पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61350.260.63 %
  • NIFTY18268.40.79 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481200.43 %
  • SILVER(MCX 1 KG)655350.14 %
  • Business News
  • Announcement Of E emergency Ex Miss Visa, Issued Helpline Number And E mail Id For Indians Stranded In Afghanistan

भारत सरकार का बड़ा फैसला:ई-इमरजेंसी X-Misc वीजा का ऐलान, अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों के लिए हेल्पलाइन नंबर और ई-मेल आईडी जारी की

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अफगानिस्तान में बने हालात को देखते हुए भारत सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। भारत के गृह मंत्रालय ने स्थिति को देखते हुए वीजा प्रावधानों की समीक्षा की है। सरकार ने अफगानिस्तान से भाग कर भारत आ रहे अफगानियों के लिए वीजा प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए मकसद से इलेक्ट्रॉनिक वीजा की नई कैटेगरी ई-इमरजेंसी एक्स मिस्क वीजा (e-Emergency X-Misc Visa) का ऐलान किया है। यह भारत में प्रवेश के वीजा आवेदनों का तेजी से निपटारा करेगा।

हेल्पलाइन नंबर और ई-मेल आईडी जारी
भारत सरकार ने अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों से संपर्क करने के लिए हेल्पलाइन नंबर और ई-मेल आईडी जारी की है। विदेश मंत्रालय ने हेल्पलाइन नंबर +919717785379 के साथ-साथ ई-मेल MEAHelpdeskIndia@gmail.com जारी की है। इसके जरिए अफगानिस्तान में फंसे लोग अपनी बात भारत तक पहुंचा सकते हैं।

अफगानिस्तान की स्थिति को करीब से देख रहे: एस जयशंकर
भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर का कहना है कि तालिबान के आने के बाद से भारत अफगानिस्तान की स्थिति को करीब से देख रहा है। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि हम काबुल में स्थिति की लगातार निगरानी कर रहे हैं। हम भारत लौटने के इच्छुक लोगों की चिंता को समझते हैं। फिलहाल हवाई अड्डे का संचालन मुख्य चुनौती है। इस संबंध में हम लगातार बातचीत कर रहे हैं।

भारतीयों को सुरक्षित देश लाना हमारी प्राथमिकता: एस जयशंकर
विदेश मंत्री एस जयशंकर ने आगे कहा कि हम काबुल में सिख और हिंदू समुदाय के नेताओं के साथ लगातार संपर्क बनाए हुए हैं। उन्हें सुरक्षित अपने देश लाना हमारी प्राथमिकता होगी।

स्पेशल अफगानिस्तान सेल का गठन
विदेश मंत्रालय ने कहा है कि अफगानिस्तान से भारतीय नागरिकों को निकालने के लिए एक स्पेशल अफगानिस्तान सेल का गठन किया गया है। मंत्रालय ने बताया कि काबुल हवाई अड्डे पर कमर्शियल संचालन को निलंबित कर दिया है। जिसके कारण लोगों की वापसी के हमारी कोशिशों पर रोक लग गई है। हम उड़ानों के फिर से शुरू होने की इंतजार कर रहे हैं।