पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52344.450.04 %
  • NIFTY15683.35-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47122-0.57 %
  • SILVER(MCX 1 KG)68675-1.23 %
  • Business News
  • Bad Bank NARCL, Bank Loan Asset, Bank NPA, Bad Bank Npa, Bank Npa, Bank Loan

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बुरे कर्ज से छुटकारा:80 बड़े NPA खाते जा सकते हैं बैड बैंक में, अगले महीने से शुरू होगा यह बैंक

मुंबईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैड बैंक का नाम नेशनल असेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी लिमिटेड (NARCL) है। इसमें खातों के जाने का मतलब यह है कि यह ग्राहक से पैसे वसूलेगा। बैंकों के जो बुरे फंसे कर्ज वाले खाता हैं, वे इस संस्थान को ट्रांसफर किए जाएंगे - Money Bhaskar
बैड बैंक का नाम नेशनल असेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी लिमिटेड (NARCL) है। इसमें खातों के जाने का मतलब यह है कि यह ग्राहक से पैसे वसूलेगा। बैंकों के जो बुरे फंसे कर्ज वाले खाता हैं, वे इस संस्थान को ट्रांसफर किए जाएंगे
  • बैड बैंक का नाम नेशनल असेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी लिमिटेड (NARCL) है
  • जो एनपीए धोखाधड़ी से हुए हैं उन्हें NARCL को नहीं बेचा जाएगा

बैंकों के बुरे फंसे कर्जों के लिए घोषित बैड बैंक अभी भले ही शुरू नहीं हुआ है, पर इसके लिए बुरे फंसे कर्ज यानी NPA वाले अकाउंट आने लगे हैं। खबर है कि करीबन 80 बड़े NPA वाले अकाउंट इस बैड बैंक में ट्रांसफर हो जाएंगे। यह बैड बैंक अगले महीने से शुरू हो सकता है।

बैड बैंक का नाम तय हुआ

बैड बैंक का नाम नेशनल असेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी लिमिटेड (NARCL) है। इसमें खातों के जाने का मतलब यह है कि यह ग्राहक से पैसे वसूलेगा। बैंकों के जो बुरे फंसे कर्ज वाले खाता हैं, वे इस संस्थान को ट्रांसफर किए जाएंगे। NARCLको 2021-22 के बजट में घोषित किया गया था। यह एक तरह के NPA का निपटारा करने वाला संस्थान होगा।

हर खाते की साइज 500 करोड़ रुपए

सूत्रों ने कहा कि इन NPA खातों में से प्रत्येक की साइज 500 करोड़ रुपए से अधिक है। बैंकों ने लगभग 70-80 ऐसे खातों की पहचान की है जिन्हें प्रस्तावित बैड बैंक में ट्रांसफर किया जाना है। उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि 2 लाख करोड़ रुपए से अधिक का NPA बैंकों के खाते से निकलकर बैड बैंक में चला जाएगा। कंपनी उन असेट्स को लेगी, जो 100 पर्सेंट बैंक द्वारा प्रदान की गई हैं।

2021-22 के बजट में हुई थी घोषणा

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2021-22 के बजट में घोषणा की कि सरकारी बैंकों द्वारा उनकी तनावग्रस्त संपत्तियों (stressed assets) के बैंक बुक के क्लीन अप के लिए हर संभव उपाय करने के लिए कहा गया है। उन्होंने बजट भाषण में कहा था कि एक असेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी लिमिटेड और असेट मैनेजमेंट कंपनी की स्थापना मौजूदा दबाव वाले कर्ज (stressed debt) को मजबूत करने और संभालने के लिए की जाएगी।

असेट्स के प्रबंधन और निपटान का काम करेगा

उन्होंने कहा था कि इसके बाद यह वैकल्पिक निवेश कोषों (alternate investment funds) और अन्य संभावित निवेशकों को अंतिम मूल्य प्राप्ति (eventual value realisation) के लिए असेट्स का प्रबंधन और निपटान करेगा। पिछले साल इंडियन बैंक एसोसिएशन (आईबीए) ने एनपीए के तेजी से निपटारे के लिए एक बैड बैंक के निर्माण का प्रस्ताव रखा था। सरकार ने प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और इसके लिए असेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी (एआरसी) और असेट मैनेजमेंट कंपनी (एएमसी) मॉडल अपनाने का फैसला किया।

15 पर्सेंट नकद में पेमेंट होगा

एनएआरसीएल लोन के लिए सहमत मूल्य का 15 पर्सेंट नकद में पेमेंट करेगा और शेष 85 पर्सेंट सरकार द्वारा गारंटी सुरक्षा रसीद होगी। अगर तय वैल्यू के खिलाफ नुकसान होता है तो सरकारी गारंटी लागू की जाएगी। रिजर्व बैंक ने कहा है कि धोखाधड़ी के रूप में वर्गीकृत कर्जों को NARCL को नहीं बेचा जा सकता है। आरबीआई की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार मार्च 2020 तक लगभग 1.9 लाख करोड़ के लोन को धोखाधड़ी के रूप में वर्गीकृत किया गया है। असेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनियों के सुचारू कामकाज की सुविधा के लिए आरबीआई ने पिछले महीने व्यापक समीक्षा करने के लिए एक पैनल स्थापित करने का निर्णय लिया था।

खबरें और भी हैं...