पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अडाणी विल्मर Q4 रिजल्ट:कंपनी के नेट प्रॉफिट में 26% की गिरावट, YoY रेवेन्यू में 40% का इजाफा

मुंबई5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अडाणी विल्मर ने 31 मार्च को खत्म तिमाही के नतीजे घोषित किए। इस तिमाही में कंपनी का नेट प्रॉफिट 25.62% कम होकर 234.29 करोड़ रुपए हो गया। पिछले साल की समान तिमाही में ये 315 करोड़ रुपए था। ऑपरेशनल रेवेन्यू 40.18% बढ़कर 14,960.37 करोड़ रुपए हो गए। एक साल पहले की तिमाही में यह 10,672.34 करोड़ रुपए थे।

अडाणी विल्मर का शेयर फरवरी 2022 में लिस्ट हुआ था। कंपनी के शेयरों में हाल के महीनों में कई गुना तेजी आई है क्योंकि निवेशकों का मानना ​​है कि खाद्य तेल की कीमतों में बढ़ोतरी से कंपनी को फायदा होगा। हालांकि, कंपनी के रिजल्ट कुछ लोगों के लिए निराशाजनक हो सकते हैं। कंपनी के शेयर ने लिस्ट होने के बाद से करीब 180% का रिटर्न दिया है। सोमवार के ये 3.70% गिरकर 751.50 पर बंद हुए।

पिछली तिमाही से ये 16% ज्यादा सेल्स वॉल्यूम
कंपनी ने कहा कि मार्च तिमाही में उसका ओवरऑल सेल्स वॉल्यूम 1.29 MMT (मिलियन मीट्रिक टन) रहा। पिछली तिमाही से ये 16% ज्यादा है। फूड एंड FMCG वर्टिकल सेल वॉल्यूम 0.18 MMT रहा, जो कि QoQ 33% की बढ़ोतरी है। कंपनी ने ये भी बताया कि रूस-यूक्रेन जंग के कारण सनफ्लावर ऑयल की खपत में 50% की कमी आई है। भारत ने अब अर्जेंटीना, रूस और तुर्की जैसे देशों से सनफ्लावर ऑयल का आयात करना शुरू किया है।

फूड और FMCG सेगमेंट ने डबल डिजिट ग्रोथ
अडाणी विल्मर के मैनेजिंग डायरेक्टर और CEO अंगशु मलिक ने कहा, 'फूड और FMCG सेगमेंट ने डबल डिजिट ग्रोथ दर्ज की। हमने एडिबल ऑयल और फूड कैटेगरीज में अपनी बाजार हिस्सेदारी में सुधार करना जारी रखा है। हम अपने ब्रांड, डिस्ट्रीब्यूशन, सोर्सिंग और मैन्युफैक्चरिंग कैपेबिलिटीज में निवेश करना जारी रखेंगे। आगे हम फूड स्पेस में इनऑर्गेनिक ग्रोथ और स्टैटजिक इन्वेस्टमेंट पर ज्यादा फोकस करेंगे।'