Home »States »Haryana» Steel BIS May Extend Again 4th Time

चौथी बार एक्सटेंड हो सकता है स्टील पर BIS, स्टील कारोबारियों ने बढ़ाया प्रेशर

नई दिल्ली.छोटे स्टील कारोबारी एक बार फिर स्टील प्रोडक्ट पर स्टेनलेस स्टील क्वालिटी कंट्रोल ऑर्डर (बीआईएस) लागू करने की डेडलाइन बढ़ाने की मांग कर रही है। उनके अनुसार बीआईएस लेने वाली कंपनियां कम है। स्टील मंत्रालय पहले ही चार बार बीआईएस की डेडलाइन बढ़ा चुकी है। स्टील एसोसिएशन मंत्रालय को डेडलाइन बढ़ाने का प्रेशर बना रही है।
 
स्टील मंत्रालय बढ़ा सकता है डेडलाइन
 
मेटल एंड स्टेनलेस स्टील मर्चेंट एसोसिएशन (एमएसएमए) के प्रेसिडेंट जितेंद्र शाह ने moneybhaskar.com बताया कि ट्रेडर्स और कारोबारी बीआईएस ऑर्डर टालने की मांग स्टील मंत्रालय से कर रहा है। अभी 8 फरवरी से स्टील क्वालिटी कंट्रोल ऑर्डर (बीआईएस) 2016 लागू होना है। इसका ट्रेडर और कारोबारी विरोध कर रहे हैं और वह इसे छह महीने के लिए आगे बढ़ाए जाने की मांग कर रहे हैं।
 
बीआईएस के लिए नहीं आई ज्यादा एंट्री
 
दुनिया में करीब 200 से अधिक स्टील कंपनियां हैं। अभी तक 8 स्टील मिलों को ही बीआईएस सर्टिफिकेट मिला है। इसमें से 4 इंडियन स्टील प्लांट ने बीआईएस सर्टिफिकेशन लिया है। सेल, बीआरजी और जिंदल के दो प्लांट ने बीआईएस प्लांट ने बीआईएस लिया है। सरकार बीआईएस लागू करती है तो स्टील बीआईएस लेने वाली कंपनियों की मोनोपोली हो जाएगी और वह स्टील और महंगा कर देंगी।
 
 
कंपनियों ने बढ़ाई स्टील की कीमतें 
 
शाह ने  कहा कि कि बीआईएस ऑर्डर के बाद जिंदल ने 25 रुपए प्रति किलों तक फ्लैट स्टेनलेस स्टील की कीमतें बढ़ा चुकी है। सेल ने निकल क्वालिटी का फ्लैट स्टील बनाना बंद कर रखा है। कंपनियां बीआईएस के नाम पर मनमानी कर रही हैं।
 
क्या है बीआईएस ऑर्डर
 
सरकार के नया स्टेनलेस स्टील क्वालिटी कंट्रोल ऑर्डर 2016 जारी किया, जिसके तहत स्टील की मैन्युफैक्चरिंग, इंपोर्ट, स्टोरेज, सेल और डिस्ट्रिब्यूशन के लिए ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (बीआईएस) के तहत रजिस्टर कराना जरूरी है। बीआईएस स्टैंडर्ड पर खरा नहीं उतरने वाले स्टील का प्रोडक्शन, इंपोर्ट, स्टोरेज, सेल और डिस्ट्रिब्यूशन नहीं कर सकते। 
 
अगली स्लाइड में जानेंकारोबारी क्यूं हैं परेशान
 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY