दोनों प्रभावित हुआ है।

निर्यात में भारी गिरावट

ब्लूमबर्ग के मुताबिक तराशे और पॉलिश किए गए हीरे की विदेशी निर्यात भी चालू वित्त वर्ष में 20% से 25% घट सकती है, जो पिछले साल 18.66 बिलियन डॉलर की रही थी। इस पर जेम्स एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के चेयरमैन कॉलिन शाह ने कहा कि इस साल निर्यात में भारी गिरावट का यह आंकड़ा 2008 के स्तर से भी नीचे है। जबकि 2008 में दुनियाभर की अर्थव्यवस्था मंदी से जूझ रही थी।

2008 से भी बुरी स्थिति

एक इंटरव्यू में कॉलिन शाह ने बताया कि2008 में केवल एक तिमाही में स्थिति खराब थी बाद में स्थिति सुधर गई। लेकिन इस साल दो तिमाही गुजरने के बाद भी हालात नहीं सुधरा है। उन्होंने कहा कि दिवाली, क्रिसमस और वैलेंटाइन जैसे त्योहार करीब हैं। इस दौरान डायमंड की मांग बढ़ेगी। लेकिन यह पुरे साल के निर्यात के आंकड़े को नहीं कवर कर पाएगा।

जेम्स एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के मुताबिक, सालाना आधार पर 2020 की पहली छमाही में डायमंड एक्सपोर्ट 37% कम हुआ है। यानी इस साल के पहले छह महीने में निर्यात 5.5 बिलियन डॉलर का रहा है।

लॉकडाउन से प्रभावित हुआ कारोबार

दरअसल, कोरोना महामारी के प्रसार को रोकने के लिए सरकार मार्च से देशभर में लॉकडाउन लगाया था। यह दुनिया का सबसे कड़े प्रतिबंधों में से एक था। लॉकडाउन से डायमंड प्रोडक्शन सेंटर बंद हो गए और उसमें काम करने वाले मजदूर भी गांवों की ओर लौटने लगे थे।

कॉलिन शाह ने बताया कि मजदूर अब सूरत, मुंबई और कोलकाता जैसे शहरों में काम पर लौटने लगे हैं। जो फैक्टरियों में 70% से 80% क्षमता के साथ काम भी कर रहे हैं। हालांकि, डायमंड की डिमांड और सप्लाई चेन वैश्विक स्तर पर महामारी के प्रकोप के हालात पर निर्भर करेगा।

खबरें और भी हैं...