• Home
  • Economy
  • Aibb of Bejing will give $ 75 million loan to financially help millions of poor families in India

महामारी में मदद /भारत के लाखों गरीब परिवारों की आर्थिक मदद करने के लिए बीजींग का एआईबीबी 75 करोड़ डॉलर का देगा कर्ज

कोविड-19 क्राइसिस रिकवरी फैसिलिटी (सीआरएफ) के तहत यह दूसरा लोन है कोविड-19 क्राइसिस रिकवरी फैसिलिटी (सीआरएफ) के तहत यह दूसरा लोन है

  • भारत में 81 करोड़ लोग घनी आबादी वाली बस्तियों में रहते हैं
  • एआईबीबी का लोन स्वास्थ्य सिस्टम को मजबूत करेगा

मनी भास्कर

Jun 17,2020 04:48:24 PM IST

मुंबई. बीजिंग स्थित एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (एआईआईबी) भारत को 75 करोड़ डॉलर का कर्ज देगा। महामारी के प्रभाव के चलते मुश्किल में फंस चुके भारत के लाखों गरीब परिवारों की आर्थिक मदद के लिए यह लोन दिया जाएगा। एआईआईबी ने बुधवार को एक बयान में कहा कि कोविड-19 क्राइसिस रिकवरी फैसिलिटी (सीआरएफ) के तहत यह दूसरा लोन है।

यह भारत को महामारी में हुई बीमारी का मुकाबला करने के लिए समन्वित अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया (coordinated international response) के तौर पर दिया जा रहा है।

कुल सॉवरेन लोन अब 3.04 अरब डॉलर हो गया

एआईआईबी की ओर से भारत को दिया गया कुल सॉवरेन लोन अब 3.06 अरब डॉलर हो गया है। इसमें हाल ही में 50 करोड़ डॉलर का कोविड-19 इमरजेंसी रेस्पॉन्स भी शामिल है। यह लोन बहुपक्षीय (मल्टीलेटरल) फंडिंग एजेंसी और एशियाई विकास बैंक द्वारा मिलकर ऑफर किया जा रहा है। यह लोन बिजनेस के लिए आर्थिक सहायता को मजबूत करने, जरूरतमंदों के लिए सामाजिक सुरक्षा का विस्तार करने और देश की स्वास्थ्य देखभाल सिस्टम को मजबूत करने में मदद करेगा।

27 करोड़ लोग गरीबी रेखा से नीचे

भारत महामारी की चपेट में है। यहां लगभग 27 करोड़ लोग गरीबी रेखा से नीचे रहते हैं। लगभग 81 करोड़ लोग घनी आबादी वाली बस्तियों में रहते हैं, जहां स्वास्थ्य सेवाओं की सीमित पहुंच है। आर्थिक गतिविधियों में अड़चन से गरीब परिवारों, विशेष रूप से महिलाओं पर असर पड़ने का खतरा है, जिनमें से कई असंगठित सेक्टर में कार्य करते हैं।

ज्यादातर देश कोरोना संकट के शुरुआती दौर में हैं

दुनिया के कम और मध्यम आय वाले ज्यादातर देश कोरोना संकट के शुरुआती दौर में हैं। वे अभी से ही महामारी के असर को महसूस कर रहे हैं। एआईआईबी के वाइस प्रेसिडेंट (इन्वेस्टमेंट ऑपरेशंस) डी जे पांडियन ने कहा कि यह बीमारी भारत में लाखों लोगों के लिए एक बड़ी मुसीबत बन गई है। खासकर उन लोगों के लिए जो हाल ही में गरीबी से उभरे हैं।

परियोजनाओं के माध्यम से मिलेगा कर्ज

एआईआईबी के पास नीति आधारित फाइनेंसिंग (policy-based financing) के लिए जरूरी साधन नहीं है। यह विश्व बैंक या एशियाई विकास बैंक की मदद से परियोजनाओं के माध्यम से अपने सदस्य देशों को सपोर्ट करने के लिए सीआरएफ के तहत इस तरह के फाइनेंसिंग का विस्तार कर रहा है।

X
कोविड-19 क्राइसिस रिकवरी फैसिलिटी (सीआरएफ) के तहत यह दूसरा लोन हैकोविड-19 क्राइसिस रिकवरी फैसिलिटी (सीआरएफ) के तहत यह दूसरा लोन है

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.