Personal Finance
Peter Drucker
Peter Drucker
मुनाफा किसी कंपनी के लिए उसी तरह है जैसे एक व्यक्ति के लिए ऑक्सीजन।

Update

Experts

Jitendra P.S. Solanki

Jitendra P.S. Solanki , Read answers on your Retirement Queries

Q. मेरी उम्र 42 साल है, मंथली सैलरी 1 लाख रुपए है। मुझे बेटी की शादी और अपना रिटायरमेंट प्लान करना है। क्या करूं? सुरेश सिंह, दिल्ली
A. इतनी कम सूचना के आधार पर आपको गाइड करना काफी कठिन है। न तो आपने अपने व्ययों के बारे में बताया है और न ही अपनी लाइबिलिटीज के बारे में। न ही आपने अपने परिवार के सदस्यों के बारे में कोई सूचना दी है। इस सूचना के आधार पर यह बताना कठिन है कि आपको रिटायरमेंट के बाद के लिए कितनी पूंजी एकत्र होगी और इसके लिए हर महीने कितनी राशि की बचत करनी होगी। हालांकि मैं कुछ बातें जरूर बताना चाहूंगा, ताकि आपको अपने लक्ष्य हासिल करने में आसानी हो सके। लंबी अवधि के लिए पूंजी एकत्र करने के लिए यह जरूरी है कि आप ऐसे वित्तीय विकल्पों में निवेश करें जो महंगाई को पछाड़ते हुए ऊंचे रिटर्न दे सकें। आपकी प्लानिंग के शुरुआती सालों में आपको इक्विटी जैसे विकल्पों में अधिक अनुपात में पैसे लगाने चाहिए। जब आप अपने लक्ष्यों के नजदीक पहुंचें तो आपको इक्विटी से पैसे निकाल कर डेट विकल्प में लगाना शुरू कर देना चाहिए ताकि आपने इक्विटी से जो रिटर्न हासिल किया है, उसे सुरक्षित किया जा सके। अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए एक बैलेंस्ड पोर्टफोलियो बनाना चाहिए जिसमें कुछ हिस्सा डेट और अन्य एसेट क्लास में भी लगा हो। डेट विकल्पों में प्रॉविडेंट फंड अवश्य आपके पोर्टफोलियो में होना चाहिए। नियमित अंतराल पर अपने लक्ष्यों और विकल्पों की समीक्षा करें ताकि आप अपनी वित्तीय स्थिति में हुए किसी संभावित बदलाव के हिसाब से चीजों को ठीक कर सकें। बेटी के विवाह में कितना खर्च होगा, इसका आकलन भी जरूरी है। अगर वर्तमान में विवाह में 15 लाख रुपए खर्च हो रहे हैं और आप यह मान कर चलें कि महंगाई सालाना सात फीसदी की दर से बढ़ने वाली है तो 13 सालों बाद आपके इसके लिए तकरीबन 36 लाख रुपए की जरूरत पड़ेगी। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपको हर महीने 10 हजार रुपए बचाने होंगे और उसे किसी ऐसे विकल्प में लगाना होगा, जो सालाना 12 फीसदी के हिसाब से रिटर्न दे।

Update टैक्सेबल नहीं है इनकम फिर भी फाइल करें ITR, इसके ये हैं पांच फायदे

टैक्सेबल नहीं है इनकम फिर भी फाइल करें ITR, इसके ये हैं पांच फायदे

आम तौर पर टैक्सेबल ब्रैकेट में आने वाले लोग ही इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करते हैं। जिनकी इनकम टैक्सेबल ब्रैकेट में नहीं होता है, वे इनकम टैक्‍स रिटर्न (आईटीआर) फाइल नहीं करते हैं।

Update म्युचुअल फंड में निवेश से पहले रखे इन बातों का ध्यान, मिलेगा अच्छा रिटर्न

म्युचुअल फंड में निवेश से पहले रखे इन बातों का ध्यान, मिलेगा अच्छा रिटर्न

म्युचुअल फंड में किए हुए निवेश पर बैंक एफडी और पोस्टल स्कीम से ज्‍यादा रिटर्न मिलता है। इसके चलते निवेशकों का रुझान तेजी से म्युचुअल फंड स्कीम की ओर बढ़ा है।

Update लोन शिफ्ट करने से पहले इन 6 बातों का रखें खयाल, नहीं होगी परेशानी

लोन शिफ्ट करने से पहले इन 6 बातों का रखें खयाल, नहीं होगी परेशानी

1 अप्रैल से नया लेंडिंग रेट फॉर्मूला लागू हो गया है। इसके बाद कुछ बैंकों ने इंटरेस्ट रेट कम किया है और वे इसका फायदा अपने कस्टमर्स को दे रहे हैं।

Update भारत में पहली बार हुआ प्रॉपर्टी की ऑक्‍शन, बिकीं 4 प्रॉपर्टी

भारत में पहली बार हुआ प्रॉपर्टी की ऑक्‍शन, बिकीं 4 प्रॉपर्टी

देश में पहली बार ऑक्‍शन के माध्‍यम से प्रॉपर्टी की सेल्‍स व परचेज हुई। ओपन ऑक्‍शन में 35 प्रॉपर्टी के लिए बोली हुई, जिसमें चार प्रॉपर्टी बिकीं।