पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52344.450.04 %
  • NIFTY15683.35-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47122-0.57 %
  • SILVER(MCX 1 KG)68675-1.23 %

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कमाई का जरिया:टेक कंपनियों की तुलना में एपल के एयरपॉड्स का रेवेन्यू ज्यादा, 2020 में 23 अरब डॉलर रहा रेवेन्यू

मुंबईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एपल इस समय एयरपॉड्स 3 को लांच करने की तैयारी कर रहा है
  • एक्टिव नॉइस कैंसिलेशन का फीचर नहीं मिलेगा, इसलिए कीमत कम होगी

एपल इस समय टेक कंपनियों में आगे तो है ही, पर इसका एक सेगमेंट एयरपॉड्स ने कमाई के मामले में दुनिया की बड़ी टेक कंपनियों को पीछे छोड़ दिया है। आंकड़े बताते हैं कि दुनिया की प्रमुख टेक कंपनियों की कमाई के मामले में इस एयरपॉड्स से केवल दो कंपनियां आगे हैं।

टेस्ला की कमाई 31.5 अरब डॉलर

एलन मस्क की टेस्ला की कमाई साल 2020 में 31.5 अरब डॉलर की रही है जबकि नेट फ्लिक्स की 25 अरब डॉलर रही है। तीसरे नंबर पर एपल के एयरपॉड्स की कमाई रही है जो 23.05 अरब डॉलर रही है। एयरपॉड्स की जमकर बिक्री होती है और ऐसा माना जाता है कि यह सबसे बेहतरीन एयरपॉड्स हैं। एपल के फोन की तरह ही यह भी काफी महंगे मिलते हैं।

उबर का रेवेन्यू 11.1 अरब डॉलर

इनके बाद उबर का नंबर आता है। इसका रेवेन्यू 11.1 अरब डॉलर रहा है। जबकि एएमडी का रेवेन्यू 9.76 अरब डॉलर रहा है। स्पोटिफाई का रेवेन्यू 9.55 अरब डॉलर रहा है जबकि स्क्वेयर का रेवेन्यू 9.5 अरब डॉलर रहा है। सोशल साइट ट्विटर का रेवेन्यू 2020 में 3.72 अरब डॉलर रहा है। स्नैपचैट का रेवेन्यू 2.5 अरब डॉलर का रहा है। टेक कंपनियों और ऑटो कंपनियों की कमाई का एक प्रमुख हिस्सा उनके इस तरह के कलपुर्जों से भी आता है।

फोन और गाड़ियों की एसेसरीज पर खर्च करते हैं लोग

दरअसल फोन या गाड़ियों के साथ लोग इससे जुड़ी एसेसरीज पर भी जमकर खर्च करते हैं। फोन से जुड़े एसेसरीज में जहां एयर पॉड्स, इसके स्टैंड, केबल, पावर बैंक, कवर आदि होते हैं, वही गाड़ियों से जुड़ी एसेसरीज में सीट कवर के साथ तमाम चीजें आती हैं। इसलिए कंपनियां इन एसेसरीज की कीमतें भी काफी ज्यादा रखती हैं। ब्रांडेड कंपनियों की एसेसरीज की कीमतें तो छोटे-मोटे ब्रांड के जितनी होती है।

एयरपॉड्स की कीमत 22 हजार रुपए

एपल के एयरपॉड्स की कीमत 22 हजार रुपए तक भारत में होती है। इसके एयरपॉड्स महंगे होने की सबसे बड़ी वजह यही है कि एपल सस्ती चीजों को नहीं बनाता है। इसलिए वह इसे अपने फोन और अन्य प्रोडक्ट की ही रेंज में रखता है। जबकि इसी रेंज में सस्ते ब्रांड के अच्छे फोन आ जाते हैं। एपल के अगर अच्छे मोबाइल कोई खरीदता है तो उस पर करीबन 25 पर्सेंट का एयरपॉड्स रखा जाता है। यानी ग्राहक एक फोन पर 25 पर्सेंट ज्यादा खर्च करे, इस लिहाज से इसे बनाया जाता है।

एयरपॉड्स 3 लांच करने की तैयारी

वैसे एपल एयरपॉड्स 3 को लांच करने की तैयारी कर रहा है। इसमें काफी बदलाव होने वाले हैं। इसका साइज छोटा है और चार्जिंग इंडिकेटर को सामने की तरफ रखा गया है। कीमत को कम रखने के लिए इसमें एक्टिव नॉइस कैंसिलेशन का फीचर नहीं मिलेगा। इसके अलावा यह डस्ट और वाटर रेजिस्टेंट भी नहीं होगा। एप्पल एयरपॉड्स 3 के लिए कंपनी एक नए वायरलेस चिपसेट पर काम कर रही है। नए चिपसेट का नाम U1 हो सकता है, जिससे बेहतर बैटरी लाइफ, रेंज और कुछ दूसरे अतिरिक्त फीचर्स मिलेंगे।