पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Bima Sugam Portal Explained; Vignesh Shahane On Insurance Agent Commission

इंश्योरेंस सेक्टर में भी होने जा रही UPI जैसी क्रांति:'बीमा सुगम' से मिलेगी 40% तक ब्रोकर कमीशन से मुक्ति, इरडा खास डिजिटल प्लेटफॉर्म पर कर रहा काम

नई दिल्ली13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिस तरीके से यूपीआई ने डिजिटल पेमेंट बेहद आसान बना दिया है, बीमा सुगम के जरिए इंश्योरेंस सेक्टर में भी ऐसा ही कुछ होने जा रहा है। सबसे अच्छी बात ये है ये खुद बीमा के एमडी और सीईओई विघ्नेश शहाणे से जानते हैं कैसे काम करेगा यह पोर्टल...

इरडा एक खास डिजिटल प्लेटफॉर्म बीमा सुगम पर कर रहा काम
बीमा नियामक इरडा एक खास डिजिटल प्लेटफॉर्म बीमा सुगम पर काम कर रहा है। यहां इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदी जा सकेगी और अन्य सुविधाओं का लाभ उठाया जा सकेगा। इससे बीमा एजेंट या ब्रोकरों की भूमिका करीब-करीब खत्म हो जाएगी और इंश्योरेंस खरीदना-बेचना बेहद आसान हो जाएगा।

एजेंट कमीशन के तौर पर बीमा कंपनियों का खर्च घटेगा और इंश्योरेंस प्रोडक्ट्स की लागत कम हो जाएगी। दरअसल बीमा सुगम का कांसेप्ट ही सभी इंश्योरेंस कंपनियों, ग्राहकों, ब्रोकर एसोसिएशन आदि को एक प्लेटफॉर्म पर लाना है। इस पर लोग न सिर्फ एक ही जगह ऑनलाइन लाइफ, हेल्थ और मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी खरीद सकेंगे, बल्कि जरूरत पड़ने पर क्लेम भी कर सकेंगे।

ये हैं बीमा सुगम पोर्टल के चार बड़े फायदे

1. इंश्योरेंस की लागत घटेगी
इसका सबसे बड़ा फायदा कॉस्ट बेनिफिट है। यानी इंश्योरेंस की लागत कम हो जाएगी। अभी इंश्योरेंस ब्रोकर 30-40% कमीशन लेते हैं। बीमा सुगम के साथ ब्रोकर सिर्फ 5-8% कमीशन ले पाएंगे। इसके चलते प्रीमियम की राशि में बड़ी गिरावट आएगी।

2. सही पॉलिसी का चयन आसान
इस प्लेटफॉर्म पर सभी कंपनियों की पॉलिसी उपलब्ध होगी। यहां से आप पसंद की कंपनी की पॉलिसी चुन सकेंगे। ऑनलाइन प्राइवेट इंश्योरेंस एग्रीगेटर अभी ये सुविधा दे रहे हैं, लेकिन वे ब्रोकर की भूमिका में होते हैं जिसकी लागत ज्यादा होती है।

3. एक क्लिक में क्लेम सेटलमेंट
इस प्लेटफॉर्म पर सिर्फ पॉलिसी नंबर के जरिए पेपरलेस क्लेम सेटलमेंट हो जाएगा। यहां ग्राहक के पॉलिसी खरीदने से लेकर क्लेम करने तक पूरी डिजिटल जर्नी की जानकारी उपलब्ध होगी।

4. शिकायतों का हो सकेगा जल्द निपटारा
बीमा सुगम पोर्टल का इस्तेमाल पॉलिसी धारकों के अलावा एजेंट, वेब एग्रीगेटर और अन्य इंश्योरेंस मीडिएटर भी कर सकेंगे। इसके चलते बीमा कंपनियां पॉलिसी धारक की शिकायतों का निपटारा जल्द से जल्द कर पाएंगी। इसके अलावा वे ग्राहकों को बेहतर सेवाएं भी दे पाएंगी।