Home »States »Gujarat» Vibrat Gujarat Summit 2017 Has Sign Record MOU

वायब्रेंट गुजरात: अब तक के रिकॉर्ड MOU का दावा, हुए 25 हजार से ज्यादा समझौते

नई दिल्ली। आठवां वायब्रेंट गुजरात समिट 2017 खत्म हो गया है। सरकार का दावा है कि वायब्रेंट गुजरात में इस बार रिकॉर्ड एमओयू 25,578 साइन हुए हैं। सरकार का अनुमान है कि इसके जरिए करीब 30 लाख करोड़ रुपए का इन्वेस्टमेंट आएगा। जो पिछली बार की तुलना में 5 लाख करोड़ रुपए ज्यादा होगा।
 
समिट में ये हुए बड़े एलान 
 
पहले दिन अडाणी ग्रुप ने गुजरात में पांच साल में 49,000 करोड़ रुपए इन्वेस्ट करने की घोषणा की थी। अडानी ग्रुप के इस इन्वेस्टमेंट  के जरिए राज्य में 25 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। मुकेश अंबानी और रतन टाटा ने वही बातें दोहराई जो वो पहले कह चुके हैं। समिट के दूसरे दिन 50,000 करोड़ रुपए के एमओयू साइन किए गए।
 
गुजरात सरकार ने साइन किए 25,578 एमओयू
 
आठंवें वायब्रेंट गुजरात समिट 2017 में 25,578 एमओयू साइन किए हैं। जबकि, साल 2015 में वायब्रेंट गुजरात समिट में 25 लाख करोड़ रुपए के 22,602 एमओयू साइन किए थे। इस साल 2015 की तुलना में 3,000 अधिक एमओयू साइन किए हैं। पहले वायब्रेंट गुजरात समिट-2003 में गुजरात सरकार ने 66,068 करोड़ रुपए के 76 एमओयू साइन किए थे। 
 
गुजरात वायब्रेंट समिट
 
 साल     एमओयू     इन्वेस्टमेंट (लाख करोड़ रुपए में)
 
2003         76            0.66
2005        226            1
2007        675           4.65
2009     8,662          12
2011      7,936          18
2013     17,719         20
2015    22,602         25
2017     25,578         30 (अनुमानित)
 
 
जमीनी स्तर पर कितना हुआ काम?
 
समिट में हुई इन्वेस्टमेंट घोषणाओं में कितना काम जमीनी स्तर पर हुआ, इस पर सवालिया निशान उठते रहे हैंं। इसे लेकर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने कहा कि जितने एमओयू साइन किए गए हैं, उनमें से 80 फीसदी पर काम किया जा चुका है। बचे 20 फीसदी पर राज्य सरकार काम कर रही है।
 
अगली स्लाइड में जानें – क्या कहा कारोबारियों ने..

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY