Home »States »Punjab» Petroleum Dealers Strike May Result In Fuel Shortage In Many Parts Of The Country

कल देशभर के कई पेट्रोल पंप्‍स नहीं खरीदेंगे फ्यूल, पेट्रोल मिलने में हो सकती है दिक्‍कत

कल देशभर के कई पेट्रोल पंप्‍स नहीं खरीदेंगे फ्यूल, पेट्रोल मिलने में हो सकती है दिक्‍कत
चंडीगढ़/कोलकाता।डीलर्स मार्जिन बढ़ाने की मांग कर रहे पेट्रोल पंप्‍स गुरुवार से नेशनवाइड प्रोटेस्‍ट शुरू करने जा रहे हैं। इस विरोध प्रदर्शन में देश के कई पेट्रोल पंप एसोसिएशन हिस्‍सा ले रही हैं। इसकी वजह से कई स्‍टेट्स में पेट्रोल मिलने में दिक्‍कत का सामना करना पड़ सकता है। पंजाब के पेट्रोल पंप्‍स ने बुधवार को एलान किया कि वह 3 नवंबर को ऑयल नहीं खरीदेंगे। वहीं, कोलकाता में भी इस विरोध प्रदर्शन की वजह से पेट्रोल की किल्‍लत होने की आशंका जताई जा रही है।
 
पंजाब के 3 हजार पेट्रोल पंप्‍स स्‍ट्राइक पर
पंजाब पेट्रोलियम पंप डीलर्स एसोसिएशन प्रेसीडेंट संदीप सहगल ने कहा कि पंजाब के 3 हजार से भी ज्‍यादा फ्यूल पंप गुरुवार को फ्यूल नहीं खरीदेंगे। पेट्रोलियम प्रोडक्‍टस डीलर्स और ऑयल मार्केटिंग कंपनीज के बीच डीलर्स मार्जिन रिवाइज करने को लेकर आमने-सामने हैं। सहगल ने कहा कि हम लंबे समय से मार्जिन रिवाइज करने की मांग कर रहे हैं। हम चाहते हैं कि डीलर्स का मार्जिन तय करते समय मार्केटिंग कंपनीज को इवैपोरेशन, स्‍टाफ के मिनिमम वेजेस समेत अन्‍य चीजों को भी काउंट करना चाहिए। सहगल ऑल इंडिया पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के सेक्रेटरी भी हैं। उन्‍होंने बताया कि फिलहाल डीलर्स को प्रति लीटर डीजल 1.50 रुपए, तो पेट्रोल के लिए 2.50 रुपए प्रति लीटर मिलता है। सहगल ने चेतावनी दी कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं, तो 15 नवंबर को वह न फ्यूल खरीदेंगे और न ही बेचेंगे।
 
टैक्‍स रेट्स को भी कंट्रोल करने की है मांग
पेट्रोलियम डीलर्स नॉर्दन स्‍टेट्स में फ्यूल के टैक्‍स रेट्स में भी यूनिफॉर्मिटी अपनाने की मांग कर रहे हैं। उनका तर्क है कि पंजाब में पेट्रोल पर काफी ज्‍यादा टैक्‍स लगता है, जिसकी वजह से उन्‍हें काफी भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। मोहाली पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के प्रेसिडेंट अ‍शविंदर मोंगिया ने बताया कि पेट्रोलियम डीलर्स फ्यूल की कम बिक्री की वजह से स्‍ट्रगल कर रहे हैं। उनका नुकसान इस पर लगने वाले हायर टैक्‍सेज की वजह से ज्‍यादा बढ़ रहा है।
 
पश्चिम बंगाल में भी दिखेगा स्‍ट्राइक का असर
दूसरी तरफ, वेस्‍ट बंगाल पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने भी गुरुवार को विरोध प्रदर्शन में हिस्‍सा लेने की बात कही है। एसोसिएशन ऑल इंडिया पेट्रोलियन डीलर्स एसोसिएशन (एआईपीडीए) की तरफ से बुलाए गए विरोध प्रदर्शन में हिस्‍सा लेंगे। डीलर्स के कमिशन फॉर्म्‍यूला में बदलाव करने की मांग को लेकर वेस्‍ट बंगाल की 3 हजार से भी ज्‍यादा पेट्रोल पंप्‍स स्‍ट्राइक में हिस्‍सा लेंगे। इससे यहां फ्यूल की कमी का सामना करना पड़ सकता है।
 
महाराष्‍ट्र में भी है विरोध की तैयारी
वहीं, फेडरेशन ऑफ ऑल महाराष्‍ट्र पेट्रो डीलर्स एसोसिएशन (एफएएमपीईडीए) पहले ही कह चुका है कि वह 3 नवंबर से दो दिन तक स्‍ट्राइक में शामिल होगा। इस दौरान वह फ्यूल नहीं खरीदेगा। उनकी मांग भी डीलर्स के मार्जिन को बढ़ाने की है। इससे पहले अक्‍टूबर महीने में देश के कई पेट्रोल पंप्‍स ने एक से दो घंटे का ब्‍लैकआउट किया था।
 
15 नवंबर को फिर सड़क पर उतरेंगे डीलर्स  
3 नवंबर को फ्यूल न खरीदकर अपना विरोध जताने वाले पेट्रोल पंप्‍स 15 नवंबर को भी विरोध प्रदर्शन की तैयारी कर रहे हैं। उनका कहना है कि अगर गुरुवार के विरोध के बावजूद भी उनकी मांगें नहीं मानीं गईं, तो वे 15 नवंबर को न ही फ्यूल खरीदेंगे और न ही बेचेंगे। इसमें देश के 53 हजार से भी ज्‍यादा पेट्रोल पंप्‍स के हिस्‍सा लेने की संभावना है। 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY