पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Market
  • Gautam Adani France's TotalEnergies Green Hydrogen Deal | All You Need To Know

ग्रीन हाइड्रोजन डील:अडाणी की ग्रीन हाइड्रोजन कंपनी में 25% स्टेक खरीदेगी टोटल एनर्जीज, ऐलान के बाद शेयर में तेजी

14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

फ्रांसीसी कंपनी टोटल एनर्जीज (TotalEnergies) और अडाणी न्यू इंडस्ट्रीज लिमिटेड (ANIL) मिलकर दुनिया का सबसे बड़ा ग्रीन हाइड्रोजन इकोसिस्टम बनाने वाले हैं। इसके लिए फ्रांसीसी कंपनी ANIL में 25% हिस्सेदारी खरीदेगी। टोटल एनर्जीज दुनिया के सबसे बड़े ऑयल और गैस प्रोड्यूसर में से एक है। टोटल एनर्जीज की पहले से ही अडाणी टोटल गैस लिमिटेड में 37.4% हिस्सेदारी है।

अडाणी न्यू इंडस्ट्रीज का लक्ष्य अगले 10 साल में ग्रीन हाइड्रोजन इकोसिस्टम में 50 अरब डॉलर (3.9 लाख करोड़ रुपए) से ज्यादा का निवेश करना है। कंपनी 2030 तक हर साल 10 लाख टन की ग्रीन हाइड्रोजन प्रोडक्शन कैपेसिटी डेवलप करेगी। इस घोषणा के बाद अडाणी एंटरप्राइजेज के शेयर में करीब 3% की तेजी देखने को मिल रही है।

अडाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडाणी ने कहा, 'दुनिया में सबसे बड़ा ग्रीन हाइड्रोजन प्लेयर बनने के हमारे सफर में, टोटल एनर्जीज के साथ पार्टनरशिप कई आयामों को साथ जोड़ती है जिसमें रिसर्च एंड डेवलपमेंट, मार्केट रीच और और कंज्यूमर की समझ शामिल है।'

अडाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडाणी और टोटल एनर्जीज के CEO और चेयरमैन पैट्रिक पॉयने
अडाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडाणी और टोटल एनर्जीज के CEO और चेयरमैन पैट्रिक पॉयने

डिमांड पूरी करने के लिए प्रोडक्शन बढ़ाएंगे
टोटल एनर्जीज के CEO और चेयरमैन पैट्रीक पॉयाने ने कहा, ANIL के साथ पार्टनरशिप हमारे रिन्यूएबल और लो कार्बन हाइड्रोजन स्ट्रेटेजी को लागू करने के लिए एक बहुत बड़ा कदम है, जहां हम यूरोपियन रिफाइनरीज में इस्तेमाल होने वाले हाइड्रोजन को 2030 तक डीकार्बोनाइज (कार्बन इमिशन को खत्म करना) करेंगे। इसके साथ डिमांड को पूरा करने के लिए ग्रीन हाइड्रोजन प्रोडक्शन को बढ़ाएंगे।

अडाणी ग्रुप और टोटल एनर्जीज के बीच पार्टनरशिप में अब LNG टर्मिनल, गैस यूटिलिटी बिजनेस, रिन्यूएबल बिजनेस और ग्रीन हाइड्रोजन उत्पादन शामिल है।

ग्रीन हाइड्रोजन क्या है?
ग्रीन हाइड्रोजन,एनर्जी का एक क्लीन सोर्स है। पानी से हाइड्रोजन और ऑक्सीजन को अलग कर हाइड्रोजन का उत्पादन करते हैं। इस प्रोसेस में रिन्यूएबल एनर्जी का इस्तेमाल होता है। इसलिए इससे बनने वाली हाइड्रोजन को ग्रीन हाइड्रोजन कहते हैं।