• Home
  • Economy
  • apparel retailers revenue will decline by 30 to 35 pc in current financial year due to coronavirus pandemic says crisil

कोरोनावायरस का असर /महामारी और लॉकडाउन के कारण डिपार्टमेंटल अपैरल स्टोर्स की आय 40 फीसदी और वैल्यू फैशन रिटेल की आय 30 फीसदी घट जाएगी

देश के संगठित अपैरल रिटेल सेक्टर्स का बाजार 1.7 लाख करोड़ रुपए का है। देश के संगठित अपैरल रिटेल सेक्टर्स का बाजार 1.7 लाख करोड़ रुपए का है।

  • क्रिसिल ने कहा- अपैरल रिटेलर्स की ऑपरेटिंग प्रोफिटेबिलिटी 2 पर्सेंटेज पॉइंट घट सकती है
  • कारोबारी इकाइयों को कर्ज या अन्य तरीकों से अतिरिक्त फंड जुटाने होंगे

मनी भास्कर

Jun 26,2020 06:46:18 PM IST

नई दिल्ली. कोरोनावायरस महामारी की रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण देश के संगठित अपैरल रिटेल सेक्टर्स की आय में चालू कारोबारी साल में 30-35 फीसदी की गिरावट दर्ज की जाएगी। यह बात घरेलू रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने कही। रेटिंग एजेंसी द्वारा शुक्रवार को जारी किए गए एक बयान के मुताबिक देश के संगठित अपैरल रिटेल सेक्टर्स का बाजार 1.7 लाख करोड़ रुपए का है।

ऑपरेटिंग प्रोफिट में भारी गिरावट आएगी

एजेंसी ने कहा कि इस सेक्टर की ऑपरेटिंग प्रोफिटेबिलिटी में दो पर्सेंटेज पॉइंट की गिरावट आएगी।ऑपरेटिंग प्रोफिट में हालांकि भारी गिरावट दर्ज की जाएगी। इसके कारण कारोबारी इकाइयों को अतिरिक्त फंड जुटाने होंगे। इसमें एक बड़ा हिस्सा कर्ज का होगा।

अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में मांग लॉकडाउन के पहले वाले स्तर तक पहुंच सकती है

रेटिंग एजेंसी ने अपने विश्लेषण में कहा कि लॉकडाउन को धीरे-धीरे खोला जा सकता है और अधिकतर स्टोर जून में खूल सकते हैं। फिर भी अक्टूबर-दिसंबर के त्योहारी सत्र तक ही मांग बढ़कर वापस लॉकडाउन के पहले वाले स्तर तक जा सकती है। हालांकि यह इस बात पर निर्भर करेगा कि मांग किस प्रकार से खुलती है और लॉकडाउन के बाद उपभोक्ताओं के व्यवहार में क्या बदलाव आता है।

अपैरल रिटेलर्स की आय में ज्यादा योगदान ऑनलाइन माध्यम का होगा

क्रिसिल ने कहा कि अपैरल सेगमेंट में डिपार्टमेंटल स्टोर फॉर्मेट की आय 40 फीसदी तक घट सकती है। इसका कारण यह है कि इस प्रकार के करीब आधे स्टोर मॉल में या टीयर-1 शहरों में स्थित हैं। वैल्यू फैशन रिटेलर्स की आय 30 फीसदी तक गिरने का अनुमान है। इनकी 50 फीसदी से ज्यादा मौजूदगी टीयर-2 और टीयर-3 शहरों में है। उपभोक्ताओं के व्यवहार में बदलाव के कारण चालू कारोबारी साल में अपैरल रिटेलर्स की आय में ज्यादा योगदान ऑनलाइन माध्यम का होगा।

उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए छूट देनी पड़ सकती है

क्रिसिल रेटिंग के निदेशक गौतम शाही ने कहा कि ज्यादा उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए रिटेलर्स को छूट देनी पड़ सकती है। इसके साथ ही उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग संबंधी नियमों का पालन करने पर खर्च भी बढ़ाना पड़ सकता है। वे किराए को फिक्स्ड से वैरिएबल मोड में ला सकते हैं और कर्मचारियों की संख्या भी घटा सकते हैं। साथ ही वे अन्य खर्चों में भी कटौती कर सकते हैं। इनके कारण इस सेगमेंट की ऑपरेटिंग प्रोफिटेबिलिटी में 2 पर्सेंटेज पॉइंट की गिरावट आ सकती है, जो कारोबारी साल 2020 में 7-8 फीसदी थी।

X
देश के संगठित अपैरल रिटेल सेक्टर्स का बाजार 1.7 लाख करोड़ रुपए का है।देश के संगठित अपैरल रिटेल सेक्टर्स का बाजार 1.7 लाख करोड़ रुपए का है।

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.