पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57276.94-1 %
  • NIFTY17110.15-0.97 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48432-0.52 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62988-1.1 %
  • Business News
  • Corona ; Production Reduced By One Third, The Number Of Employees Also Reduced By Up To 75%

कोरोना की आर्थिक मार:उत्पादन घटकर एक तिहाई रह गया, कर्मचारियों की संख्या में भी 75% तक की कमी

नई दिल्ली2 महीने पहलेलेखक: मुदस्सिर कुल्लू
  • कॉपी लिंक

कोरोना महामारी से बचाव के लिए देशभर में स्कूल बंद होने से बच्चों की पढ़ाई तो प्रभावित हुई ही है, पेंसिल इंडस्ट्री का बिजनेस भी करीब-करीब चौपट हो गया है। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में औखू को ‘पेंसिल विलेज’ कहा जाता है, लेकिन बीते डेढ़ साल में यहां पेंसिल की बिक्री 70% तक घट गई है।

3,500 लोगों को मिला रोजगार
श्रीनगर से 32 किलोमीटर दूर औखू से पेंसिल बनाने में इस्तेमाल होने वाली लकड़ी नटराज, अप्सरा और हिंदुस्तान पेंसिल्स जैसी बड़ी पेंसिल कंपनियों को सप्लाई की जाती है। 180 करोड़ रुपए से अधिक के टर्नओवर वाली यहां की पेंसिल इंडस्ट्री में 18 छोटे-बड़े कारखाने हैं, जहां करीब 3,500 लोगों को रोजगार मिला हुआ है।

3 गुना कम हुआ उत्पादन
औखू की सबसे बड़ी पेंसिल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट जेहलम एग्रो इंडस्ट्रीज के मैनेजर फारूक अहमद कहते हैं, ‘महामारी से पहले हम रोजाना 150 से ज्यादा बैग (5-10 हजार पेंसिल) का उत्पादन करते थे। अब उत्पादन 40-45 बैग रह गया है। बिक्री एक तिहाई रह गई है। कोविड से पहले हमारे पास 200 कर्मचारी थे। अब 50 से कम रह गए हैं। इनमें से कुछ स्थानीय हैं और बाकी पश्चिम बंगाल, असम और बिहार के हैं।’

इसी तरह, एक अन्य पेंसिल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट बरकत एग्रो इंडस्ट्रीज के मैनेजर ने कहा, ‘कोरोना से पहले हमारी फैक्ट्री में 130 कर्मचारी थे। अब इनकी संख्या घटकर 40 रह गई है। उम्मीद है कि देशभर में स्कूल जल्द खुलेंगे और पेंसिल की मांग बढ़ेगी।

पीएम भी कर चुके हैं तारीफ
पिछले साल रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था, ‘पुलवामा जिला इस बात का उदाहरण है कि आयात पर देश की निर्भरता कैसे कम की जा सकती है। एक समय हम विदेश से पेंसिल के लिए लकड़ी आयात करते थे, लेकिन अब कश्मीर का पुलवामा जिला देश को पेंसिल के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बना रहा है।’

स्पेशल जोन बनाएगी सरकार
गृह मंत्रालय की एक हालिया रिपोर्ट में कहा गया है कि औखू गांव को मैन्युफैक्चरिंग के लिहाज से एक ‘स्पेशल जोन’ के तौर पर विकसित किया जाएगा। यहां के उद्यमियों को उम्मीद है कि इसके बाद उनके बिजनेस की सूरत बदलेगी।

खबरें और भी हैं...