Home »States »Delhi» SC Asks Centre To Submit An Action Plan Till 25 To Combat Delhi Air Pollution

दिल्‍ली पॉल्‍यूशन : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को एक्‍शन प्‍लान तैयार करने का दिया निर्देश

दिल्‍ली पॉल्‍यूशन : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को एक्‍शन प्‍लान तैयार करने का दिया निर्देश
नई दिल्‍ली।सुप्रीम कोर्ट ने दिल्‍ली में बढ़ते प्रदूषण का संज्ञान लेते हुए केंद्र सरकार को इससे निपटने के लिए एक्‍शन प्‍लान तैयार करने का निर्देश दिया है। कोर्ट ने 25 नवंबर तक एक्‍शन प्‍लान सौंपने को कहा है। कोर्ट ने एक्‍शन प्‍लान न होने को लेकर केंद्र को फटकार भी लगाई।
 
चीफ जस्टिस ने लगाई फटकार
मामले की सुनवाई कर रहे चीफ जस्टिस टी.एस. ठाकुर ने सेंट्रल पॉल्‍यूशन कंट्रोल बोर्ड के प्रतिनिधियों पर जमकर बरसे। उन्‍होंने कहा, ‘क्‍या आपको नहीं दिख रहा है कि दिल्‍ली मर रही है।' चीफ जस्टिस से पहले दिल्‍ली हाईकोर्ट के जस्टिस बदर दुरेज ने भी नेशनल कैपिटल में बढ़ते पॉल्‍यूशन पर चिंता जताई थी। उन्‍होंने कहा था कि अगर यह मर्डर नहीं है, तो मैं नही जानता कि ये क्‍या है।
 
पॉल्‍यूशन को लेकर होगी मीटिंग  
सॉलिसिटर रंजीत कुमार ने कोर्ट से कहा कि वह 19 नवंबर को सभी स्‍टेकहोल्‍डर्स के साथ मीटिंग करेंगे। उन्‍होंने कहा कि कोर्ट की तरफ से दी गई डेडलाइन तक एक्‍शन प्‍लान सब्मिट कर दिया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पॉल्‍यूशन के अलग-अलग स्‍तर तय करने के लिए कहा। जिसमें कम, ज्‍यादा, गंभीर और खतरनाक जैसा स्‍तर तय करने को कहा और उसके ही हिसाब से इसके खिलाफ कदम उठाने का भी निर्देश दिया।
 
सेंट्रल कंट्रोल रूम बनाने पर विचार करे सरकार
कोर्ट ने कहा कि सरकार ये भी देखे कि एयर क्‍वालिटी की जांच के लिए कितने सेंटर्स की जरूरत पड़ेगी। फिलहाल नेशनल कैपिटल में दर्जन भर से ज्‍यादा ऐसे सेंटर्स हैं, जो क्‍वालिटी एयर चेक करने का काम करते हैं। इसमें सेंट्रल पॉल्‍यूशन कंट्रोल बोर्ड, दिल्‍ली पॉल्‍यूशन कंट्रोल बोर्ड और इंडिया मेटियोरोलॉजिकल डिपार्टमेंट शामिल है। बेंच ने कहा कि केंद्र सरकार सेंट्रल कंट्रोल रूम सेटअप करने पर विचार कर सकती है। इससे सभी ऑर्गनाइजेशंस से पॉलयूशन के संबंध में जानकारी इकट्ठी करना आसान हो जाएगा।
 
पंजाब में बढ़ते पॉलयूशन का मुद्दा भी उठाया
चीफ जस्टिस ने सरकार से  यह भी पूछा कि आखिर क्‍यों पंजाब में फसल जलाने से ज्‍यादा एयर पॉलयूशन हुआ है, जबकि उत्‍तरी राज्‍यों में किसान ये काम दशकों से करते चले आ रहे हैं। कोर्ट ने यह इश्‍यू एक्‍सपर्ट पैनल के सामने उठाने का निर्देश दिया है।

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY