पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52635.91-0.26 %
  • NIFTY15807.35-0.39 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48349-0.2 %
  • SILVER(MCX 1 KG)715020.37 %
  • Business News
  • Attention SBI Customers, Bank Account Will Not Freeze Till May 31 If KYC Details Are Not Updated

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

SBI के खाताधारकों को राहत:KYC डिटेल अपडेट नहीं होने पर 31 मई तक फ्रीज नहीं होगा खाता, डॉक्यूमेंट के लिए शाखा में नहीं बुलाए जाएंगे ग्राहक

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अगर आपका बचत खाता देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई में है तो आपके लिए एक राहत वाली खबर है। भारतीय स्टेट बैंक ने ग्राहकों को नो योर कस्टमर (KYC) डिटेल अपडेट कराने के लिए शाखाओं में नहीं बुलाने का फैसला किया है।

KYC डिटेल अपडेट नहीं होने पर 31 मई तक फ्रीज नहीं होगा खाता

SBI ने अपनी सभी शाखाओं को पत्र भेज कर इसके बारे में बताया है। बैंक ने अपनी शाखाओं से यह भी कहा है कि अगर ग्राहक अपना KYC डिटेल अपडेट नहीं करा पाएं तो उनका खाता आंशिक रूप से फ्रीज न करें। उसने शाखाओं से 31 मई तक इससे परहेज करने के लिए कहा है।

डाक या रजिस्टर्ड ईमेल से मिले डॉक्यूमेंट पर अपडेट किया जा सकता है KYC

SBI ने शाखाओं को भेजे लेटर में लिखा है कि जिन ग्राहकों का KYC डिटेल अपडेट होना बाकी है, बैंक उनके रिकॉर्ड डाक या रजिस्टर्ड ईमेल आईडी से मिले जरूरी डॉक्यूमेंट के आधार पर अपडेट कर सकते हैं।

देश के सबसे बड़े बैंक ने वित्त मंत्री के एक ट्वीट के बाद उठाया है कदम

बैंक ने यह कदम कुछ समय पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की तरफ से किए गए एक ट्वीट के बाद उठाया है। वित्त मंत्री ने अपने मंत्रालय के संबंधित विभागों को इस बारे में जरूरी कदम उठाने के लिए कहा था।

कम जोखिम की कैटेगरी वाले ग्राहकों को KYC 10 साल में कराना पड़ता है अपडेट

सभी बैंक आमतौर पर कम जोखिम की कैटेगरी वाले ग्राहकों से हर 10 साल में KYC अपडेट कराने के लिए कहते हैं। मध्यम जोखिम वाली कैटेगरी में आने वाले ग्राहकों से अपना डिटेल हर आठ साल में अपडेट करने के लिए कहा जाता है। ज्यादा जोखिम की कैटेगरी वाले ग्राहकों से हर दो साल में KYC अपडेट कराने के लिए कहा जाता है।

सैलरी एकाउंट आमतौर पर सेफ माने जाते हैं

किस ग्राहक को किस रिस्क कैटेगरी में डालना है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि वह कितनी बार कितनी रकम की लेनदेन करता है। सैलरी एकाउंट आमतौर पर सेफ माने जाते हैं।